scorecardresearch
 

बिहार: सीएम नीतीश कुमार बोले- मुफ्त नहीं, सस्ती बिजली मिलनी चाहिए

बिहार विधानसभा के बजट सत्र के तीसरे दिन राज्यपाल के अभिभाषण का जवाब देते हुए मुख्यमंत्री नीतीश ने कहा कि बिहार न्याय के साथ विकास के पथ पर अग्रसर है.

नीतीश कुमार (फाइल फोटो-पीटीआई) नीतीश कुमार (फाइल फोटो-पीटीआई)

  • बिहार न्याय के साथ विकास के पथ पर अग्रसर: नीतीश कुमार
  • सस्ती बिजली मिलनी चाहिए, मुफ्त में नहीं: नीतीश कुमार

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने साफ कहा कि सस्ती बिजली मिलनी चाहिए, मुफ्त में नहीं. उन्होंने कहा कि दिल्ली में मुफ्त बिजली के नाम पर भले ही किसी को वोट मिल गया हो, लेकिन आगे स्थिति क्या होने वाली है, कोई नहीं जानता.

बिहार विधानसभा के बजट सत्र के तीसरे दिन बुधवार को राज्यपाल के अभिभाषण का जवाब देते हुए मुख्यमंत्री नीतीश ने कहा कि बिहार न्याय के साथ विकास के पथ पर अग्रसर है. उन्होंने सरकार की ओर से कराए गए कार्यो का जिक्र करते हुए कहा कि सरकार 'सात निश्चय' पर तेजी से काम कर रही है.

यह भी पढ़ें: नीतीश कुमार का नियोजित शिक्षकों दो टूक, बोले- नहीं दे सकते समान वेतन

उन्होंने कहा कि नल जल योजना के तहत 19 हजार से अधिक वार्डो में पानी पहुंचा दिया गया है. बिजली में सुधार के लिए भी लगातार काम हो रहा है. बिजली व्यवस्था में बिहार दिल्ली से बेहतर है. किसानों को 75 पैसे प्रति यूनिट की दर से सस्ती बिजली दी जा रही है.

सस्ती बिजली

उन्होंने कहा कि मुफ्त नहीं, सस्ती बिजली देनी चाहिए. दिल्ली में बिजली के जर्जर तार नहीं बदले गए, लेकिन बिहार में सभी जर्जर तार बदल दिए गए हैं. अलग फीडर से किसानों को बिजली दी जा रही है. उन्होंने कहा कि बिहार सरकार सौर ऊर्जा पर भी लगातार काम कर रही है.

यह भी पढ़ें: नीतीश-तेजस्वी में 20 मिनट की मुलाकात और विधानसभा से पास हो गया एंटी NRC प्रस्ताव

नीतीश कुमार ने विपक्ष पर कटाक्ष करते हुए कहा कि अपराध के मामले में बिहार 23वें स्थान पर है. नीतीश कुमार ने कहा कि गर्मी के मौसम में मुजफ्फरपुर और गया में बच्चों में फैलने वाली बीमारी से बचाव के लिए टीकाकरण किया जा रहा है. उन्होंने दावा किया कि बिहार के सभी जिलों में आईटीआई की पढ़ाई भी शुरू कर दी गई है.

मुख्यमंत्री ने विधानसभा में कहा कि बिहार प्रत्येक क्षेत्र में आगे बढ़ रहा है. राज्य की शिशु मृत्युदर में सुधार हुआ है. पहले एक सप्ताह में 39 मरीज ही प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पहुंचते थे और आज केंद्र में पहुंचने वालों की संख्या 10 हजार है.

उन्होंने कहा कि सरकार हर तबके के लिए काम कर रही है. किसानों की आमदनी बढ़ाने के लिए पहल की जा रही है. सरकार ने तालाबों को अतिक्रमण मुक्त कराने का काम शुरू किया है. मुख्यमंत्री ने कहा, 'हम जिस काम का वादा करते हैं, उसे पूरा करते हैं.'

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें