scorecardresearch
 

बिहार: कांग्रेस का दावा- कार्यकाल पूरा नहीं कर पाएगी नीतीश सरकार, सत्ता में लौटेगा महागठबंधन

लोक जनशक्ति पार्टी में मचे बवाल के बाद बिहार की राजनीति पूरी तरीके से गरमाई हुई है और इसी बीच कांग्रेस और जनता दल यूनाइटेड के बीच भी बयानबाजी तेज हो गई है.

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार. (फाइल फोटो) बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार. (फाइल फोटो)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • JDU-कांग्रेस के बीच बयानबाजी तेज
  • कांग्रेस बोली तेजस्वी के नेतृत्व में बनेगी सरकार

लोक जनशक्ति पार्टी में मचे बवाल के बाद बिहार की राजनीति पूरी तरीके से गरमाई हुई है और इसी बीच कांग्रेस और जनता दल यूनाइटेड के बीच भी बयानबाजी तेज हो गई है. एक तरफ जहां जनता दल यूनाइटेड ने दावा किया है कि उनके संपर्क में कांग्रेस के कई विधायक हैं, वहीं दूसरी तरफ अब कांग्रेस ने पलटवार किया है. कांग्रेस ने दावा किया है कि नीतीश कुमार की सरकार बिहार में 5 साल का कार्यकाल पूरा नहीं कर पाएगी.

कांग्रेस नेता ने किया दावा
कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और एमएलसी प्रेमचंद्र मिश्रा ने आजतक से एक्सक्लूसिव बातचीत करते हुए दावा किया कि बिहार में नीतीश कुमार सरकार अपना कार्यकाल पूरा नहीं करेगी और जल्द ही तेजस्वी यादव के नेतृत्व में महागठबंधन की सरकार बिहार में बनेगी. उन्होंने कहा कि “जनता दल यूनाइटेड द्वारा लगातार ऐसा माहौल बनाया जा रहा है क्योंकि एनडीए से जीतन राम मांझी और मुकेश सहनी जाने वाले हैं.''

उन्होंने कहा कि जनता दल यूनाइटेड ऐसा दिखाना चाहती है कि इन नेताओं के एनडीए से निकलने के बाद भी सरकार चलती रहेगी क्योंकि कांग्रेस विधायक टूट जाएंगे. इसी विधानसभा में नीतीश सरकार गिरेगी और महागठबंधन की सरकार बनेगी.” दरअसल, जनता दल यूनाइटेड एमएलसी संजय सिंह ने मंगलवार को दावा किया था कि कांग्रेस के कई विधायक उनकी पार्टी के संपर्क में हैं और जल्द ही कांग्रेस पार्टी टूटेगी. उन्होंने कहा था “कांग्रेस के कई विधायक हमारे संपर्क में हैं. समय आने दीजिए.”

LJP में मचा घमासान
बता दें कि बिहार में राजनीतिक खलबली मची हुई है. नीतीश की विरोधी LJP दो फाड़ हो गई है. दिवंगत रामविलास पासवान के बेटे चिराग पासवान को संसदीय दल के नेता के साथ राष्ट्रीय अध्यक्ष के पद से भी हटा दिया गया. चाचा पशुपति कुमार पारस समर्थित नेताओं ने LJP संविधान का हवाला देते हुए चिराग को राष्ट्रीय अध्यक्ष के पद से हटाया. उनका कहना था कि चिराग तीन-तीन पदों पर एक साथ काबिज थे. वहीं, शाम को चिराग पासवान ने पार्टी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक बुलाई और पांचों सांसदों को निलंबित कर दिया.


 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें