scorecardresearch
 

Indian Railways: बिहार के इस ब्रिज पर एक साथ दौड़ीं 5 ट्रेनें, भारतीय रेलवे ने बनाया अनोखा रिकॉर्ड

Bihar Sone Bridge: भारतीय रेल ने नया कीर्तिमान बनाया है. रेलवे ने सोन नदी पर बने पुल पर एक साथ 5 ट्रेनों का सफल परिचालन किया. इस पुल की क्षमता 6 ट्रेनों की है. भारतीय रेल के इतिहास में यह अपने आप में अनूठा है.

X
Bihar Sone Bridge Bihar Sone Bridge
स्टोरी हाइलाइट्स
  • सोन ब्रिज से एक साथ 6 ट्रेनों के गुजरने की व्यवस्था की गई है
  • एक साथ हुआ 5 लॉन्ग हॉल ट्रेनों का परिचालन

Bihar Sone Bridge, Train Trial: बिहार में रेलवे ने विकास की नई रेखा खींच दी है. केंद्र सरकार की महत्वकांक्षी योजना 'ईस्टर्न डेडीकेटेड फ्रंट कोरिडोर' का निर्माण कार्य लगभग पूरा हो चुका है. ऐसे में डेहरी के सोन नदी पर बने रेल पुल पर एक साथ पांच ट्रेनों का परिचालन कर रेलवे ने एक कीर्तिमान स्थापित किया गया. साहनेवाल से लेकर पश्चिम बंगाल के दनकुनी तक डेडीकेटेड फ्रंट कॉरिडोर का निर्माण हुआ है, जिसके तहत वेस्टर्न कोरिडोर में 1504 किलोमीटर तथा स्टैंड कोरिडोर में 1856 किलोमीटर का पूरा परिचालन है. यह कॉरिडोर पंजाब, यूपी, हरियाणा, बिहार तथा झारखंड से होकर गुजर रहा है.  

बिहार के डेहरी के सोन ब्रिज पर जब एक साथ 5 लॉन्ग हॉल ट्रेनों का परिचालन हुआ तो इसके साथ ही बिहार में रेलवे ने विकास का एक कीर्तिमान रच दिया.  बता दें कि सोन ब्रिज से एक साथ 6 ट्रेनों के गुजरने की व्यवस्था की गई है, जिसका सफल ट्रायल भी कर लिया गया. 

ईस्टर्न डेडीकेटेड फ्रंट कॉरिडोर कारपोरेशन इंडिया लिमिटेड के द्वारा इसका निर्माण कराया गया है. तमाम तकनीकी बाधा दूर करते हुए जब एक साथ 5 लॉन्ग हॉल ट्रेनों का परिचालन हुआ, तो सभी देखते रह गए. 

सोन नदी पर बने पुल पर एक साथ 5 ट्रेनों का सफल परिचालन किया गया. यह अपने आप में एक रिकॉर्ड है. बता दें कि इस पुल की क्षमता एक साथ 6 ट्रेनों का भार सहन करने की है.  

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें