scorecardresearch
 

राम मंदिर निर्माण में देरी चाहते हैं तो कानून बना लीजिए: केटीएस तुलसी

राम मंदिर के निर्माण के पहलुओं पर चर्चा करते हुए सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठ वकील केटीएस तुलसी ने कहा कि राम मंदिर आस्था का विषय है. वहीं, असदुद्दीन ओवैसी ने कहा कि यह मामला आस्था का नहीं है. अगर आस्था के आधार पर फैसला लेना है तो संविधान को जला दीजिए.

एजेंडा आजतक के मंच पर सुधांशु त्रिवेदी, असदुद्दीन ओवैसी और केटीएस तुलसी (फोटो- aajtak) एजेंडा आजतक के मंच पर सुधांशु त्रिवेदी, असदुद्दीन ओवैसी और केटीएस तुलसी (फोटो- aajtak)

'आजतक' के हिंदी जगत के महामंच 'एजेंडा आजतक' का सातवां संस्करण शुरू हो गया. 'एजेंडा आजतक' के दूसरे सत्र में 'कानून से बनेगा राम मंदिर?' में एआईएमआईएम अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी, बीजेपी प्रवक्ता सुधांशु त्रिवेदी और सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठ वकील केटीएस तुलसी ने राम मंदिर निर्माण के कई पहलुओं पर चर्चा की.

सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठ वकील केटीएस तुलसी ने कहा कि राम मंदिर को लेकर कुछ भी संभव है. अगर आप कानून लाते हैं तो इसमें एक से डेढ़ साल की देरी होगी. जो देरी करना चाहते हैं वह कानून बना लें. अगर जल्दी चाहते हैं तो अदालत का फैसला आने दीजिए. उन्होंने कहा कि आस्था के मामले में कोर्ट को दखल नहीं देना चाहिए. आपसी समझौते से इसका हल निकल जाना चाहिए था. लेकिन अब मामला कोर्ट में है तो इसका फैसला आने दीजिए.

वरिष्ठ वकील केटीएस तुलसी ने कहा ,  'जहां गुरू अर्जुन देव की लाहौर के किले में शहीदी हुई. सिखों ने उस किले में गुरुद्वारा बनाया जिसे मुसलमानों ने तोड़कर मस्जिद बना दिया. फिर सिखों ने उसे तोड़कर गुरुद्वारा बना दिया. इसके बाद मुसलमानों ने गलती की और मामले को लेकर अदालत चले गए जहां यह तय हुआ कि यह आस्था का मामला है और यहां गुरुद्वारा कायम रहेगा. लिहाजा, आस्था के ऐसे विषयों में कोर्ट क्या कर सकता है.'

इस दौरान असदुद्दीन ओवैसी ने कहा कि अगर आप राम मंदिर को आस्था से जोड़ रहे हैं और कोर्ट से आस्था के आधार पर फैसले की उम्मीद करते है तो संविधान को जला दीजिए. आस्था की बुनियाद पर अगर मुल्क चलेगा तो हमारे और पड़ोसी देशों में क्या फर्क रहेगा. राम मंदिर का मामला आस्था का कोई मामला नहीं है. यह जमीन के मालिकाना हक का मामला है.

बीजेपी प्रवक्ता सुधांशु त्रिवेदी ने कहा कि राम मंदिर के मामले का लटकाने की कोशिश की गई. ये मामला 490 साल से लंबित है. आस्था की बात नहीं है. हजारों सबूत है, जिससे साफ होता है कि वहां राम मंदिर था. कई मुस्लिम शायरों ने राम की तारीफ की. किसी ने बाबर की तारीफ नहीं की.  उन्होंने कहा कि मंदिर हम ही बनाएंगे.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें