scorecardresearch
 

बिहार: BJP के दो सांसद आमने-सामने, संपूर्ण क्रांति को लेकर छिड़ी जुबानी जंग

गोड्डा के सांसद निशिकांत दुबे और पाटलिपुत्र से सांसद रामकृपाल यादव संपूर्ण क्रांति एक्सप्रेस को लेकर आमने-सामने आ गए हैं. गौरतलब है कि निशीकांत दुबे ने मांग उठाई है कि रेलवे को दिल्ली और पटना के बीच चलने वाली संपूर्ण क्रांति एक्सप्रेस को विस्तारित करके मधुपुर तक चलाना चाहिए.

संपूर्ण क्रांति एक्सप्रेस संपूर्ण क्रांति एक्सप्रेस

  • संपूर्ण क्रांति एक्सप्रेस को लेकर भिड़े दो भाजपा सांसद
  • ट्रेन के मधुपुर तक विस्तारित करने की मांग पर विवाद

पटना से दिल्ली के बीच चलने वाली संपूर्ण क्रांति एक्सप्रेस को झारखंड के मधुपुर स्टेशन तक विस्तारित किए जाने के मुद्दे पर भाजपा के दो सांसदों के बीच घमासान और गहरा गया है.

गोड्डा के सांसद निशिकांत दुबे और पाटलिपुत्र से सांसद रामकृपाल यादव इस ट्रेन को लेकर आमने-सामने आ गए हैं. गौरतलब है कि निशीकांत दुबे ने मांग उठाई है कि रेलवे को दिल्ली और पटना के बीच चलने वाली संपूर्ण क्रांति एक्सप्रेस को विस्तारित करके मधुपुर तक चलाना चाहिए.

इधर रामकृपाल यादव ने निशिकांत दुबे के इस मांग को सिरे से खारिज कर दिया है. रामकृपाल यादव ने कहा है कि निशिकांत दुबे को इस तरीके की मांग से बाज आना चाहिए.

रामकृपाल के इस बात को लेकर भी निशिकांत दुबे ने दोबारा उन पर हमला बोला है और तंज कसते हुए कहा है कि ट्रेन को मधुपुर तक विस्तारित कर देने की वजह से रामकृपाल यादव पाटलिपुत्र से चुनाव नहीं हारेंगे. निशिकांत दुबे ने मांग की है कि रेलवे बोर्ड को संपूर्ण क्रांति ही नहीं बल्कि पटना राजधानी को भी मधुपुर से चलवाना चाहिए.

निशिकांत दुबे ने कहा कि संपूर्ण क्रांति और राजधानी ट्रेन बेकार में पटना जंक्शन पर 12 घंटे तक खड़ी रहती है. ऐसे में रेलवे बोर्ड का इस समय का सदुपयोग करना चाहिए और उसे मधुपुर तक विस्तारित कर देना चाहिए.

गोड्डा के सांसद निशिकांत दुबे ने इस मामले में कई और सांसदों को लपेट लिया है. उन्होंने कहा कि अगर ट्रेन मधुपुर से खुलती है तो इसका फायदा मुंगेर, बेगूसराय, जमुई और बांका के सांसदों को भी मिलेगा. जाहिर है निशिकांत दुबे इस मामले में कई और सांसदों को लपेटना चाहते हैं.

दरअसल संपूर्ण क्रांति एक्सप्रेस को पटना से मधुपुर ले जाने का विरोध सिर्फ रामकृपाल यादव ही नहीं बल्कि कई और सांसद कर रहे हैं. निशिकांत दुबे अपने पक्ष में भी सांसदों की गोलबंदी कराना चाहते हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें