scorecardresearch
 

फैक्ट चेक: ‘बिहार कोकिला’ शारदा सिन्हा की मौत की उड़ी अफवाह, अस्पताल से खुद दी अपनी सलामती की खबर

सोशल मीडिया पर वायरल हो रही पोस्ट में दो फोटो हैं. एक शारदा सिन्हा के फेसबुक पेज से ली गई है और दूसरी फोटो में एक महिला अस्पताल के बेड पर लेटी है.

X
शारदा सिन्हा (फाइल फोटो) शारदा सिन्हा (फाइल फोटो)

कोरोना काल के दौरान कई मशहूर हस्तियों की मौत से जुड़ी फर्जी खबरें वायरल हुईं. इनमें पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी और अभिनेत्री जया भट्टाचार्य जैसी हस्तियां शामिल हैं. इस फेहरिस्त में अब पद्मश्री और पद्मभूषण जैसे सम्मान पा चुकीं लोक गायिका शारदा सिन्हा का भी नाम शामिल हो गया है. सोशल मीडिया पर कोरोना संक्रमण से उनकी मौत की खबरें तेजी से वायरल हो रही हैं.

वायरल पोस्ट

इस पोस्ट का आर्काइव्ड वर्जन यहां देखा जा सकता है.
 
इंडिया टुडे के एंटी फेक न्यूज वॉर रूम (AFWA) ने पाया कि यह दावा गलत है. गायिका शारदा सिन्हा ने 'आज तक' से बातचीत के दौरान बताया कि वे कोरोना संक्रमण के चलते अस्पताल में भर्ती हुई थीं, लेकिन अब उनकी तबियत में सुधार हो रहा है.

सोशल मीडिया पर वायरल हो रही पोस्ट में दो फोटो हैं. एक शारदा सिन्हा के फेसबुक पेज से ली गई है और दूसरी फोटो में एक महिला अस्पताल के बेड पर लेटी है. इन फोटोज के साथ कैप्शन लिखा है, “शारदा सिन्हा जी का निधन. भगवान इनके आत्मा को शांति दे और परिजनों को दुख सहने की शक्ति दें। विनम्र श्रद्धांजलि.”

फेसबुक पर यह दावा काफी वायरल है. ट्विटर पर भी इसे शेयर किया जा रहा है. खबर लिखे जाने तक फेसबुक पर वायरल इस पोस्ट पर तकरीबन दो हजार लोग रिएक्शन दे चुके थे. पोस्ट पर कमेंट करते हुए बहुत सारे लोग ‘सादर नमन’ और ‘Rip’ लिख रहे हैं तो कुछ लोग इस पर संदेह भी जता रहे हैं.
 
दावे की पड़ताल

गायिका शारदा सिन्हा के बेटे अंशुमान सिन्हा ने हमें बताया कि उनकी मां शारदा सिन्हा का पटना के श्री साईं हॉस्पिटल में इलाज चल रहा है. अंशुमान ने 26 अगस्त को उनसे हमारी बात भी करवाई. शारदा सिन्हा ने बताया, “मेरा कोरोना संक्रमण का इलाज चल रहा है और मेरी हालत में लगातार सुधार हो रहा है. मैं अकसर देखती थी कि लोग मशहूर हस्तियों की मौत से जुड़ी झूठी खबरें उड़ा देते हैं, पर मेरे साथ भी कभी ऐसा होगा, यह मैंने सपने में भी नहीं सोचा था. अपनी श्रद्धांजलि की खबर पढ़ना काफी आहत करने वाला है. देश भर के लोगों की दुआएं मेरे साथ हैं, मुझे विश्वास है कि मैं जल्द घर वापस लौटूंगी.”

शारदा सिन्हा के बेटे अंशुमान सिन्हा ने इस बात पर दुख जताया कि सोशल मीडिया पर इस खबर का खंडन करने के बाद भी ज्यादातर लोगों ने उनकी मां के निधन से जुड़े झूठे पोस्ट नहीं हटाए. वे कहते हैं, “यह देखकर मैं हैरान हूं कि अपने पेज के व्यूज और लाइक्स बढ़ाने के लिए लोग किस हद तक गिर सकते हैं. चौंकाने वाली बात तो यह थी कि बहुत सारे संगीत समाज से जुड़े लोगों ने भी इस तरह के पोस्ट शेयर किए. मेरे परिवार को इस अफवाह के चलते बहुत दिक्कतों का सामना करना पड़ा.” अंशुमान ने यह भी बताया कि उनकी मां के निधन से जुड़े फर्जी पोस्ट्स में दिख रही हॉस्पिटल बेड में लेटी महिला की फोटो उनकी मां की नहीं है.

अंशुमान ने फेसबुक के जरिए भी इस दावे का खंडन किया था. वीडियो में देखा जा सकता है कि शारदा सिन्हा खुद अपने ठीक होने की बात कह रही हैं.

भाजपा सांसद मनोज तिवारी ने भी किया खंडन

अंशुमान सिन्हा ने मंगलवार रात एक अन्य फेसबुक पोस्ट के जरिए यह भी बताया कि भाजपा सांसद और भोजपुरी गायक मनोज तिवारी के नाम से चल रहे एक फर्जी अकाउंट के जरिए भी उनकी मां के स्वर्गवास की खबर वायरल हुई थी.

मनोज तिवारी ने मंगलवार देर रात ट्विटर के जरिए गायिका शारदा सिन्हा की मौत की खबर का खंडन किया. उनके ट्वीट पर गायिका शारदा सिन्हा ने भी कमेंट किया, “धन्यवाद मनोज.... ऐसे कुवैचारिक और कुसंस्कृत सोशल मीडिया व्यवहार का मैं खंडन करती हूं. मैं अपनी लड़ाई लड़ रही हूं. कुछ लोग जो ऐसी खबर फैलाना चाहते हैं मुझे कभी कमजोर नही कर पाएंगे. मैंने खून पसीने से अपनी माटी के संस्कृति के नक्शे खींचे हैं.”
 
कैसे फैला यह भ्रम
 
21 अगस्त को शारदा सिन्हा ने फेसबुक लाइव के जरिए अपने कोरोना संक्रमित होने की खबर दी थी. उनके अस्पताल में भर्ती होने के कुछ दिन बाद अचानक सोशल मीडिया पर उनके निधन की खबरें शेयर की जाने लगीं. आखिर यह भ्रम फैला कैसे? यह पता लगाने के लिए हमने कीवर्ड सर्च के जरिए खोजबीन की.

पता चला कि दरअसल ऐसा इसलिए हुआ, क्योंकि हाल ही में बिहार में शारदा सिन्हा नाम की एक दारोगा की कोरोना संक्रमण से मृत्यु हुई थी. प्रभात खबर की रिपोर्ट के मुताबिक, महिला दारोगा की तैनाती बिहार के मोतीहारी नगर थाने में थी.

गायिका शारदा सिन्हा के निधन से जुड़े पोस्ट्स के साथ शेयर हो रही फोटो

फेसबुक पेज ‘बिहार पुलिस परिवार’ में भी हमें वही फोटो मिली, जो वायरल पोस्ट में गायिका शारदा सिन्हा की असली फोटो के साथ शेयर की जा रही है. इस खबर के अनुसार, फोटो में दिख रही महिला दारोगा शारदा सिन्हा है. एक वेबसाइट में भी हमें दारोगा शारदा सिन्हा की मौत की खबर के साथ वही फोटो मिली जो बिहार पुलिस परिवार फेसबुक पेज पर शेयर की गई है.

इस फोटो की सच्चाई जानने के लिए हमने एसपी ईस्ट चंपारण, मोतिहारी नवीन चंद्र झा से संपर्क किया. उन्होंने बताया कि फोटो में दिख रही महिला सब इंस्पेक्टर शारदा सिन्हा हैं, जिनकी कोरोना संक्रमण के चलते पिछले हफ्ते मौत हो गई थी. शारदा सिन्हा की तैनाती मोतिहारी नगर पुलिस स्टेशन में थी.

एक नाम, एक शहर में इलाज के चलते फैली अफवाह

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, दारोगा शारदा सिन्हा की मौत पटना के एक अस्पताल में कोरोना संक्रमण के चलते हुई थी. गायिका शारदा सिन्हा का इलाज भी पटना के ही एक अस्पताल में चल रहा है.

गायिका शारदा सिन्हा के गाए ‘पहिले पहिल छठी मैया’ जैसे छठ गीत देश भर में बहुत लोकप्रिय हैं. बॉलीवुड फिल्म ‘गैंग्स ऑफ वासेपुर 2’ का गीत ‘तार बिजली’ और ‘मैंने प्यार किया’ का ‘कहे तोसे सजना’ भी उन्होंने ही गाया था.

कुल मिलाकर यह साफ है कि गायिका शारदा सिन्हा की मौत की खबर कोरी अफवाह है. कोरोना संक्रमण के चलते वे अस्पताल में भर्ती हैं और उनका इलाज चल रहा है. उनकी मौत की खबर से जुड़ी अफवाह तेजी से इसलिए फैली, क्योंकि बीते हफ्ते शारदा सिन्हा नाम की एक महिला दारोगा का कोरोना संक्रमण के चलते निधन हो गया था.

फैक्ट चेक

सोशल मीडिया यूजर्स

दावा

पद्मश्री से सम्मानित बिहार की चर्चित लोक गायिका शारदा सिन्हा का निधन हो गया है.

निष्कर्ष

कोरोना का इलाज करवाने के लिए अस्पताल में भर्ती गायिका शारदा सिन्हा ने खुद हमें बताया कि वे सही-सलामत हैं और उनकी हालत में सुधार हो रहा है.

झूठ बोले कौआ काटे

जितने कौवे उतनी बड़ी झूठ

  • कौआ: आधा सच
  • कौवे: ज्यादातर झूठ
  • कौवे: पूरी तरह गलत
सोशल मीडिया यूजर्स
क्या आपको लगता है कोई मैसैज झूठा ?
सच जानने के लिए उसे हमारे नंबर 73 7000 7000 पर भेजें.
आप हमें factcheck@intoday.com पर ईमेल भी कर सकते हैं
आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें