scorecardresearch
 

MIND ROCKS 2017: एक वक्त में संजय के 3 रिलेशनशिप रहे, किसी को पता भी नहीं चलने दि‍या

इंडिया टुडे माइंड रॉक्स के लीविंग लाइफ ऑन द ऐज यूथ ही नॉट फॉर वेस्टिंग सेशन में हिस्सा लेने पहुंचे संजय दत्त ने फिल्मों से लेकर अपने सीक्रेट रिलेशनशि‍प पर कई चौंकाने वाली बातें शेयर कीं.

संजय दत्त संजय दत्त

इंडिया टुडे माइंड रॉक्स के 'लीविंग लाइफ ऑन द ऐज' सेशन में हिस्सा लेने पहुंचे संजय दत्त ने फिल्मों से लेकर अपनी सीक्रेट रिलेशनशि‍प पर कई चौंकाने वाली बातें शेयर कीं. उन्होंने खुलासा किया कि एक वक्त में वो तीन रिलेशनशिप में रहे. वो एक-दूसरे को इसके बारे में पता नहीं चलने देते थे. 

संजय ने कहा, शुरुआती दिनों की उनकी कहानी दूसरे युवाओं की तरह ही क्रेजी थी. हालांकि उन्होंने माना, 'जीवन में सेक्स, ड्रग्स शामिल रहा. जवान संजय दत्त दिल का आदमी था. वह आज भी है. युवावस्था में थोड़ा दिमाग का इस्तेमाल करना चाहिए.'

संजय ने बताया कि वो कॉलेज के दिनों में ड्रग्स के आदी हो गए थे. इस लत से उन्हें 10 साल में छुटकारा मिला. उन्होंने कहा, 'फैमिली और काम से बड़ा कुछ नहीं है. लत लग जाती है तो, कुत्ता मरने पर भी जी करता है कि पी लो यार.'

कैसे छूटी लत

संजय दत्त ने बताया कि उन्हें हॉलीवुड स्टार सिल्वेस्टर स्टेलॉन काफी पसंद हैं. उनकी रॉकी देखी. सोचा जब वे कर सकते हैं तो मैं क्यों नहीं. तब बॉडी बिल्डिंग शुरू की. उन्होंने कहा, जब मैं जेल गया तो मैंने सोचा मुझे चार साल रहना है. पॉजीटिव रहना चाहिए. कुछ अच्छा करना चाहिए. मैं शिव भक्त हूं. जेल में रहते हुए मैंने हिंदू धर्म की किताबें पढ़ी. गीता, रामायण,शिवपुराण पढ़ा. 

'तम्मा तम्मा' को लेकर संजय ने खोला माधुरी से जुड़ा 17 साल पुराना राज!

संजय बोले हथियार रखने के लिए एक प्रोड्यूसर ने बोला था

टाडा केस को लेकर संजय ने कहा- मेरे पास हथियार कभी नहीं मिला था. एक प्रोड्यूसर ने कहा था कि हथियार रखना चाहते हो क्या? मैंने रख लिया था. कन्फेशन किया था इसलिए जेल की सजा हुई. संजय ने युवाओं से कहा , हमेशा पेरेंट्स की सुनो. बैड कंपनी में मत रहो. अपने संस्कार जरूरी हैं. चाहे नौकर ही क्यों न हो. संजय ने कहा मैं नहीं चाहता कि मेरा बेटा मेरी तरह हो. क्योंकि मेरी वजह से पिता को मुश्किलों का सामना करना पड़ा. बचपन में मेरी मां मेरे खिलाफ शिकायत नहीं सुनती थी. चाहे कोई कुछ भी कहे.

लोग रोल मॉडल नहीं मानते इसका दुख नहीं 

मुन्नाभाई, वास्तव अमेजिंग फिल्में थीं. बहुत अलग तरह की. खलनायक का एक्सपीरियंस था मेरे लिए. खलनायक की शूटिंग के बीच ही जेल जाना पड़ा. 18 महीने रह कर आया तब रिलीज हुई थी ये फिल्म. लोग मुझे रोल मॉडल नहीं मानते तो मुझे दुख नहीं है. मैं भगवान, पैरेंट्स का शुक्रिया करता हूं.

अब मैं अपनी उम्र के रोल करना चाहता हूं. लकी हूं कि मेरा बायोपिक बन रहा है. रणबीर ने बहुत अच्छा काम किया है. इसे राजू हिरानी से अच्छा कोई नहीं बना सकता था. मुन्नाभाई सीरीज की अगली फिल्म भी आएगी. संजय ने युवाओं से कहा, सुरक्षित रहे, घर जल्दी आएं. ड्रग्स से दूर रहें. मैंने अपनी गलतियों से सीखा है. कानून मत तोड़ो. देश से प्यार करो.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें