scorecardresearch
 

बिहार: कोरोना को भगाने के लिए की गई तांत्रिक पूजा, बकरे की दी बलि

गया के कालीबाड़ी मंदिर में विश्व शांति की कामना और कोरोना से मुक्ति के लिए विशेष तांत्रिक पूजा का आयोजन हुआ. इसके लिए बकायदा बकरे को लाया गया और उसकी बलि दी गई.

प्रतीकात्मक तस्वीर ( फोटो-Reuters) प्रतीकात्मक तस्वीर ( फोटो-Reuters)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • कोरोना को भगाने के लिए की गई तांत्रिक पूजा
  • गया में बकरे की दी गई बलि
  • मेडिकल साइंस पर आस्था भारी

कोरोना की दूसरी लहर से लोग इस कदर त्रस्त हो चुके हैं कि अब उन्हें सिर्फ मेडिकल साइंस पर विश्वास नहीं रह गया है, बल्कि वे जरूरत से ज्यादा पूजा-पाठ भी करने लगे हैं. सभी यहीं चाहते हैं कि जल्द से जल्द इस कोरोना महामारी से मुक्ति मिल जाए. अब इसी कड़ी में बिहार के गया में एक तांत्रिक पूजा को अंजाम दिया गया. बकायदा एक बकरे की बलि भी दी गई और भगवान से कोरोना मुक्ति की प्रार्थना रही. इस खास पूजा में कई लोग शामिल हुए.

कोरोना को भगाने के लिए की गई तांत्रिक पूजा

गया के कालीबाड़ी मंदिर में विश्व शांति की कामना और कोरोना से मुक्ति के लिए विशेष तांत्रिक पूजा का आयोजन हुआ. इसके लिए बकायदा बकरे को लाया गया और उसकी बलि दी गई. फिर मंत्रोच्चारण के साथ बकरे के सिर पर कपूर रख घंटों पूजा और आरती की गई. ऐसी मान्यता है कि पुराने समय में भी किसी भी तरह की महामारी के दौरान पूजा अर्चना कर सुख शांति की कामना की जाती रही है. इसी के तहत काली मंदिर में तांत्रिक पूजा का आयोजन किया गया. इस दौरान एक हवन भी होता दिखा. इस पूजा में कई भक्त शामिल हुए और बाद में भंडारे का भी इंतजाम किया गया.

बकरे की दी गई बलि

वहीं कालीबाड़ी मन्दिर के मुख्य पुजारी रवि चक्रवर्ती ने बताया कि 1951 में इस मंदिर की स्थापना की गई और हर वर्ष पूजा होती है. मगर इस वर्ष कोरोना महामारी के चलते माता की विशेष रूप से पूजा अर्चना की गई. प्रार्थना की गई कि सभी को मन की शांति मिले और इस कोरोना महामारी से मुक्ति. यहीं सब बोल माँ को आहुति दी गई. पुजारी ने बताया कि बलि हर बार जी जाती है लेकिन इस बार संकल्प कर के विशेष रूप से बलि दी गई है. प्रार्थना की गई कि कोरोना वायरस खत्म हो जाए और विश्व में कोरोना के नाम पर जो भी कष्ट हो रहा है वो सब दूर हो जाए. 

क्लिक करें- कहीं बाल्टी में हवन, कहीं पूरे शहर में रमाई गई धूनी...अब आस्था से लड़ी जा रही कोरोना की जंग 

मेडिकल साइंस पर आस्था भारी

अब ऐसा सिर्फ गया में होता नहीं दिख रहा है, बल्कि देश के कई हिस्सों में इस समय आस्था पर काफी भरोसा जताया जा रहा है. कोई गोबार में नहा रहा है तो कोई बड़े स्तर पर हवन का आयोजन कर रहा है. हैरानी की बात तो ये भी है कि कुछ लोग अस्पताल में भी मरीज के सामने मंत्र और चालीसा पढ़ कोरोना को भगाने की बात कर रहे हैं. सभी की आस्था का तरीका अलग है, लेकिन उदेश्य सिर्फ एक-कोरोना से मुक्ति. (रिपोर्ट- पंकज कुमार)
 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें