scorecardresearch
 
एजेंडा आजतक 2013

राजनेताओं ने इस मंच को भी बना डाला मजहब की राजनीति का अखाड़ा

राजनेताओं ने इस मंच को भी बना डाला मजहब की राजनीति का अखाड़ा
  • 1/14
मजहब की राजनीति ने भारत को न जाने कितने जख्म दिए हैं. फिर भी हर बार चुनावों के समय यह उन्माद इतना तेज कैसे हो जाता है. इस पर चर्चा हुई एजेंडा आज तक के सेशन 'वोट अपना मजहब पराया' में.
राजनेताओं ने इस मंच को भी बना डाला मजहब की राजनीति का अखाड़ा
  • 2/14
सेशन में मेहमान थे जमीयत उलेमा-ए-हिंद मौलाना महमूद मदनी, बीजेपी के शाहनवाज हुसैन, विश्व हिंदू परिषद के प्रवीण तोगड़िया, वरिष्ठ नेता और एडवोकेट आरिफ मोहम्मद खान और कांग्रेस प्रवक्ता राशिद अल्वी.
राजनेताओं ने इस मंच को भी बना डाला मजहब की राजनीति का अखाड़ा
  • 3/14
प्रवीण तोगड़िया ने कहा कि देश के सभी राजनीतिक दल मुगलों की तरह हिंदुओं के खिलाफ काम कर रहे हैं. सबको मुस्लिम वोट बैंक की चिंता है और इसके फेर में देश की एकता-अखंडता और बहुसंख्यक हिंदू खतरे में है.
राजनेताओं ने इस मंच को भी बना डाला मजहब की राजनीति का अखाड़ा
  • 4/14
बीजेपी का मुसलमानों के प्रति रुख क्या है. इस सवाल पर शाहनवाज हुसैन बोले कि बीजेपी के बारे में लोगों की राय हमारी वजह से नहीं बनी है.
राजनेताओं ने इस मंच को भी बना डाला मजहब की राजनीति का अखाड़ा
  • 5/14
क्या मजहब इस देश में बस एक सियासी हथियार है. इस सवाल पर मदनी ने कहा कि हां लोग मजहब का इस्तेमाल करते हैं क्योंकि इससे सत्ता में आना और मुद्दा उठाना दोनों कुछ आसान हो जाता है.
राजनेताओं ने इस मंच को भी बना डाला मजहब की राजनीति का अखाड़ा
  • 6/14
मेजॉरिटी-माइनॉरिटी की बहस में हिस्सा लेते हुए मौलाना मदनी ने एक शेर पढ़ा कि हम इसी वतन की खाक हैं, हम यहीं मिलाए जाएंगे, न बुलाए किसी के आए थे, न निकाले किसी के जाएंगे. अल्वी बोले कि इस देश के राजनीतिक दल नहीं, देश सेकुलर है, इसलिए नेताओं को ये बात करनी पड़ती है.
राजनेताओं ने इस मंच को भी बना डाला मजहब की राजनीति का अखाड़ा
  • 7/14
प्रवीण तोगड़िया ने कहा कि देश के सभी राजनीतिक दल मुगलों की तरह हिंदुओं के खिलाफ काम कर रहे हैं.
राजनेताओं ने इस मंच को भी बना डाला मजहब की राजनीति का अखाड़ा
  • 8/14
अपने एजेंडे को सामने रखते हुए प्रवीण तोगड़िया बोले कि मुसलमान ज्यादा बच्चे पैदा कर रहे हैं. ज्यादा बच्चा पैदा करेंगे तो गरीब होंगे. उनके सरकारी खर्चे हिंदुओं के टैक्स से उठेंगे. ये रास्ता इस्लामिक स्टेट खड़ा करने का है.देश का हिंदू खतरे में है.
राजनेताओं ने इस मंच को भी बना डाला मजहब की राजनीति का अखाड़ा
  • 9/14
तोगड़िया के व्यू को काउंटर करते हुए आरिफ मोहम्मद खान ने संघ के मुखपत्र ऑर्गनाइजर में 1975 में छपे गुरु गोलवलकर के लेख का जिक्र किया, जिसमें उन्होंने लिखा था कि जो लोग समान नागरिक संहिता की बात करते हैं, वह भारत की जरूरत समझते ही नहीं हैं.
राजनेताओं ने इस मंच को भी बना डाला मजहब की राजनीति का अखाड़ा
  • 10/14
सेकुलरिज्म पर बुनियादी सवाल उठाते हुए शाहनवाज बोले कि ये बांटता है समाज को. उन्होंने कहा कि बीजेपी का बेवजह डर दिखाया जाता है मुसलमानों को.
राजनेताओं ने इस मंच को भी बना डाला मजहब की राजनीति का अखाड़ा
  • 11/14
बच्चों की दर पर आरिफ बोले कि ये मसला शिक्षा में कमी का है, धर्म का नहीं.और इसके शिकार दोनों ही धर्म हैं.
राजनेताओं ने इस मंच को भी बना डाला मजहब की राजनीति का अखाड़ा
  • 12/14
'कोई नहीं अल्पसंख्यक, कोई नहीं बहुसंख्यक', इस मसले पर आरिफ मो. खान बोले कि भारत में ये सवाल करना कि क्या मजहब राजनीति का हथियार है, नादानी भरा सवाल है. इस देश का बंटवारा हुआ क्योंकि मजहब को राजनीति का हथियार बनाया गया.
राजनेताओं ने इस मंच को भी बना डाला मजहब की राजनीति का अखाड़ा
  • 13/14
सच्चर कमेटी के सवाल पर कांग्रेस के राशिद अल्वी बोले कि ये आदर्श स्थिति होती कि माइनॉरिटी और मेजॉरिटी का फर्क नहीं होता. मगर हकीकत में ऐसा नहीं है. आप आज जाकर मुजफ्फरनगर में देख लीजिए.
राजनेताओं ने इस मंच को भी बना डाला मजहब की राजनीति का अखाड़ा
  • 14/14
एक घंटे के सत्र में राजनेताओं ने मंच को मजहब की राजनीति का अखाड़ा ही बना डाला.