scorecardresearch
 

फैक्ट चेक: खून में लथपथ इस बच्ची की तस्वीर का भारत से कोई नहीं लेना देना

सोशल मीडिया पर दो तस्वीरों का एक कोलाज जमकर वायरल हो रहा है, जिसमें बुरी तरह से घायल एक बच्ची नजर आ रही है. दावा किया जा रहा है कि भारतीय मुसलमानों द्वारा ट्रेन पर किए गए पथराव में इस बच्ची को चोट लगी है.

X
वायरल तस्वीर वायरल तस्वीर

नागरिकता संशोधन कानून को लेकर देशभर में बवाल मचा हुआ है. पूर्वोत्तर के राज्यों से लेकर बंगाल में हो रही हिंसा में कुछ ट्रेनों को भी नुकसान पहुचाएं जाने की खबर है. सोशल मीडिया पर भी ऐसे कुछ वीडियो भी वायरल है, जिसमें प्रदर्शन के दौरान लोगों को ट्रेनों पर पथराव करते हुए देखा जा सकता है.

इसी को लेकर सोशल मीडिया पर दो तस्वीरों का एक कोलाज जमकर वायरल हो रहा है, जिसमें बुरी तरह से घायल एख बच्ची नजर आ रही है. दावा किया जा रहा है कि भारतीय मुसलमानों द्वारा ट्रेन पर किए गए पथराव में इस बच्ची को चोट लगी है.

पहली तस्वीर में बच्ची खून से लथपथ दिख रही है और दूसरी तस्वीर में बच्ची के सिर पर पट्टी बंधी हुई है.

तस्वीर से जुड़े कैप्शन में लिखा है 'Thank you Indian Muslims ये बच्ची भी उस ट्रेन में बैठी थी, जहां पर आप पत्थर से मार कर रहे थे, आप कुछ मत बोलना इस बच्ची के लिए अन्यथा आपका भाईचारा टूट जाएगा'.

इंडिया टुडे एंटी फेक वॉर न्यूज रूम (AFWA) ने पाया कि तस्वीर के साथ किया जा रहा दावा गलत है. वायरल हो रही तस्वीर भारत की नहीं ,बल्कि बांग्लादेश की है.

Arjun Yaduvanshi नाम के एक फेसबुक यूजर ने यह भ्रामक पोस्ट शेयर किया है.

इसी तरह के कैप्शन के साथ फोटो को फेसबुक पेज 'संघ, सेवा साधना समपर्ण' ने भी पोस्ट किया है. जिसे खबर लिखने तक हजार से भी ज्यादा बार शेयर किया जा चुका है.

इस पोस्ट का आर्काइव्ड वर्जन यहां देखा जा सकता है.

वायरल तस्वीर को रिवर्स सर्च करने पर हमें United News of Bangladesh और Zee 24 Ghanta के आर्टिकल मिले, जिसमें बच्ची की तस्वीर मौजूद थी.

आर्टिकल के मुताबिक, बांग्लादेश के ब्राह्मणबाड़िया में 12 नवंबर 2019 भीषण ट्रेन हादसा हुआ था, जिसमें 16 लोगों की मौत और 50 से अधिक लोग घायल हुए थे. वायरल तस्वीर में दिख रही बच्ची भी इसी हादसे में घायल हुई थी. बच्ची को बाद में उपचार के लिए अस्पताल लाया गया था.

हालांकि, नागरिकता बिल को लेकर चल रहे प्रदर्शनों के कारण त्रिपुरा में भी एक बच्चे की मौत की खबर है. NDTV की एक रिपोर्ट के मुताबिक, कुछ दिनों पहले त्रिपुरा के बिशरामगंज में हिसंक प्रदर्शन में एक एम्बुलेंस रास्ते में फंस गई थी, जिसके कारण दो महीने के एक बीमार बच्चे की मौत हो गई थी.

फैक्ट चेक

फेसबुक यूजर्स जैसे  ArjunYaduvanshi और 'संघ, सेवा साधना समपर्ण'

दावा

भारतीय मुसलमानों द्वारा ट्रेन पर किए गए पथराव में इस बच्ची को चोट लगी है.

निष्कर्ष

वायरल तस्वीर भारत की नहीं, बल्कि बांग्लादेश की है.

झूठ बोले कौआ काटे

जितने कौवे उतनी बड़ी झूठ

  • कौआ: आधा सच
  • कौवे: ज्यादातर झूठ
  • कौवे: पूरी तरह गलत
फेसबुक यूजर्स जैसे  ArjunYaduvanshi और 'संघ, सेवा साधना समपर्ण'
क्या आपको लगता है कोई मैसैज झूठा ?
सच जानने के लिए उसे हमारे नंबर 73 7000 7000 पर भेजें.
आप हमें factcheck@intoday.com पर ईमेल भी कर सकते हैं
आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें