scorecardresearch
 

सुशांत सिंह राजपूत कोई राज जानता था, जिसके बाहर आने का डर था: शेखर सुमन

उन्होंने कहा कि अगर वो सुसाइड करता तो कम से कम एक सुसाइड नोट तो लिख कर जाता. वो इतना जिम्मेदार इंसान था कि वो नहीं चाहता कि उसके जाने के बाद लोग परेशान हों.

X
शेखर सुमन और सुशांत सिंह राजपूत शेखर सुमन और सुशांत सिंह राजपूत

सुशांत सिंह राजपूत सुसाइड मामले में शुरू से काफी मुखर होकर न्याय की मांग करते रहे एक्टर शेखर सुमन ने आज तक के साथ खास बातचीत में कहा कि सुशांत कोई राज जानता था जिसके बाहर आने का उसके आसपास के लोगों को डर था. शेखर ने कहा, "बहुत पहले एक फिल्म आई थी शिकार जिसमें ये गाना था कि पर्दे में रहने दो पर्दा ना उठाओ. ये छोटे-छोटे बिंदु हमें केंद्र बिंदु तक ले जाएंगे. छोटी मछलियां बड़ी मछली तक ले जाएंगी... शार्क तक.''

"इसके पीछे जो मैं कह रहा था कि एक मास्टर माइंड है. बहुत सारे लोग इसमें मिले हुए हैं. ये एक जाल की तरह फैला हुआ है. ये जो जालसाजी हो रही थी जो षड्यंत्र हो रहा था. ये सुशांत के ठीक नाक के नीचे हो रहा था और उन्हें इस बात का अहसास नहीं था क्योंकि कहीं न कहीं उसे ड्रग देकर या ओवरडोज देकर उसे इस अवस्था में रखा गया था कि उसे कुछ मालूम ही नहीं था और इसीलिए घर के तमाम लोग ये कहते रहते थे कि वो तो सोता रहता है."

उन्होंने कहा, "सोता क्यों रहता है उसके पीछे एक साजिश थी कि घर का मालिक जब सो जाए तो आप उस षड्यंत्र को अंजाम दे सकें. अब क्योंकि ये केस 80 दिनों से चल रहा है और हम थोड़े मायूस भी हो रहे थे और लोगों ने कहा कि समझ नहीं आ रहा कि किस दिशा में जा रहा है ये केस. कभी इधर कभी उधर. हर रोज एक नया सुराग निकल कर आ रहा था. लग रहा था कि एक सिरा मिल जाए तो जाल भी खुल जाएगा. अब वो सिरा मिला है."

शेखर ने बताया, "अब तो भाई ने खुद ही बयान दे दिया अपनी बहन के खिलाफ अब तो उसे झुठलाया नहीं जा सकता है. अब तो चैट भी सामने है और ड्रग्स की जो बातें चल रही थीं कि खरीद-फरोख्त वगैरह. अब तो कुछ कहने को रह नहीं गया है और मैं ये कहना चाहूंगा पूरी ईमानदारी के साथ कि जब रिया चक्रवर्ती का जब इंटरव्यू आ रहा था तो थोड़ी देर के लिए मैं भी उनके झांसे में आ गया क्योंकि कहीं न कहीं जब आप आंखों में आंसू देखते हैं तो आप पिघल जाते हैं."

"लेकिन बात जहां इस पर आई कि क्या आप ड्रग्स लेती हैं या नहीं तो उन्होंने सफेद झूठ.. सीधे कह दिया कि मैं नहीं लेती हूं. लेकिन जब सुशांत पर बात आई तो उन्होंने कह दिया कि बिलकुल वो ये भी लेते थे... वो भी लेते थे. अब जो अब सिरा मिला है उसे पकड़ कर एक के बाद एक पांच लोग गिरफ्तार हुए हैं. जिस रफ्तार के साथ ये गिरफ्तारियां हुई हैं. उसमें आप देखेंगे कि एक के बाद एक ये कड़ियां आपस में जुड़ती जाएंगी और पेंच खुलता जाएगा."

उन्होंने बताया, "इससे जल्द ही ये भी पता चलेगा कि बॉलीवुड में कौन लोग हैं जो ड्रग के इस नेक्सस से जुड़े हुए हैं या कौन से राजनेता हैं. और साथ ही हम बढेंगे उस सवाल की तरफ जहां से शुरु हुआ था और हमें लगा था कि ये आत्महत्या नहीं हत्या है. मुझे लगता है कि यही लोग धीरे-धीरे दबाव में हमें उस दिशा में ले जाएंगे. CBI और NCB बधाई के पात्र हैं. शेखर ने कहा कि घर के ही इतने लोग थे जिनसे पूछताछ नहीं की गई थी. अब यही राज खोलेंगे."

शेखर ने कहा कि मुझे अब भी ऐसा लगता है कि सुशांत कोई राज जानता था जिसका वो खुलासा करने वाला था. इन सबको जो जुडे़ हुए हैं और बाकी जो अभी सामने आएंगे ये सभी इस बात से बहुत डरे हुए थे कि जिस दिन ये राज बाहर आया वो सब सलाखों के पीछे होंगे. ये बिलकुल किसी फिल्म की तरह है. एक पटकथा लिखी गई थी जिस पर वो चले. लेकिन हर खूनी कुछ न कुछ सुराग छोड़ जाता है जो उसे गिरफ्तार करवाता है.

उन्होंने कहा कि मैंने शुरू से कहा है कि वो कहीं से भी डिप्रेस नजर नहीं आता था. मुझे नहीं पता था कि वो डायरी लिखता था और 5 साल आगे तक की प्लानिंग करता था. लेकिन आप किसी इंसान को देखकर उसके बारे में अंदाजा तो लगा सकते है उसके व्यक्तित्व के बारे में. वो रोज 4 घंटे रोज वर्कआउट करता था. ऐसा व्यक्ति कैसे कुछ इस तरह का कर सकता है.

उन्होंने कहा कि अगर वो सुसाइड करता तो कम से कम एक सुसाइड नोट तो लिख कर जाता. वो इतना जिम्मेदार इंसान था कि वो नहीं चाहता कि उसके जाने के बाद लोग परेशान हों. मैं बार-बार कहता हूं कि ये हत्या है. बस हमें इसकी तह तक जाना है. अगर मेंटल हेल्थ की दवाएं दी जा रही हैं और साथ में ड्रग्स वाली सिगरेट भी दी जा रही हैं तो ये कहना होगा कि इन्होंने उसे जीतेजी मार दिया था.

ये भी पढ़ें-

सुशांत केस: NCB का एक्शन, 14 घंटे में रिया के घर रेड से शोविक की गिरफ्तारी तक

रिया के मोबाइल ने ही खोली झूठ की पोल, ड्रग्स लेने के अलावा खरीदने-बेचने में भी थीं शामिल

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें