scorecardresearch
 

चलेंगी सिर्फ AC ट्रेनें, नॉन AC ट्रेनों को बंद करना चाहती है मोदी सरकार

केंद्रीय रेल मंत्री पीयूष गोयल ने कहा कि देश की सभी ट्रेनों को वातानुकूलित किया जा सकता है या नहीं. इस बारे में बात चल रही है. यदि ऐसा संभव होगा तो, हम जरूर करेंगे.

पीयूष गोयल (Photo:aajtak) पीयूष गोयल (Photo:aajtak)

एजेंडा आजतक' के सत्र 'यात्रीगण कृपया ध्यान दें, चुनाव आने वाला है' में केंद्रीय रेल मंत्री पीयूष गोयल ने कहा कि मैंने रेल अधिकारियों से कहा है कि वो सर्वे करें और यह बताएं कि क्या देश की सभी ट्रेनों को वातानुकूलित किया जा सकता है या नहीं. यदि ऐसा संभव होगा तो, हम जरूर करेंगे.  

रेल को पूरी तरह सुरक्षित बनाना मेरा लक्ष्य...

रेल मंत्री पीयूष गोयल ने कहा कि ऐसा कोई भी देश नहीं है जहां रेल हादसे नहीं होते हैं. कहीं ना कहीं रेल दुर्घटना की खबरें आती ही रहती हैं. लेकिन मेरा लक्ष्य है कि मैं रेलवे को कैसे सुरक्षित बनाऊं. रेल मंत्री बनने से लेकर आज तक मैं रेलवे को बेहतर बनाने की दिशा में काम कर रहा हूं. हमारा बहुत बड़ा रेल नेटवर्क है. लेकिन ट्रेन के सामने खासकर कॉरिडोर में कभी हादसे होते हैं. पटरी पर कोई आ न जाए इसके लिए मैंने 5 हजार करोड़ की बाउंड्री वॉल बनाने का प्रस्ताव भी पास किया है.

रेल मंत्री ने आगे कहा कि असम के एलिफेंट कॉरिडोर में यदि हम बाउंड्री वॉल बनाएंगे तो भी हाथी ट्रेन के सामने आएंगे या बाउंड्री तोड़ेंगे यह कहा नहीं जा सकता. यहां तक कि मुंबई में रेल सफ़र को सुरक्षित बनाने के लिए मैंने हाईलेवल मीटिंग भी की, लेकिन लोगों ने कई परेशानियां बताई. जैसे यदि हम बाउंड्री बनाते हैं तो लोग उस पर आंदोलन कर देंगे और विरोध करेंगे.

सरकार के फाइव स्टार मिनिस्टर और बुलेट ट्रेन के सवाल पर पीयूष गोयल ने कहा कि बुलेट ट्रेन का निर्धारित समय है. 8 से 10 साल लगते हैं पूरा प्रोजेक्ट बनने में, लेकिन हम 5 साल में बनाने वाले हैं. अगस्त 2023 तक हम बुलेट ट्रेन चालू कर देंगे. हमने जापानीज लोगों को भी मनाया है. हमने उन्हें बताया कि भारत अब बदल गया है.

15 अगस्त 2022 तक एक सेक्शन बुलेट ट्रेन का चालू करेंगे. बुलेट ट्रेन हमारा चुनावी मुद्दा नहीं है. इसे हम 2019 के चुनाव के साथ जोड़कर नहीं देखते हैं. चुनाव बस हमारे लिए पड़ाव है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें