scorecardresearch
 

Film Review: अच्छा आकर्षण है 'पुली'

'पुली' में श्रीदेवी, श्रुति हासन, हंसिका मोटवानी और साउथ के सुपरस्टार्स विजय और सुदीप समेत सितारों की फौज है. पुली का मतलब 'टाइगर' होता है. फिल्म को साउथ की भाषाओं के साथ-साथ हिंदी में भी रिलीज किया जा रहा है.

फिल्म 'पुली' का पोस्टर फिल्म 'पुली' का पोस्टर

फिल्म का नाम: पुली
डायरेक्टर: चिम्बू देवेन
स्टार कास्ट: विजय, श्रीदेवी कपूर, श्रुति हासन, हंसिका मोटवानी, सुदीप, प्रभु, नंदिता स्वेता, आदुकलम नरेन, थम्बी रमैया, इम्मान अन्नाची, रोबो शंकर
अवधि: 154 मिनट
सर्टिफिकेट: U
रेटिंग: 2 स्टार

'पुली' में श्रीदेवी, श्रुति हासन, हंसिका मोटवानी और साउथ के सुपरस्टार्स विजय और सुदीप समेत सितारों की फौज है. पुली का मतलब 'टाइगर' होता है. फिल्म को साउथ की भाषाओं के साथ-साथ हिंदी में भी रिलीज किया जा रहा है. आइए इस फिल्म की समीक्षा करते हैं.

कहानी
यह कहानी है मगाधीरा (विजय) की जिसे वाग्य नगर का मुखिया नदी में बहते हुए पाता है और बेटे की तरह पालन पोषण करता है. वेताल देश की यमन रानी (श्रीदेवी) और उनका दलपति जलतरंग (सुदीप कीच्चा) हैं. मगाधीरा अपनी प्रेमिका पवनमल्ली (श्रुति हासन) की तलाश में वेताल देश जाता है और इसी बीच मंदाकिनी (हंसिका मोटवानी) से मुलाकात और कई राज खुलते हैं.

स्क्रिप्ट
फिल्म की कहानी टिपिकल साउथ की फिल्मों जैसी है लेकिन शूटिंग और लोकेशंस को देखकर लगता है की काफी लागत और मेहनत लगी है. दो अलग-अलग देशों को दर्शाने में स्पेशल इफेक्ट्स की भूमिका भी बड़ी है. स्टोरी नई तो नहीं लेकिन आपको बांधे रखने का काम करती है. जादू की छड़ी, खजाना ओनर तिलस्मी शक्तियां भी इस फिल्म मे दिखाई गई हैं.

अभिनय
फिल्म में विजय ने दोहरे किरदार में बेहतरीन काम किया है वहीं सुदीप की एक्टिंग भी काबिल ए तारीफ है. श्रुति हसन और हंसिका मोटवानी ने अच्छा काम किया है लेकिन श्रीदेवी ने एक बार फिर से बता दिया कि सिनेमा कहीं का भी हो, वो एक उम्दा कलाकार हैं और सदैव रहेंगी.

संगीत
फिल्म का संगीत भी देवी श्री प्रसाद ने मूड के हिसाब से रखा है कहीं-कहीं काफी बड़े गीत आते हैं जो फिल्म की गति को प्रभावित जरूर करते हैं और कई गीत ऐसे हैं जिनकी वजह से फिल्म लंबी हो जाती है.

कमजोर कड़ी
कहानी काफी सरल और प्रेडिक्टेबल है. आपको पता होता है की अगले पल क्या-क्या संभावनाएं हो सकती हैं. फिल्म की यही सबसे कमजोर कड़ी है. हालांकि साउथ में यह फिल्म सुपर हिट जरूर होगी लेकिन हिंदी में देखने वाली जनता को थोड़ा हल्का सब्जेक्ट लगेगा. बड़े-बड़े गीत भी इसकी कमजोरी की सबब हैं.

क्यों देखें
अगर आप साउथ की हिंदी डब फिल्मों के फैन हैं और खासतौर से पीरियड फिल्मों के प्रशंसक हैं तो यह फिल्म जरूर देखें. अगर आप विजय, सुदीप, श्रीदेवी, श्रुति हासन या हंसिका मोटवानी के प्रशंसक हैं, तो भी जरूर यह फिल्म देखें. अन्यथा टीवी पर आने तक का इंतजार कर सकते है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें