scorecardresearch
 

एजेंडा आज तक में बोले अखिलेश- अब हमें मायावती को बहन जी नहीं, बुआ बुलाना चाहिए

एजेंडा आज तक में पहुंचे उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा कि यूपी में नरेंद्र मोदी की कोई लहर नहीं है और कुछ दिनों बाद होने वाले चुनाव में ये साफ हो जाएगा. मायावती के लिए संबोधन पर परिहास करते हुए वह बोले कि हमें उनको अब बहन जी नहीं बुआ बोलना चाहिए.

अखिलेश यादव अखिलेश यादव

एजेंडा आज तक में पहुंचे उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा कि यूपी में नरेंद्र मोदी की कोई लहर नहीं है और कुछ दिनों बाद होने वाले चुनाव में ये साफ हो जाएगा. मायावती के लिए संबोधन पर परिहास करते हुए वह बोले कि हमें उनको अब बहन जी नहीं बुआ बोलना चाहिए.

सियासत पर बात करते हुए अखिलेश बोले कि समाजवादी पार्टी पूरे देश में किसी से भी चुनाव के पहले गठबंधन नहीं करेगी. कांग्रेस के साथ को खारिज करते हुए उन्होंने कहा कि वह रेस में ही नहीं है. मायावती पर हमला करते हुए अखिलेश ने कहा कि पिछली सरकार जनता का पैसा पत्थरों पर खर्च कर रही थी.

जानिए और क्या बोले अखिलेश:
पिता जी श्री मुलायम सिंह यादव ने यही लक्ष्य दिया था कि फैसले और काम तेजी से हों. मायावती पर हमला करते हुए अखिलेश बोले कि बजट का पैसा पत्थरों पर खर्च हो रहा था. उन्होंने कहा कि हमने पुरानी सरकार की बेकार योजनाओं को रोककर जनता के खजाने का पैसा जनता तक पहुंचाया.

राज्य में गिरती कानून व्यवस्था के मुद्दे पर अखिलेश बोले कि आपको मामले दिखते हैं क्योंकि हमारे निर्देश पर पुलिस शिकायत दर्ज करती है, मामला छिपाती नहीं.

सरकार को कई मुख्यमंत्री चला रहे हैं, इस सवाल पर अखिलेश का जवाब था कि सपा सरकार की उपलब्धियों पर कोई बात नहीं कर रहा. कोई विद्या धन या लैपटॉप स्कीम पर बात नहीं कर रहा, वहां सब कह रहे हैं कि सरकार ठीक कर रही है.

आजम खान के सवाल पर अखिलेश ने कहा कि आप जानते हैं कि सरकार कैसे चलती है. उन्होंने कहा कि कैबिनेट का आखिरी फैसला सीएम ही लेता है. दंगों के सवाल पर अखिलेश ने कहा कि जब कभी सपा की सरकार आती है, कई ताकतें सामने आ जाती हैं, मगर हम उनसे सख्ती से निपटते हैं.

अल्पसंख्यकों के तुष्टीकरण के सवाल पर यूपी के सीएम बोले कि चाहे दंगे हों या कोई और कल्याणकारी योजना, सरकार हिंदू और मुसलमान में फर्क नहीं करती. उन्होंने कहा कि रही झूठे मुकदमे वापस लेने की बात, तो ऐसा सिर्फ मुस्लिम युवकों के साथ ही नहीं किया गया. कई विपक्षी पार्टी के नेताओं के खिलाफ भी मामले वापस लिए गए.

मोदी के मसले पर अखिलेश बोले कि टीवी वाले रैलियों का मुकाबला करवा रहे हैं. हमको हकीकत पता है. ऑडियंस में बैठे विहिप के प्रवीण तोगड़िया ने अखिलेश यादव से सवाल पूछा कि आपकी सरकार सिर्फ मुसलमानों की बेटियों को ही बीस हजार की प्रोत्साहन राशि क्यों देती है? सिर्फ मुसलमान आरोपियों को ही कानूनी राहत क्यों देती है? क्या यह देश के खिलाफ नहीं है? इस पर अखिलेश बोले कि संविधान में कहां लिखा है कि कोई राजनीतिक दल अपने चुनावी मेनिफेस्टो को लागू न करे. हमने जो किया अपने घोषणापत्र के अनुसार और कानून के तहत किया.

चुनावी गठबंधन के सवाल पर अखिलेश बोले कि हम चुनावों में पूरे देश में किसी से भी गठबंधन नहीं करेंगे. उन्होंने तीसरे मोर्चे की हिमायत करते हुए कहा कि चुनाव के बाद इस पर बात करना ठीक होगा.

सपा के अंग्रेजी विरोध पर सीएम की सफाई थी कि हम उस भाषा के खिलाफ नहीं हैं. हम इतना चाहते हैं कि हिंदी को प्रतिष्ठा और सम्मान से जोड़ा जाए न कि अंग्रेजी को.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें