scorecardresearch
 

फैक्ट चेक: कितना सही है आरजेडी का छपरा में EVM बदलने का दावा?

वायरल तस्वीरों में दिख रही EVM सरकारी कर्मचारियों को मतगणना की ट्रेनिंग देने के लिए इस्तमाल की गई थी. इन EVM से वोट नहीं डाले गए हैं.

आरजेडी के ट्वीट में दिखाई गई तस्वीर आरजेडी के ट्वीट में दिखाई गई तस्वीर

राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) ने सोमवार को कुछ तस्वीरें ट्वीट कर दावा किया कि बिहार के सारण और महाराजगंज लोकसभा क्षेत्र में BDO की मौजूदगी में EVM से भरी एक गाड़ी शायद स्ट्रांग रूम में घुसने की कोशिश कर रही थी. तस्वीरों में एक लोडिंग टेंपो में कुछ EVM रखी हुई दिख रही हैं. आरजेडी ने ये पोस्ट शेयर कर प्रशासन की नीयत पर सवाल खड़े किए हैं.

आरजेडी ने सोमवार शाम को करीब एक घंटे के अंतराल पर इस सबंध में एक के बाद एक यानी दो ट्वीट किए हैं.

फेसबुक पर यह घटना अलग अलग पेज से खूब वायरल हुई है.

आरजेडी ने इस पोस्ट को फेसबुक पर भी शेयर किया है जिसे स्टोरी लिखे जाने तक 67000 से भी ज्यादा लोग शेयर कर चुके थे. आरजेडी के अलावा भी इस घटना के बारे में हज़ारों लोग फोटो या कंटेंट शेयर कर चुके हैं.

rjd_052119083610.png

इंडिया टुडे एंटी फेक न्यूज़ वॉर रूम (AFWA) ने अपनी पड़ताल में पाया कि इन ईवीएम से वोट नहीं डाले गए थे. इन मशीनों का इस्तेमाल सरकारी कर्मचारियों को मतगणना की ट्रेनिंग देने के लिए हुआ था.  

तस्वीर में दिख रही गाड़ी के नंबर से हमें पता चला कि ये गाड़ी छपरा जिले में ही रजिस्टर्ड है. आरजेडी के पोस्ट में कुछ लोगों ने कमेंट में एक हाथ से लिखे हुए लेटर को ट्वीट किया है. इस लेटर में सारण से आरजेडी प्रत्याशी चंद्रिका राय के चुनाव अभिकर्ता प्रो. डॉ लालबाबू यादव के हस्ताक्षर नजर आ रहे हैं.

लेटर में लिखा हुआ है कि 20 मई को 12 EVM और 12 VVPAT को सारण निर्वाचन क्षेत्र में छपरा सदर प्रखंड के पास स्थित EVM वेयर हाउस से LNB स्कूल में मतगणना प्रशिक्षण देने के लिए ले जा गया था. ट्रेनिंग खत्म हो जाने के बाद EVM को वापस वेयर हाउस में रख दिया गया है. लेटर में इस पूरी प्रक्रिया को लेकर संतुष्टि जाहिर की गई है और लिखा गया है कि निर्वाचन संचालन पूरी पारदर्शिता से किया जा रहा है.   

जब इस लेटर को लेकर हमारी बात छपरा जिला मजिस्ट्रेट सुब्रता कुमार सेन से हुई तो उन्होंने हमें बताया कि लेटर में लिखी गई बात सही है. वायरल तस्वीरों में दिख रही EVM सरकारी कर्मचारियों को मतगणना की ट्रेनिंग देने के लिए इस्तमाल की गई थी. इन EVM से वोट नहीं डाले गए हैं. डीएम का कहना था कि उन्हीं के सामने चुनाव अभिकर्ता लालबाबू यादव और आरजेडी प्रत्याशी चंद्रिका राय इस पूरी प्रक्रिया पर संतुष्टि भी जाहिर कर चुके हैं.

इस संबध में हमारी बात निर्वाचन आयोग के प्रवक्ता से भी हुई. उन्होंने भी इस लेटर को सही ठहराया. हालांकि ये बता पाना मुश्किल होगा कि ये गाड़ी स्ट्रांग रूम के पास जा रही थी कि नहीं. इस मामले में लालबाबू यादव ने लोकल मीडिया को सफाई देते हुए कहा है कि जिला प्रशासन के स्पष्टीकरण से वो संतुष्ट हैं.

फैक्ट चेक

राष्ट्रीय जनता दल

दावा

सारण और महाराजगंज लोकसभा क्षेत्र में BDO की मौजूदगी में EVM से भरी एक गाड़ी स्ट्रांग रूम में घुसने की कोशिश कर रही थी.

निष्कर्ष

ये अतिरिक्त EVM थीं जो कि सरकारी कर्मचारियों को मतगणना की ट्रेनिंग देने के लिए इस्तेमाल की गई थीं. ट्रेनिंग खत्म हो जाने के बाद EVM को वापस वेयर हाउस में रखने के लिए ले जाया जा रहा था.

झूठ बोले कौआ काटे

जितने कौवे उतनी बड़ी झूठ

  • कौआ: आधा सच
  • कौवे: ज्यादातर झूठ
  • कौवे: पूरी तरह गलत
राष्ट्रीय जनता दल
क्या आपको लगता है कोई मैसैज झूठा ?
सच जानने के लिए उसे हमारे नंबर 73 7000 7000 पर भेजें.
आप हमें factcheck@intoday.com पर ईमेल भी कर सकते हैं
आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें