scorecardresearch
 

फिल्म समीक्षा: जानें कैसी है भाग मिल्खा भाग

फरहान अख्तर नहीं मिल्खा सिंह ने ही काम किया है इस फिल्म में. एक्टिंग भी नहीं कह सकते क्योंकि उसमें कुछ बनावटीपन आ जाता है, जबकि अख्तर तो जैसे जी रहे थे किरदार को. शीशे के सामने खुद को थप्पड़ मारना हो या ब्लेजर पर हाथ फेरना. मलंग की तरह कैंट में नाचना हो या फिर ट्रैक पर दौड़ना. हर जगह एक दीवाना बना देना वाला उन्माद नजर आता है.

फरहान अख्‍तर फरहान अख्‍तर

पांच में से चार स्टार

मिल्खा भागता है, तन भागता है, मन भागता है और एक दर्शक के भाग्य जग जाते हैं,

स्लेटी शाम है, बारिश और आंधी के बीच एक बच्चा भाग रहा है. वजह, वह सिख है और पाकिस्तान में है, जो कि अभी अभी बना है और पठानों ने उसके गांव और कुनबे पर हमला कर दिया है. बच्चे का बाप चीखता है, भाग मिल्खा भाग. कुछ देर बाद बच्चा अपने जले हुए गीले से घर में लौटता है. उसका पैर खून, पानी और मिट्टी से सने कीचड़ में फिसलता है और वह गिरता है एक अधबनी मिट्टी दीवार के पार. यहां लाशों का ढेर लगा है. उसके पिता, मां और परिवार के दूसरे लोग. बच्चा चीखते हुए अपनी मां की तरफ बढ़ता है. मगर फिर फिसलता है. वह पूरी ताकत लगाकर बढ़ता है और फिर फिसलता है. करुणा का कीचड़ हमें भिगोने लगता है. इसके बाद मिल्खा फिर भागता है, ऐन मौके पर फिसलता है क्योंकि ये पाकिस्तान में हुए हादसे का शोर उसे जब तब पलटने के लिए मजबूर करता है. इस त्रासदी का अंत पाकिस्तान जाकर होता है, जब उसका दोस्त कहता है कि यार लोग बुरे नहीं होते, हालात बुरे होते हैं, उस दोस्त का बच्चा कहता है आप वही मिल्खा हो न जो भागते हो. फिर मिल्खा अपनी आखिरी दौड़ में भागता है और जब रुकता है तो पाकिस्तान उसकी दीवानगी में भाग रहा होता है. उसे नया नाम मिलता है, फ्लाइंग सिख.

'भाग मिल्खा भाग' उसी फ्लाइंग सिख मिल्खा सिंह की कहानी है. फिल्म फर्स्ट हाफ में जरूरत से ज्यादा डिटेलिंग के चलते कहीं कहीं स्लो हो जाती है. सेकंड हाफ में ये शिकायत बिल्कुल नहीं रहती. राकेश ओमप्रकाश मेहरा में हमें वही 'रंग दे बसंती' वाला जीनियस और हर पल को जिलाने वाला डायरेक्टर नजर आता है. प्रसून जोशी की स्क्रिप्ट उस यकीन को पुख्ता करती है कि जब कवि कहानी कहता है, तो वह भावुक जिंदगी की स्याही से लिखी जाती है. फरहान अख्तर की एक्टिंग ऐसी कि सजदा करने का जी करता है. 'भाग मिल्खा भाग' देखिए क्योंकि ये ऐसी फिल्म है, जो आपकी जिंदगी को, उसके अनुभवों को समृद्ध करती है.

कहानी को फ्लैशबैक करते हैं तो फिर
मुल्तान में पल रहा एक सिख बच्चा. विभाजन के चलते उसे दिल्ली आना पड़ता है लगभग पूरा परिवार गंवाकर. यहां वो बहन के पास रहता है. कोयले की चोरी कर पेट पालता है और फिर एक शाहदरा की रिफ्यूजी कॉलोनी में रहने वाली एक सिख लड़की बीरा के प्यार में पड़ जाता है. उसको पाने के लिए कुछ बनने की ठानता है और फौज में भर्ती हो जाता है. यहां उसकी रेस शुरू हो जाती है. शुरू में एक ग्लास एक्स्ट्रा दूध और परेड न करने के लालच में. फिर इंडिया का ब्लेजर पहनने की चाहत में और आखिर में दुनिया को अपने कदमों तले लाने के चलते, भागकर. ये रेस अहम मोड़ पर आती है 1956 के मेलबर्न ओलंपिक में, जब वह 400 मीटर रेस के पहले ही राउंड में बाहर हो जाता है. उसे समझ आ जाता है कि सब कुछ इतना आसान नहीं. फिर बस एक जुनून है, जिसे वह जीता है और जब 4 साल बाद एशियाड और कॉमनवेल्थ गेम्स समेत कई मुकाबले जीतकर 1960 के रोम ओलंपिक में पहुंचता है, तो सबकी निगाहें उसी पर टिकी होती है. वर्ल्ड रेकॉर्डधारी जो है वो. पर यहां जीतने के पहले वह फिर उसी स्लेटी शोर के चलते पलटता है और हार जाता है. मगर जिंदगी हार पर खत्म नहीं होती. उस डर को हराता है मिल्खा पाकिस्तान में हुई दौड़ में, जहां उसके सामने है खालिक.
एक्टिंग और डायरेक्शन पर कुछ बातें

फरहान अख्तर नहीं मिल्खा सिंह ने ही काम किया है इस फिल्म में. एक्टिंग भी नहीं कह सकते क्योंकि उसमें कुछ बनावटीपन आ जाता है, जबकि अख्तर तो जैसे जी रहे थे किरदार को. शीशे के सामने खुद को थप्पड़ मारना हो या ब्लेजर पर हाथ फेरना. मलंग की तरह कैंट में नाचना हो या फिर ट्रैक पर दौड़ना. हर जगह एक दीवाना बना देना वाला उन्माद नजर आता है. उनके अलावा कोच के रोल में दिखे पवन मल्होत्रा और युवराज के पिता योगराज सिंह की एक्टिंग बेहतरीन है. मिल्खा की बहन के रोल में दिव्या दत्ता भी दुख, सुख और उसके बीच भरे सन्नाटे को खूब शानदार ढंग से दिखाती हैं. सोनम कपूर का छोटा सा रोल है. फूलों के कुर्ते सा सजा और चमकदार. मीसा सफी और रेबेका ब्रीड्स भी कुछ लम्हों की और संतोषजनक नायिका बनती हैं.
राकेश ओमप्रकाश मेहरा मिल्खा की बनावट का हर रेशा दिखाने के फेर में फिल्म को 3 घंटे 7 मिनट लंबा बना देते हैं. शुरुआत में लगता है कि कैसे झिलेगी इतनी लंबी फिल्म. फर्स्ट हाफ में कई सीन ऐसे हैं, जिन्हें आसानी से हटाया जा सकता था. मगर यहां शायद बनाने वाली की जिद और अपनी हर चीज से लगाव सामने आ जाता है. डिटेलिंग और संकेतों की भाषा कमाल है. बीरा और मिल्खा के रोमांस में खबरची का काम करती गेंद जब रंगरेज गाने में कभी हल्दी तो कभी रंगों पर गिरती है तो एक फुलकारी सी बन जाती है.ट्रैक पर लहराती खून से सनी पट्टी हो या फिर पूल के पानी के नीचे मिलते दो पैर, अक्सर एक गीत सा रचता दिखता है सेल्युलाइड पर.

और भी कुछ काबिले जिक्र है क्या
है, और वह हैं प्रसून जोशी, जिन्होंने इस फिल्म के गाने और स्क्रिप्ट दोनों लिखे हैं. फिल्म की सबसे कमाल चीज है इसकी ओपनिंग. हमें बचपन से पढ़ाया गया कि अगर फ्लाइंग सिख अपनी जिंदगी की सबसे बड़ी दौड़ में पलटकर न देखते तो जीत जाते. ये हार कचोटती है और इसे सबसे शुरुआत में ही दिखा दिया जाता है. फिर उस हार और उसके पहले की जीत और जिदों की दास्तान सुनाई जाती है. कहानी कई बार फ्लैशबैक में जाती है और हर बार एक नया उत्साह दे जाती है. फिर जब खत्म होती है तो एक जीत के साथ. ये जीत सिर्फ पाकिस्तान में उनके स्टार खिलाड़ी को हराने भर से नही मिलती. ये जिंदगी के सबसे डर को आंखें दिखाकर बेनकाब करने से मिलती है.

हवन कुंड हो या फिल्म का टाइटल ट्रैक, सब फिल्म के वजूद को रफ्तार देने का काम करते हैं. मगर कुछ गाने हटा दिए जाते तो फिल्म की लेंथ कम हो जाती. मगर जब किरदार की जिंदगी लार्जर देन लाइफ हो तो ऐसा करना शायद कठिन हो जाता है. शंकर ऐहसान लॉय का संगीत प्रसून के गीतों के शरीर को आत्मा बख्शता है. जाइए और भागिए मिल्खा के साथ. भागदौड़ भरी जिंदगी में ये रेस रास आएगी आपको. मेरा वादा है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें