scorecardresearch
 

कोरोना से ठीक होने के बाद अमिताभ बच्चन हाजी अली गए? भ्रामक है वायरल पोस्ट

इंडिया टुडे एंटी फेक न्यूज़ वॉर रूम (AFWA) ने पाया कि तस्वीर के साथ किया जा रहा दावा गलत है. ये तस्वीर 2011 की है और अजमेर शरीफ की है. तस्वीर को फेसबुक पर गलत दावे के साथ सैकड़ों लोग शेयर कर चुके हैं.

वायरल तस्वीर वायरल तस्वीर

मेगास्टार अमिताभ बच्चन की सोशल मीडिया पर वायरल एक तस्वीर के साथ दावा किया गया है कि अमिताभ के कोरोना पॉजिटिव होने पर उनके लिए मंदिरों में पूजा हुई, लेकिन ठीक होने के बाद वे मुंबई स्थित हाजी अली दरगाह चादर चढ़ाने गए. तस्वीर में अमिताभ बच्चन काली टोपी लगाए भीड़ में फंसे नज़र आ रहे हैं. वायरल पोस्ट में अमिताभ के शो "कौन बनेगा करोड़पति" के बॉयकॉट की भी बात की जा रही है 

तस्वीर के साथ कैप्शन में लिखा गया है "जब इस को कोरोना हुआ था तब इसके जल्द ही स्वस्थ होने के लिए मंदिरों मे आरती..यग..सुंदर काण्ड का अखंड पाठ हो रहा था...और ये ठीक होने के बाद चादर चढ़ाने हाजी अली की दरगाह गया...So sad...Boycott कौन बनेगा करोड़पति."

बता दें कि अमिताभ बच्चन ने अपने कोरोना पॉजिटिव होने की जानकारी 11 जुलाई को अपने ट्विटर हैंडल पर दी थी. 2 अगस्त को ठीक होने के बाद उन्हें अस्पताल से छुट्टी मिल गई. 

इंडिया टुडे एंटी फेक न्यूज़ वॉर रूम (AFWA) ने पाया कि तस्वीर के साथ किया जा रहा दावा गलत है. ये तस्वीर 2011 की है और अजमेर शरीफ की है. तस्वीर को फेसबुक पर गलत दावे के साथ सैकड़ों लोग शेयर कर चुके हैं. ट्विटर पर भी ये पोस्ट वायरल हो रही है. वायरल पोस्ट का आर्काइव यहां देखा जा सकता है. 

तस्वीर को गूगल पर रिवर्स सर्च करने पर इसकी सच्चाई सामने आ गई. हमें इंडिया टुडे की 2011 की एक फोटो गैलरी मिली जिसमें वायरल फोटो मौजूद थी. ये तस्वीर 4 जुलाई 2011 की है जब अमिताभ बच्चन राजस्थान के अजमेर में मोईनुद्दीन चिश्ती की दरगाह पहुंचे थे. इस दौरान दरगाह में अमिताभ ने मखमल की शॉल चढ़ाई थी. 

"द हिन्दू" ने भी अमिताभ के अजमेर शरीफ पहुंचने को लेकर खबर प्रकाशित की थी. अमिताभ ने उस समय ट्वीट में कहा था कि वो अजमेर शरीफ 40 साल बाद आये है. अमिताभ के मुताबिक उन्होंने एक मन्नत मांगी थी, जो पूरी हो चुकी थी. 2011 में अजमेर शरीफ जाकर उन्होंने अपने 40 साल पहले बांधे मन्नत के  धागे को खोला था. अमिताभ के अजमेर शरीफ पहुंचने के वीडियो भी इंटरनेट पर मौजूद हैं. 

 

वायरल पोस्ट को लेकर हमारी बात हाजी अली ट्रस्ट के प्रवक्ता मोहम्मद ताहिर से भी हुई. उनका कहना था कि कोरोना के चलते इस समय हाजी अली दरगाह बंद है. ताहिर ने अमिताभ के हाजी अली आने की बात से इनकार किया. ताहिर के मुताबिक अमिताभ आखिरी बार दरगाह लगभग एक साल पहले आये थे. 

यहां पर ये बात साफ हो जाती है कि वायरल पोस्ट भ्रामक है. अमिताभ की ये तस्वीर 9 साल से ज्यादा पुरानी है और अजमेर शरीफ की है, ना कि हाजी अली दरगाह की. 

फैक्ट चेक

सोशल मीडिया यूजर्स

दावा

अमिताभ के कोरोना पॉजिटिव होने पर उनके लिए मंदिरों में पूजा हुई, लेकिन ठीक होने के बाद अमिताभ मुंबई स्थित हाजी अली दरगाह चादर चढ़ाने गए.

निष्कर्ष

ये तस्वीर 2011 की है और अजमेर शरीफ की है. कोरोना से ठीक होने के बाद अमिताभ हाजी अली दरगाह नहीं गए.

झूठ बोले कौआ काटे

जितने कौवे उतनी बड़ी झूठ

  • कौआ: आधा सच
  • कौवे: ज्यादातर झूठ
  • कौवे: पूरी तरह गलत
सोशल मीडिया यूजर्स
क्या आपको लगता है कोई मैसैज झूठा ?
सच जानने के लिए उसे हमारे नंबर 73 7000 7000 पर भेजें.
आप हमें factcheck@intoday.com पर ईमेल भी कर सकते हैं
आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें