scorecardresearch
 

टॉम क्रूज से लेकर दीपिका पादुकोण तक, सेंसर बोर्ड ने सबको बनाया 'संस्कारी'

सेंसर बोर्ड ने हॉलीवुड फिल्मों पर भी खूब चलाई है कैंची

रिटर्न ऑफ जेंडर केज, अमेरिकन मेड, ब्लेडरनर रिटर्न ऑफ जेंडर केज, अमेरिकन मेड, ब्लेडरनर

सेंसर ने इस फिल्म पर कट लगाया. उस फिल्म पर चली सेंसर बोर्ड की कैंची. सेंसर ...सेंसर... और सेंसर...

अगर आपको लगता है कि ये मसला सिर्फ भारतीय फिल्मों के साथ है, तो आपको जानकारी दुरुस्त करनी चाहिए. दरअसल हॉलीवुड फिल्मों को संस्कारी बनाने में भी सेंसर ने कोई कमी नहीं छोड़ी है.

आजादी से पहले सेंसर बोर्ड: शहर के पुलिस चीफ करते थे फिल्‍मों को पास

इसका ताजा उदाहरण है इसी महीने रिलीज हुई डेनिस विलेनूव की थ्रिलर फिल्म ब्लेड रनर 2049. इस फिल्म को भी सेंसर की कैंची का शिकार होना पड़ा है. इसके अलावा बीते महीने रिलीज हुई टॉम क्रूज की फिल्म अमेरिकन मेड से भी कुछ दृश्यों को हटाया गया था.

 'अमेरिकन मेड' में अभिनेत्री सारा राइट के साथ टॉम के किस सीन पर सेंसर बोर्ड ने कैंची चलाई थी. इसके पीछे तर्क दिया गया कि हवाई जहाज के कॉकपिट में इतना लंबा किस संभव नहीं है, इसलिए इसे काटकर आधा कर देना चाहिए.

सेंसर बोर्ड के अध्यक्ष बनने के बाद जानें क्या बोले प्रसून जोशी, PHOTOS

इससे पहले इसी महीने रिलीज हुई डेनिस विलेनूव की थ्रिलर फिल्म 'ब्लेड रनर 2049' पर भी सेंसर बोर्ड ने सख्ती दिखाई थी. इस फिल्म के सभी न्यूड सीन्स को हटाने का फरमान जारी किया गया था. ऐसा ही 'एक्सएक्सएक्स : रिटर्न ऑफ जेंडर केज' के साथ भी हुआ था. जेम्स बॉन्ड की 24वीं श्रंखला 'स्पेक्टर' भी काट-छांट का शिकार हुई थी. इसके किस सीन्स को भी काटकर आधा कर दिया गया था.

सेंसर बोर्ड के इस रवैये पर कई फिल्मकारों ने आपत्ति जताई है. जानी-मानी अभिनेत्री शबाना आजमी कहती हैं, " बोर्ड का सबसे पहला काम सेंसर (काट-छांट करना) करना नहीं, बल्कि फिल्मों को वगीकृत करना होता है. बोर्ड यह निर्णय करता है कि कौन सी फिल्म कौन से दर्शक वर्ग के लिए सही है और किस फिल्म को कौन सा वर्ग दिया जाना चाहिए."

इन 8 बोल्ड सीन पर भी सेंसर बोर्ड ने चलाई थी कैंची

भारतीय मूल के ब्रिटिश फिल्मकार कवि राज का कहना है, " फिल्मों में काट-छांट उनकी कमाई को काफी हद तक प्रभावित करती है. ऐसे में फिल्म निमार्ताओं, निर्देशकों और फिल्म से जुड़े अन्य लोगों के लिए भी खासी मुश्किलें पैदा हो जाती है. हॉलीवुड का फिल्म प्रमाणन बोर्ड भी फिल्मों पर अपना फैसला देता है, लेकिन उसका फिल्मों को वर्गीकृत करने का तरीका काफी अलग है. वहां के कलाकरों, निर्माताओं व निर्देशकों को बहुत आजादी मिलती है.

बता दें कि भारत में 'इंडियाना जोंस एंड द टेम्पल ऑफ डूम' 'इंशाल्लाह कश्मीर', 'फुटबॉल', 'वॉटर', 'ब्लैक फ्राइडे', 'द पिंक मिरर', 'फायर', 'बैंडिट क्वीन', 'सिक्किम' जैसी कई फिल्मों पर पूरे या अंशकालिक प्रतिबंध लगाए जा चुके हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें