scorecardresearch
 

बिहार में बाढ़ की त्रासदी: 12 जिले बने टापू, 70 लाख की आबादी प्रभावित, अगले 72 घंटे भारी

23 और 24 जुलाई को नेपाल में जबरदस्त बारिश हुई है. नेपाल लगातार पानी छोड़ रहा है. यही वजह है कि जिलों की सभी नदियों में पानी का जलस्तर घटने की जगह और बढ़ गया.

बाढ़ की चपेट में हैं दरभंगा जिले के कई गांव (फोटो-IANS) बाढ़ की चपेट में हैं दरभंगा जिले के कई गांव (फोटो-IANS)

बिहार में बाढ़ का प्रकोप जारी है. कोसी, बागमती, बूढ़ी गंडक, कमला बलान, अधवारा, महानंदा नदियां खतरे के निशान से ऊपर बह रही हैं. शिवहर, सीतामढ़ी, मुजफ्फरपुर, पूर्वी चंपारण, मधुबनी, दरभंगा, सहरसा, सुपौल, किशनगंज, अररिया, पूर्णिया और कटिहार जिले टापू बने हुए हैं.

नेपाल में हो रही भारी बारिश की वजह से कोसी-सीमांचल के जिलों में नदियों का जलस्तर फिर बढ़ने लगा है. इस बीच आपदा प्रबंधन विभाग ने बिहार में अगले 72 घंटे तक के लिए आफत की बारिश का अलर्ट जारी किया है.

बाढ़ के कारण 70 लाख से अधिक आबादी प्रभावित है. राज्य में करीब 81 राहत कैंप लगे हुए हैं, जिसमें 76 हजार से ज्यादा लोगों ने शरण ले रखी है. दरभंगा, सीतामढ़ी और मधुबनी में वायु सेना के हेलीकॉप्टर तैनात हैं, जो कि राहत कामों में लगे हुए हैं.

सीतामढ़ी में बागमती और अधवारा समूह की नदियों का जलस्तर खतरे के निशान से ऊपर बह रहा है. कुछ इलाकों में लोग अब भी बाढ़ के पानी से घिरे हैं. सीतामढ़ी से सटे नेपाल के रौतहट, सर्लाही, धनुषा, महोतरी, बारा और परसा जिले में बागमती समेत दर्जनभर नदियों के उफान के बाद बाढ़ का पानी फैल रहा है.

लगातार हो रही बारिश से शिवहर मे बागमती नदी के जलस्तर में तेजी आ गई है. पुरानी धार एक बार फिर उफान पर है और खतरे के निशान से उपर बह रही है. कटाव को लेकर गांववालों में दहशत हैं. गांव वालों को डर है कि कटाव की वजह से अगर बांध टूटा तो कई गांव में प्रलय आ जायेगी.

दरभंगा जिले में कमला बलान, कोसी, बागमती और अधवारा नदियां उफान पर हैं. जिले में एक तटबंध टूटने से अब तक 13 प्रखंड के 145 पंचायत बाढ़ की चपेट में आ गए हैं. बाढ़ के पानी से 3.5 लाख परिवार फंसा हुआ है. दरभंगा के जिलाधिकारी ने अलर्ट जारी करते हुए सभी सरकारी व गैर सरकारी स्कूल को बंद रखने का आदेश दिया है.

बुरी खबर ये है कि 23 और 24 जुलाई को नेपाल में जबरदस्त बारिश हुई है. नेपाल लगातार पानी छोड़ रहा है. यही वजह है कि दरभंगा जिले की सभी नदियों में बाढ़ का जलस्तर घटने की जगह और बढ़ गया. प्रशासन हाईअलर्ट पर है. प्रशासन को डर है कि अगर नेपाल में ऐसे ही बारिश होती रही तो बिहार में त्रासदी और बढ़ेगी.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें