scorecardresearch
 

बिहार: राज्यसभा की रेस, श्याम रजक को मैदान में उतार सकती है RJD

राष्ट्रीय जनता दल रीना पासवान को समर्थन देने के लिए इसलिए तैयार था, क्योंकि वह एक दलित चेहरा भी थी. मगर अब पार्टी एक और दलित चेहरे पर अपना दाव लगा सकती है. इस नेता का नाम है श्याम रजक.

श्याम रजक के साथ तेजस्वी यादव (फाइल फोटो-PTI) श्याम रजक के साथ तेजस्वी यादव (फाइल फोटो-PTI)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • अब्दुल बारी सिद्दीकी और जगदानंद सिंह के नाम पर भी विचार
  • एनडीए की ओर से सुशील कुमार मोदी बनाए गए हैं प्रत्याशी

14 दिसंबर को होने वाले राज्यसभा चुनाव के लिए राष्ट्रीय जनता दल ने लोक जनशक्ति पार्टी नेता चिराग पासवान की मां और दिवंगत केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान की पत्नी रीना पासवान को उम्मीदवार के तौर पर समर्थन देने का फैसला किया था, मगर जब चिराग पासवान के तरफ से इस ऑफर को लेकर सकारात्मक जवाब नहीं आया तो अब ऐसे में राष्ट्रीय जनता दल दूसरे नामों पर भी विचार कर रहा है.

जानकारी के मुताबिक, राष्ट्रीय जनता दल रीना पासवान को समर्थन देने के लिए इसलिए तैयार था, क्योंकि वह एक दलित चेहरा भी थी. मगर अब पार्टी एक और दलित चेहरे पर अपना दाव लगा सकती है. इस नेता का नाम है श्याम रजक. सूत्रों के मुताबिक एनडीए उम्मीदवार सुशील कुमार मोदी के सामने राष्ट्रीय जनता दल श्याम रजक को अपना उम्मीदवार बना सकती है.

श्याम रजक पहले जनता दल यूनाइटेड में थे और नीतीश कुमार और कैबिनेट में मंत्री भी थे मगर विधानसभा चुनाव से ठीक पहले पाला बदलकर राष्ट्रीय जनता दल में शामिल हो गए मगर किसी कारणवश उन्हें पार्टी का टिकट नहीं मिला. श्याम रजक अपनी परंपरागत सीट फुलवारी शरीफ से टिकट चाहते थे, मगर किसी कारण से उन्हें टिकट नहीं मिला.

अब माना जा रहा है कि श्याम रजक के साथ हुई इस ज्यादती की भरपाई करने के लिए राष्ट्रीय जनता दल उन्हें राज्यसभा भेज सकता है. महागठबंधन के रुख से एक बात तो स्पष्ट है कि वह नीतीश कुमार सरकार के लिए लगातार मुश्किलें खड़ा करना चाहता है. 

देखें आजतक LIVE TV

विधानसभा चुनाव में मिली हार के बाद महागठबंधन ने विधानसभा स्पीकर पद के चुनाव के लिए भी अपना उम्मीदवार खड़ा करके मुकाबला दिलचस्प बना दिया था, हालांकि, अभी स्पीकर के लिए एनडीए उम्मीदवार विजय कुमार सिन्हा को जीत मिली.

अब राज्यसभा चुनाव में भी महागठबंधन एनडीए उम्मीदवार सुशील कुमार मोदी को बिना लड़ाई के जीतने नहीं देना चाहता है और इसीलिए श्याम रजक हो मैदान में उतारने की तैयारी हो रही है.

सूत्रों के मुताबिक राष्ट्रीय जनता दल अपने पार्टी के दो वरिष्ठ नेता अब्दुल बारी सिद्दीकी और जगदानंद सिंह के नाम पर भी विचार कर रहा है. अब्दुल बारी सिद्दीकी पार्टी के वरिष्ठ नेता हैं मगर इस बार विधानसभा चुनाव में उन्हें हार का मुंह देखना पड़ा.

माना जा रहा है कि मुसलमानों को अपने पक्ष में बनाए रखने के लिए आरजेडी अब्दुल बारी सिद्दीकी को भी राज्यसभा में भेजने को लेकर विचार कर रही है. दूसरी तरफ जगदानंद सिंह पति के प्रदेश अध्यक्ष हैं और राजपूत समाज से आते हैं. उनके नाम पर विचार करके भी राष्ट्रीय जनता दल संबंधों को अपने पक्ष में करने की कोशिश कर रही है.


 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें