scorecardresearch
 

गुलाम अली ने ‘चुपके-चुपके’ याद दिलाया आशिकी का वो जमाना

गुलाम अली ने ‘चुपके-चुपके’ याद दिलाया आशिकी का वो जमाना

एजेंडा आजतक में गजल गायक गुलाम अली ने अपनी मशहूर गजल ‘चुपके-चुपके रात दिन आंसू बहाना याद है’ सुनायी तो यकीनन हर किसी को अपने स्‍कूल-कॉलेज के आशिकी का वो जमाना याद आ गया होगा.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें