scorecardresearch
 

येचुरी ने भी टाला राहुल की PM उम्मीदवारी का सवाल, कहा- चुनाव बाद होगा फैसला

सीपीआई (एम) नेता ने कहा कि सरकार के लिए गठबंधन हमेशा चुनाव के बाद ही बनता आया है, फिर चाहे 1996 में यूनाइटेड फ्रंट का उदाहरण हो या फिर 1998 में एनडीए का.

एजेंडा आजतक में सीताराम येचुरी (फोटो- aajtak) एजेंडा आजतक में सीताराम येचुरी (फोटो- aajtak)

एजेंडा आजतक के मंच पर कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ इंडिया (मार्क्सवादी) के नेता सीताराम येचुरी ने भी शिरकत की. 'लेफ्ट में कितना दम?' सेशन में उन्होंने 2019 में होने वाले लोकसभा चुनाव पर बात की. सीताराम येचुरी के साथ इस सेशन का संचालन राजदीप सरदेसाई ने किया. राहुल गांधी को विपक्ष का प्रधानमंत्री उम्मीदवार घोषित करने के मुद्दे पर उन्होंने कहा कि विपक्ष का नेता कौन होगा, यह 2019 के चुनाव के बाद ही तय होगा. उन्होंने कहा कि अगर हम किसी को घोषित कर दें और जनता उसे हरा दें तो.

उन्होंने कहा कि हमारा यहां संसदीय प्रणाली है इसमें नेता पहले चुनना जरूरी नहीं है. येचुरी ने कहा कि 2004 में अटल बिहारी वाजपेयी के समय में भी ऐसी ही बात आई थी. लेकिन नतीजा क्या हुआ, 2004 में भी बिना नेता के जनता ने नतीजा दे दिया था.

सीपीआई (एम) नेता ने कहा कि सरकार के लिए गठबंधन हमेशा चुनाव के बाद ही बनता आया है, फिर चाहे 1996 में यूनाइटेड फ्रंट का उदाहरण हो या फिर 1998 में एनडीए का.

गौरतलब है कि पिछले कुछ समय से इस बात पर बहस चल रही है कि क्या विपक्ष के नेता कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी होंगे. एक दिन पहले ही तमिलनाडु में डीएमके के नेता एमके स्टालिन ने राहुल गांधी को विपक्ष के प्रधानमंत्री पद का उम्मीदवार होने की बात कही थी. ऐसे में ये चर्चा एक बार फिर तेज हो गई.

उन्होंने कहा कि 2019 में राष्ट्रीय स्तर पर गठबंधन नहीं बनेगा, राष्ट्रीय स्तर पर ऐसे गठबंधन बनना बहुत मुश्किल होता है. लेकिन स्टेट लेवल पर अलग-अलग गठबंधन होंगे जो बीजेपी को चुनौती देंगे.

एजेंडा आजतक का सातवां संस्करण

लगातार 18 साल से भारत के नंबर वन न्यूज चैनल 'आजतक' के हिंदी जगत के महामंच 'एजेंडा आजतक' का सातवां संस्करण आज से शुरू हो गया है. 17 और 18 दिसंबर' 2018 को दिल्ली में 'एजेंडा आजतक' में शामिल होंगे वे लोग जिन्होंने राजनीति, व्यापार, बॉलीवुड और क्रिकेट में कामयाबी की बुलंदियां हासिल की हैं.

हमारी इस मुहिम का मकसद है उस एजेंडे को लोगों के सामने लेकर आना जो दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र के विचारकों और चिंतकों की सोच है. ये देश में देश की आवाज का एजेंडा होगा. तो आइए और तय करिए देश का एजेंडा, इन दिग्गजों के साथ.

दो दिन तक चलने वाले 'एजेंडा आजतक' में केंद्र सरकार के कई आला मंत्रियों समेत उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत के अलावा राजस्थान के उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट और अन्य नेता भी शिरकत करेंगे.

.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें