scorecardresearch
 

तेजस्वी की बस को लेकर विवाद, JDU का आरोप- टिकट देने के बदले मिला गिफ्ट

आरजेडी नेता बस से बेरोजगारी हटाओ यात्रा पर निकलने की तैयारी में हैं, जिसे युवा क्रांति रथ नाम दिया गया है. हालांकि इस यात्रा की शुरुआत होने से पहले ही बस को लेकर बवाल मच गया है.

आरजेडी के नेता बस में सवार होकर करेंगे बिहार का दौरा (Photo- Aajtak) आरजेडी के नेता बस में सवार होकर करेंगे बिहार का दौरा (Photo- Aajtak)

  • बिहार दौरा से पहले तेजस्वी की बस को लेकर बवाल
  • जेडीयू नेता का आरोप- पूर्व MLA ने गिफ्ट किया बस

आरजेडी नेता तेजस्वी यादव 23 फरवरी से 'बेरोजगारी हटाओ' यात्रा पर निकलने वाले हैं. जिस बस पर आरजेडी के नेता सवार होकर बिहार का दौरा करेंगे उसको 'युवा क्रांति रथ' नाम दिया गया है. हालांकि, इस यात्रा की शुरुआत होने से पहले ही इस हाईटेक बस को लेकर विवाद खड़ा हो गया है.

बिहार सरकार के सूचना एवं जनसंपर्क विभाग के मंत्री और जेडीयू नेता नीरज कुमार ने तेजस्वी यादव के इस बस को लेकर उन पर हमला बोला और आर्थिक जालसाजी का आरोप लगाया. नीरज कुमार ने दस्तावेजों के आधार पर आरोप लगाया कि तेजस्वी के यात्रा के लिए जिस महंगी 'BENZ' कंपनी के बस की व्यवस्था की गई है, जिसका नंबर BR 01PK 7187 है उसे आरजेडी के पूर्व विधायक अनिरुद्ध यादव ने खरीदा है और तेजस्वी को दिया है.

करोड़ों की बस खरीदी

नीरज कुमार ने आरोप लगाया कि आगामी राज्यसभा और बिहार विधान परिषद के चुनाव में टिकट प्राप्त करने के लिए अनिरुद्ध यादव ने तेजस्वी के साथ यह डील की है. इस पूरे मसले को लेकर विवाद तब और गहरा गया जब नीरज कुमार के दस्तावेजों से यह बात सामने आई कि अनिरुद्ध यादव ने जो करोड़ों की बस खरीदी है वह उसने अपने नौकर मंगल पाल के नाम पर परिवहन विभाग में रजिस्टर करवाया था.

ये भी पढ़ें- गिरिराज को बीजेपी अध्यक्ष ने किया तलब, देवबंद को बताया था आतंक की गंगोत्री

दस्तावेज के आधार पर नीरज कुमार ने आरोप लगाया कि मंगल पाल अत्यंत गरीब है और 2008 के बीपीएल लिस्ट में उसका नाम भी है. दिलचस्प बात यह है कि इस बस के पंजीकरण के दौरान जो मोबाइल नंबर रजिस्टर करवाया गया है वह पूर्व विधायक अनिरुद्ध यादव का ही है.

क्या डील हुई?

नीरज कुमार ने कहा, मंगल पाल एक निर्धन व्यक्ति है जो बीपीएल कार्ड धारक है. वह गरीबी रेखा के नीचे जीवन बसर करता है. तेजस्वी यादव को बताना चाहिए कि यह कैसा गोरखधंधा है और अनिरुद्ध यादव के साथ इनका क्या संबंध है और उनसे क्या डील हुई है?

हालांकि, इस पूरे विवाद में एक और मोड़ तब आ गया जब पूर्व विधायक अनिरुद्ध यादव ने खुद का बचाव करते हुए कहा कि इस बस को मंगल पाल ने तेजस्वी के लिए खरीदा है. मंगल पाल की आर्थिक स्थिति को लेकर भी अनिरुद्ध यादव ने कह दिया कि वह गरीब नहीं है, बल्कि एक अमीर व्यक्ति है जो जीएसटी फाइल करता है और इनकम टैक्स भी जमा करता है.

ये भी पढ़ें- CAA प्रदर्शन में शामिल हुए इमरान प्रतापगढ़ी को प्रशासन ने भेजा 1 करोड़ का नोटिस

पूर्व विधायक अनिरुद्ध यादव ने कहा, 'मंगल पाल बचपन से ही मेरे परिवार के साथ रहता है और वह परिवार के सदस्य की तरह है. वह एक ठेकेदार है जो इनकम टैक्स जमा करता है और जीएसटी भी फाइल करता है.' अनिरुद्ध यादव के समर्थन में मंगल पाल ने भी कह दिया कि वह एक ठेकेदार हैं और करोड़ों की बस खरीदने में सक्षम हैं. वैसे मंगल पाल ने कहा कि तेजस्वी के लिए विवादित बस को उसके मालिक अनिरुद्ध यादव ने उनके नाम पर खरीद लिया है.

इस पूरे विवाद को बढ़ता देख आरजेडी नेता तेजस्वी यादव भी सामने आए और उन्होंने मंगल पाल का नाम बीपीएल की सूची में होने को लेकर इसे बिहार सरकार की लापरवाही करार दिया. तेजस्वी ने यह भी कहा कि उन्होंने यह बस यात्रा के लिए किराए पर लिया है.

तेजस्वी यादव ने कहा, 'बिहार सरकार से इस सवाल का जवाब लेना चाहिए कि जब अभिनेत्री सनी लियोनी की फोटो मैट्रिक की परीक्षा देने वाले अभ्यर्थी के एडमिट कार्ड पर छप सकता है, तो मंगल पाल का नाम गलती से बीपीएल सूची में क्यों नहीं आ सकता?'

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें