scorecardresearch
 

ई-एजेंडा में बोले अशोक गहलोत-भीलवाड़ा मॉडल की मार्केटिंग हमने नहीं, केंद्र ने की

ई-एजेंडा 'आजतक' के मंच पर राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि देश में हर राज्य की भौगोलिक स्थिति अलग है. यहां सवाल केंद्र का आदेश मानने का नहीं, लोगों का जान बचाने का है. इस दौरान उन्होंने कहा कि भीलवाड़ा मॉडल की मार्केंटिंग हमने नहीं बल्कि भारत सरकार ने खुद की है.

X
राजस्थान के सीएम अशोक गहलोत राजस्थान के सीएम अशोक गहलोत

  • अशोक गहलोत ने कहा- मुस्लिम इलाकों में छूट देने की बात बेकार
  • केंद्र ने भीलवाड़ा फॉर्मूले को अन्य जगह लागू करने की बात की है

लॉकडाउन-2 के बीच ई-एजेंडा 'आजतक' में शामिल हुए राजस्थआन के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि केंद्र के सहयोग के बिना राज्य काम नहीं कर सकते. देश में हर राज्य की भौगोलिक स्थिति अलग है. यहां सवाल केंद्र का आदेश मानने का नहीं बल्कि लोगों की जान बचाने का है. इस दौरान उन्होंने कहा कि भीलवाड़ा मॉडल की मार्केंटिंग हमने नहीं की है बल्कि भारत सरकार ने की है.

सीएम गहलोत ने कहा कि हर जगह की भौगोलिक और आर्थिक स्थिति अलग-अलग होती है और वहां की स्थिति को समझना चाहिए. कोरोना से अभी लोगों की जिंदगी बचाने का सवाल है, ऐसे में लॉकडाउन में ढील देने का सवाल ही नहीं है. भीलवाड़ा मॉडल की हमने कोई मार्केंटिंग नहीं की थी. इसे लेकर भारत सरकार ने ही कहा था कि भीलवाड़ा फॉर्मूले को हम अन्य जगह पर लागू करेंगे. अब वही कह रहे हैं कि जोधपुर और जयपुर के मुस्लिम इलाके में छूट दे रहे हैं, ऐसी बेतुकी बातें की जा रही हैं. गहलोत ने कहा कि हम केंद्रीय गाइडलाइन को मान कर चल रहे हैं.

मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य में 281 इकोनॉमिक क्षेत्र हैं. धीरे-धीरे कई क्षेत्रों में काम शुरू हो रहे हैं. लोग काम करने आ रहे हैं. धीरे-धीरे मजदूर आ रहे हैं. आगे भी आते रहेंगे. उन्होंने कहा कि दुकानें खोलना केंद्र का अच्छा कदम है और इससे लोगों में कॉन्फिडेंस बढ़ेगा. मजदूर दुखी हैं किसान दुखी हैं. लोग दुखी हैं. योजनाबद्ध तरीके से लॉकडाउन को खत्म करेंगे. हमारी अर्थव्यवस्था तबाह हो गई है. केंद्र को भी बड़ा नुकसान हुआ है. दुकानें खोलने का फैसला सही है. धीरे-धीरे सब चीजें खुलेंगी.

कोरोना पर फुल कवरेज के लि‍ए यहां क्ल‍िक करें

उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार विवाद पैदा कर रही है. बोला कुछ जाता है लिखित में आदेश कुछ नहीं दिया जाता है. गृह मंत्रालय मौखिक रूप से आदेश दे रहा है, लेकिन लिखित रुप में आदेश क्यों नहीं दे रहा. उन्होंने यह भी कहा कि लॉकडाउन के दौर में कर्फ्यू में कोई ढील नहीं दी गई. लेकिन लोगों को कर्फ्यू का पालन करना होगा और हर किसी को मास्क लगाना होगा.

कोरोना कमांडोज़ का हौसला बढ़ाएं और उन्हें शुक्रिया कहें...

राहुल गांधी के लॉकडाउन को कारगर नहीं माने जाने पर अशोक गहलोत ने कहा कि राहुल गांधी का कहना है कि लॉकडाउन किसी चीज का स्थायी समाधान नहीं है. लॉकडाउन से रोकथाम होगी लेकिन इलाज नहीं होगा. इससे बीमारी कम होगी लेकिन खत्म नहीं होगी. इस बात को विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन (डब्‍ल्‍यूएचओ) ने भी कहा है, ऐसे में राहुल गांधी ने जो कहा है वो गलत नहीं है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें