scorecardresearch
 

लोक सभा और विधानसभा चुनाव साथ कराने के पक्ष में नीतीश, बोले- हमें मिले पूरा कार्यकाल

नीतीश ने कहा कि हर 5 साल राज्यों में चुनाव होते हैं इससे राज्य के विकास में बाधा होती है और साल भर चुनाव ही होते रहते हैं. इसी के चलते निकाय चुनाव से लेकर विधानसभा और लोकसभा चुनाव एक साथ होने चाहिए.

X
कांग्रेस पर लगाया वंशवाद की शुरुआत का आरोप कांग्रेस पर लगाया वंशवाद की शुरुआत का आरोप

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने लोकसभा और विधानसभा सभा चुनाव एक साथ कराने की मांग का समर्थन किया है. नीतीश ने कहा कि सैद्धांतिक रूप से हमारी पार्टी इसके फैसले के साथ है लेकिन इसका मतलब यह कतई नहीं है कि बिहार विधानसभा 2019 में होगा. उन्होंने कहा कि किसी भी सरकार को 5 साल सरकार चलाने देने की व्यवस्था होनी चाहिए.

नीतीश कुमार पटना में प्रेस कॉन्फ्रेंस कर रहे थे. उन्होंने कहा कि 2019 में बिहार सरकार को साढ़े तीन साल पूरे होंगे, ऐसे में बिना कार्यकाल पूरे हुए 2019 आम चुनाव के साथ चुनाव कराना कैसे ठीक हो सकता है. हालांकि नीतीश ने कहा कि हर 5 साल राज्यों में चुनाव होते हैं इससे राज्य के विकास में बाधा होती है और साल भर चुनाव ही होते रहते हैं. इसी के चलते निकाय चुनाव से लेकर विधानसभा और लोकसभा चुनाव एक साथ होने चाहिए.

वंशवाद कांग्रेस की देन

कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी के बयान के बाद वंशवाद की ताजा बहस पर भी नीतीश कुमार ने अपना पक्ष रखा. उन्होंने कहा कि हमारी पार्टी पहले से ही वंशवाद के खिलाफ है और कांग्रेस पार्टी से इसकी शुरुआत हुई तब जाकर यह अन्य दलों में पहुंचा. नीतीश ने कहा कि अगर इस पर रोक लगे तभी दूसरे लोग भी पार्टी और संगठन में बड़े पद हासिल कर सकते हैं. बीते दिनों राहुल गांधी ने अमेरिका में बयान दिया था कि हमारे देश में राजनीति ही नहीं हर क्षेत्र में वंशवाद हावी है और इसके लिए सिर्फ उन्हें निशाना नहीं बनाया जाना चाहिए.

देश पेट्रोल-डीजल के बढ़े दाम और महंगाई पर भी नीतीश कुमार ने अपना पक्ष रखा. उन्होंने कहा कि पेट्रोल-डीजल को GST के दायरे में लाना है तो पहले इसपर विचार करना होगा. उन्होंने कहा कि टैक्स से होने वाली आमदनी से ही देश का विकास होता है. राज्य और केंद्र की आपसी बातचीत के बाद ही कोई निर्णय किया जाएगा.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें