scorecardresearch
 

Film review: 'निर्दोष' में अभिनय फुल पर कहानी का कोई अता-पता नहीं

इस हफ्ते बहुत सारी थ्रिलर फिल्में रिलीज हुई हैं जिनमें वोदका डायरीज, माय बर्थडे सॉंग के साथ-साथ अरबाज खान और मंजरी फड़नीस स्टारर निर्दोष भी है. यह मनोरंजन कर पाने में कितना कामयाब हो पाएगी, कैसी बनी है, आइए फिल्म की समीक्षा करते हैं...

X
निर्दोष निर्दोष

फिल्म का नाम : निर्दोष

डायरेक्टर: प्रदीप रंगवानी, सुब्रतो पॉल

स्टार कास्ट: अरबाज खान, मंजरी फडनिस, अश्मित पटेल, महक चहल, मुकुल देव

अवधि:1 घंटा 50 मिनट

सर्टिफिकेट: U/A

रेटिंग: 2 स्टार

इस हफ्ते बहुत सारी थ्रिलर फिल्में रिलीज हुई हैं जिनमें वोदका डायरीज, माय बर्थडे सॉंग के साथ-साथ अरबाज खान और मंजरी फड़नीस स्टारर निर्दोष भी है. यह मनोरंजन कर पाने में कितना कामयाब हो पाएगी, कैसी बनी है, आइए फिल्म की समीक्षा करते हैं...

कहानी

फिल्म की कहानी मुंबई में बेस्ड है जहां एक क़त्ल हो जाता है. क़त्ल का शक शिनाया ग्रोवर (मंजरी फड़नीस) पर जाता है. शिनाया को इंस्पेक्टर लोखंडे (अरबाज खान) की रिमांड में 3 दिन तक के लिए रखा जाता है. रिमांड के दौरान कई सारी बातें निकलकर सामने आती हैं. इसकी वजह से शक की सुई कई लोगों के ऊपर जाकर रूकती है. कभी शिनाया का पति गौतम (अश्मित ग्रोवर) शक के घेरे में आता है तो कभी स्ट्रगलिंग मॉडल और एक्ट्रेस अदा सक्सेना (महक चहल) का नाम भी सबके सामने आता है. राणा (मुकुल देव) का इस केस से क्या वास्ता है और आखिरकार कातिल कौन है, इसका पता फिल्म के आखिर में चलता है.

कमज़ोर कड़ियां

फिल्म की कमजोर कड़ी इसकी टिपिकल 80 और 90 के दशक की थ्रिलर कहानी है जिसमें आपको एक पुलिस अफसर चिल्लाता हुआ नजर आएगा. इसमें बार-बार जेल में बैठा इंसान बेगुनाही के लिए गुहार करता दिखाई देता है. फिल्म की लेयरिंग ख़ासतौर से सिलसिलेवार घटनाओं को और भी अच्छे तरह से दर्शाया जा सकता था. ट्विस्ट और टर्न्स और भी बांध कर रखने वाले होते तो फिल्म अच्छी और दिलचस्प बन जाती. वहीं किरदारों की लिखावट भी बेहतर हो सकती थी. क्योंकि फिल्म देखने के दौरान कोई भी नयापन नहीं मिलता. घिसीपिटी कहानी एक बार फिर से पैकेज करके पेश की गई नजर आती है.  रिलीज से पहले फिल्म का संगीत भी हिट नहीं हो पाया. सस्पेंस और अच्छा बनाया जा सकता था.

Film review: अटपटे कन्फ्यूजन में फंस गई 'वोदका डायरीज'

क्यों देख सकते हैं फिल्म  

फिल्म में मंजरी फड़नीस ने बहुत ही उम्दा काम किया है. अरबाज खान भी पुलिस अफसर के रूप में बढ़िया काम करते नजर आते हैं. अश्मित पटेल और मुकुल देव ने अच्छा काम किया है. महक चहल और बेहतर अभिनय कर सकती थी. फिल्म की जमीनी लोकेशन बढ़िया है.

Review: एक रात में हुए 3 कांडों की कहानी है 'कालाकाण्डी'

बॉक्स ऑफिस

फिल्म का बजट करीब 8 करोड़ बताया जा रहा है. इसमें 5 करोड़ प्रोडक्शन और 3 करोड़ प्रोमोशन के लिए खर्च किए गए हैं. ये फिल्म करीब 500 से ज्यादा स्क्रीन्स पर रिलीज की गई है. क्या अरबाज खान और फिल्म का ट्रेलर, दर्शकों को थिएटर तक खींच पाने में सक्षम हो पाएगा? अगले कुछ दिनों में इसका पता चल जाएगा.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें