scorecardresearch
 

गोपालगंज हादसे के पीछे हो सकती है जहरीली शराब, साबित होने पर 4-4 लाख मुआवजा

यदि विसरा रिपोर्ट में यह बात साबित हो जाती है कि गोपालगंज में हुई मौत जहरीली शराब पीने से हुई है, तो मृतक के परिजनों को चार-चार लाख रुपये मुआवजे के रूप में दिया जाएगा.

नीतीश कुमार नीतीश कुमार

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने माना कि गोपालगंज में 13 लोगों की मौत के पीछे जहरीली शराब हो सकती है. हालांकि अभी इसकी पुष्टि‍ नहीं हुई है, क्योंकि पोस्टमार्टम रिपोर्ट में जहरीली शराब की बात नहीं आई है. सरकार मामले में आगे विसरा रिपोर्ट के आने का इंतजार कर रही है. यानी पोस्टमार्टम अंतिम रिपोर्ट नहीं है.

ऐसे में यदि विसरा रिपोर्ट में यह बात साबित हो जाती है कि गोपालगंज में हुई मौतें जहरीली शराब पीने से हुई है, तो मृतक के परिजनों को चार-चार लाख रुपये मुआवजे के रूप में दिया जाएगा. इसके साथ ही शराब बनाने वाले और पिलाने वालों पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी. गुरुवार को नीतीश रक्षाबंधन के मौके पर पटना के ईको पार्क में पेड़ में राखी बांधने के लिए पहुंचे थे, तभी उन्होंने मीडिया के सवालों का जवाब देते हुए ये बातें कहीं.

सरकार नहीं कर रही लीपापोती
मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार न तो मामले की लीपापोती कर रही है और न ही मामले पर पर्दा डालने की कोशिश की जा रही है. उन्होंने कहा, 'घटना की सूचना मिलते ही बिहार से मुख्य सचिव, डीजीपी और उत्पात विभाग के प्रधान सचिव के साथ बैठक कर अविलंब पूरे मामले की जांच का आदेश दिया था.' मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट में जो बात नहीं आई है, हो सकता है विसरा रिपोर्ट में आ जाए. उन्होंने कहा कि उल्टी होने के बाद ये संभव है कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट में शराब की बात न आए.

परिजन घबराएं नहीं, उन पर नहीं होगी कार्रवाई
मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने मृतक के परिजनों से अपील की है कि वो घबराए नहीं और सरकार को सच्चाई से अवगत कराएं. उन्होंने कहा, 'मैं परिजनों को विश्वास दिलाना चाहता हूं कि उन पर कार्रवाई नहीं होगी. कार्रवाई तो उन पर होगी जिसने जहरीली शराब बनाई और पिलाई. विसरा रिपोर्ट में ये बात साबित हो जाता है कि मौत जहरीली शराब पीने से हुई है तो मृतक के परिजनों को चार-चार लाख मुआवजा दिया जाएगा. जबकि इस धंधे मे शामिल लोगों पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी.'

हर हाल में सफल बनाएंगे शराबबंदी
नीतीश ने इसके साथ ही एक बार फिर दोहराया कि समाज सुधार का यह काम बिहार में किसी भी सूरत में बंद नहीं होगा, फिर चाहे इस रास्ते में कितनी भी बाधाएं क्यों नहीं आए. उन्होंने कहा कि हर मुसीबत का डटकर मुकाबला करते हुए बिहार में शराबबंदी को पूरी तरह सफल बनाया जाएगा.

रक्षा बंधन के मौके पर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा, 'जिस प्रकार भाई अपनी बहन की रक्षा करता है उसी तरह हम सभी पेड़ की रक्षा करने का संकल्प लें. बिहार का हरित आवरण केवल 9 फीसदी था, इसी को देखते हुए बिहार में हरियाली मिशन की शुरुआत की गई. दो साल पहले के आंकड़ों के मुताबिक अब बिहार का हरित आवरण 13 फीसदी हो गया है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें