scorecardresearch
 

बिहार: जहरीली शराब ने फिर ली 5 लोगों की जान, 4 लोग अस्पताल में भर्ती

आज बक्सर जिले के डुमराव में कथित रूप से जहरीली शराब पीने से 5 लोगों की मौत की खबर सामने आई है. घटना बक्सर के मुरार थाना अंतर्गत अंसारी गांव की है.

X
symbolic image symbolic image
स्टोरी हाइलाइट्स
  • बिहार में नहीं थम रही शराब की बिक्री
  • नीतीश सरकार पर बार- बार उठ रहे सवाल

बिहार में शराबबंदी पर बार- बार सवाल खड़े हो रहे हैं. यहां जहरीली शराब से मौतों का सिलसिला खत्म होने का नाम नहीं ले रहा. आज बक्सर जिले के डुमराव में कथित रूप से जहरीली शराब पीने से 5 लोगों की मौत की खबर सामने आई है. घटना बक्सर के मुरार थाना अंतर्गत अंसारी गांव की है. बताया जा रहा है कि देर रात 5 लोगों की जहरीली शराब पीने से मौत हो गई है. इसके अलावा 4 लोगों की हालत गंभीर है, जिनका अस्पताल में इलाज चल रहा है. बक्सर एसपी नीरज कुमार सिंह ने बताया कि प्रशासन को 5 लोगों की मौत के बारे में जानकारी हुई है और इसको लेकर जांच की जा रही है.

गौरतलब है कि हाल ही में नालंदा जिले के सोहसराय में जहरीली शराब पीने से 11 लोगों की मौत हो चुकी है. नालंदा जिले के एसपी ने लोगों के मारे जाने की पुष्टि की थी. मामले के बाद सोहसराय थाने के एसएचओ को सस्पेंड कर दिया गया था. वहीं दो महीने पहले ही गोपालगंज जिले में जहरीली शराब पीने से 40 लोगों की मौत हुई थी. दो महीने पहले हुए शराबकांड के बाद मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने सख्त निर्देश दिए थे कि जिस इलाके में शराब मिलेगी, उसके थानेदार तुरंत सस्पेंड होंगे. उन्होंने ये भी कहा था कि न शराब आने देंगे और न ही किसी को पीने देंगे.

बता दें कि 4 जनवरी को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बताया था कि 26 नवंबर से 2 जनवरी के बीच बिहार में 13,013 केस दर्ज किए गए हैं. इनमें 2.31 लाख लीटर देसी और 3.55 लाख लीटर विदेशी शराब जब्त की गई है. ये आंकड़े बताते हैं कि शराबबंदी वाले बिहार में अब भी शराब आसानी से पहुंच जा रही है.

साल 2015 के बिहार विधानसभा चुनाव में राज्य के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने शराबबंदी करने का वादा किया था. उनके इस वादे का असर ये हुआ था कि महिलाओं का वोटिंग प्रतिशत 60 के करीब हो गया था. कई इलाकों में तो 70 फीसदी से ज्यादा महिलाओं ने वोट दिया था.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें