scorecardresearch
 

EXCLUSIVE: शाहरुख बोले- देश में थोड़ी असहिष्णुता बढ़ी है, नौजवान जल्दी रिएक्ट करते हैं

अभिनेता शाहरुख खान ने अपना 50वां बर्थडे राजदीप सरदेसाई के साथ पहले ट्विटर टाउनहॉल में अपने प्रशंसकों के सवालों के जवाब देकर मनाया.

अभिनेता शाहरुख खान से खास बातचीत अभिनेता शाहरुख खान से खास बातचीत

अभिनेता शाहरुख खान ने अपना 50वां बर्थडे राजदीप सरदेसाई के साथ पहले ट्विटर टाउनहॉल में अपने प्रशंसकों के सवालों के जवाब देकर मनाया.

हालांकि शाहरुख अपना 50वां जन्मदिन मना रहे हैं लेकिन काम के प्रति उनकी लगन और उनकी एनर्जी जरा भी कम नहीं हुई शाहरुख ने अपने विटी नेचर का सबूत देते हुए बातचीत के दौरान सभी सवालों के जवाब दिए. शाहरुख से पूछे गए कुछ सवाल और उनके जवाब.

आपकी एनर्जी, हॉटनेस और विटी नेचर का क्या राज है?
अपना काम बहुत पसंद करता हूं. जितना सोचा भी नहीं था उससे भी कहीं ज्यादा मिला है. जिसके चलते काम के लिए हमेशा एक्टिव रहता हूं और पूरी लगन से काम करता हूं.

50 साल की उम्र में आपकी जिंदगी की प्राथमिकता क्या है?
पिछले 25 सालों में मैंने जिस लगन और मेहनत के साथ काम किया है उसके साथ-साथ परिवार के साथ वक्त बिताना भी जरूरी समझा है. लेकिन अपने काम के जरिए देश के विकास में भागीदार बनना भी उनकी प्राथमिकता रही है.

50वें बर्थडे से पहले सिगरेट पीना छोड़ देने के वादे का क्या हुआ?
मैं हमेशा कोशिश करता हूं पर नहीं छोड़ पाता. लेकिन मेरी कोशिश जारी है.

साल में एक फिल्म करने का क्या कारण है?
अगले 5 सालों में 15 फिल्म करने का इरादा है. हर साल तीन फिल्में करूंगा.

क्या कभी लगा था कि इतने बड़े स्टार बनेंगे?
मैने कभी ये सोचा नहीं था कि कि मुझे इतना कुछ मिलेगा. लेकिन जो मुझे मिला है मेरी हैसियत, मेरे टैलेंट और मेरे ख्यालों से भी कहीं ज्यादा है. जिसके लिए मैं खुदा का बेहद शुक्रिया अदा करता हूं. एक 26 साल के दिल्ली के लड़के की सोच के मुताबिक मुझे लगा था मैं कुछ कर दिखाऊंगा लेकिन इतना आगे जाऊंगा मैंने कभी नहीं सोचा था. मैं चाहूंगा कि देश के हर नौजवान को मेरी जैसी जिंदगी मिले.

काफी लंबे अरसे बाद काजोल के साथ काम करने का अनुभव कैसा रहा?
काजोल मैजिक हैं और हर काम दिल से करती हैं. मैं उन्हें हर फिल्म में मिस करता हूं. हम अच्छे दोस्त हैं वो मेरे परिवार के सदस्य की तरह हैं.

क्या कभी निर्देशन में अपना लक आजमाएंगे?
मैं मास कॉम करने इसलिए गया था क्योंकि मैं एड फिल्म बनाना चाहता था लेकिन मुझमें ओके कहने का कॉन्फिडेंस नहीं है. पर मैं 15 साल बाद कोई कोर्स करके डायरेक्शन जरूर करूंगा.

फिल्म इंडस्ट्री में परिवारवाद के इतर अपनी अलग पहचान बनाना कैसा लगता है?
मुझे फिल्म इंडस्ट्री के बारे में ज्यादा मालूमात नहीं थी इसलिए डर नहीं था. हर काम करके सीखा. मैं नहीं चाहूंगा कि मेरे बेटा, बेटी हीरो या हीरोइन बने. मुझ पर परिवार का नाम रोशन करने का दबाव नहीं था. मैं हीरो बन गया वहीं बड़ी बात है.

समाज में बढ़ती असहिष्णुता और कट्टरपंथ पर आपका क्या विचार है?
देश में थोड़ी असहिष्णुता बढ़ी है. समाज ही नहीं दुनिया के नौजवान जल्दी रिएक्ट करते हैं. जितने माध्यम उतनी आवाजें हो गई हैं. लेकिन आवाजें ही नहीं नकारात्मक आवाजें ज्यादा हो गई हैं. हमें ये सोच कायम रखनी होगी कि सभी धर्म बराबर हैं.

दूसरे धर्म में शादी करके मिसाल कायम करना कैसा लगता है?
मुझे लगता है कि ये मिसाल नहीं बल्कि एक सामान्य बात होनी चाहिए. दूसरे धर्म में शादी करना कोई बड़ी बात नहीं. हम दि‍वाली और ईद साथ में मनाते हैं. दिवाली पर सेवइयां बनाते हैं और ईद पर पटाखे जलाते हैं.

हर कोई शाहरुख की जिंदगी जीना चाहता है और शाहरुख खुद किसकी जिंदगी जीना चाहते हैं?
मैं शाहरुख की छवि का गुलाम बन गया हूं. मैं उस छवि में बंध गया हूं. मेरे घर की सबसे खूबसूरत जगह है मेरी लाइब्रेरी लेकिन मैं किताबें खरीदने के बावजूद पढ़ नहीं पाता.

किस तरह से याद किए जाना पसंद करेंगे?
मुझे मेरी कोशिशों के लिए याद किया जाए. मैं हर काम को कामयाब करने की कोशिश करता हूं.

ट्विटर पर इतने सारे फोलोअर्स होना कैसा लगता है, क्या इससे निजता पर फर्क पड़ता है?
शोहरत से निजी जिंदगी पर असर पड़ता है. लेकिन मैं खुद को बहुत जिम्मेदार महसूस करता हूं. चाहे कितना भी छुपकर जाता हूं लेकिन मुझे लोग फिर भी पहचान लेते हैं. अपने बच्चों को बाहर लेकर जाना मुमकिन नहीं होता. लेकिन जो मुझे मिला है मैं उससे बहुत खुश हूं और फिर से यही जिंदगी चाहूंगा.

क्या अमिताभ बच्चन की तरह बनना चाहते हैं शाहरुख?
अमिताभ बच्चन की जगह कोई नहीं ले सकता. उनके जैसा होना बहुत मुश्किल है. सबसे बड़े स्टार अमिताभ ही हैं और हमेशा रहेंगे.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें