scorecardresearch
 

दिल्ली नतीजों पर अब तक चुप क्यों हैं PM नरेंद्र मोदी?

दिल्ली विधानसभा चुनाव के नतीजों में बीजेपी की शर्मनाक हार को दो दिन हो गए हैं, लेकिन पार्टी के सबसे बड़े चेहरे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस पर अब तक चुप्पी साध रखी है. माना जा रहा है कि गुरुवार को केजरीवाल से मुलाकात के बाद वह चुनाव नतीजों पर भी कोई प्रतिक्रिया दे सकते हैं.

PM Narendra Modi PM Narendra Modi

दिल्ली विधानसभा चुनाव के नतीजों में बीजेपी की शर्मनाक हार को दो दिन हो गए हैं, लेकिन पार्टी के सबसे बड़े चेहरे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस पर अब तक चुप्पी साध रखी है. माना जा रहा है कि गुरुवार को केजरीवाल से मुलाकात के बाद वह चुनाव नतीजों पर भी कोई प्रतिक्रिया दे सकते हैं.

दिया था 'चलो चलें मोदी के साथ' का नारा
विधानसभा चुनाव में पार्टी और मोदी ने युद्ध स्तर पर चुनाव प्रचार किया था. कई कैबिनेट मंत्री और सांसदों ने दिल्ली में जगह-जगह प्रचार किया था. खुद प्रधानमंत्री ने दिल्ली में चार बड़ी जनसभाएं की थीं. पार्टी के होर्डिंग पर किरण बेदी के बजाय प्रधानमंत्री मोदी की तस्वीर लगाई गई थी और नारा था, 'चलो चलें मोदी के साथ'. मोदी ने एक रैली में कहा था कि जो देश का मूड है, वही दिल्ली का मूड है, वहीं बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने दो-तिहाई बहुमत से सरकार बनाने का दावा किया था. लेकिन चुनाव नतीजों ने उनकी सभी कोशिशों और अरमानों पर पानी फेर दिया.

ट्विटर पर भी नहीं दी कोई प्रतिक्रिया
हालांकि चुनाव नतीजों के प्रधानमंत्री ने आम आदमी पार्टी (AAP) के संयोजक अरविंद केजरीवाल को फोन पर बधाई दी और कहा कि दिल्ली के विकास में केंद्र सरकार पूरा सहयोग देगी. लेकिन प्रधानमंत्री ने विधानसभा चुनाव परिणाम पर सार्वजनिक रूप से कुछ भी नहीं कहा है.

इससे पहले मोदी ने महाराष्ट्र, झारखंड, हरियाणा और जम्मू एवं कश्मीर विधानसभा चुनावों में पार्टी को मिली जीत पर ट्वीट कर अपने विचार जताए थे. दिल्ली नतीजे घोषित हो जाने के बाद मोदी ने मंगलवार को मंत्रिमंडल की बैठक की थी और माना जाता है कि पार्टी के कुछ वरिष्ठ नेताओं के साथ नतीजों पर बातचीत की थी.

बीजेपी को दिल्ली विधानसभा की 70 सीटों में से सिर्फ तीन सीटों पर ही जीत मिल सकी जबकि AAP ने 67 सीटों पर परचम लहराया.

2013 के विधानसभा चुनाव में बीजेपी सबसे ज्यादा सीटें जीत कर पहुंची थी लेकिन सरकार बनाने लायक संख्या न मिलने के कारण कांग्रेस के बाहरी समर्थन से AAP की सरकार बनी थी और जनलोकपाल विधेयक को लेकर उत्पन्न स्थिति से खिन्न केजरीवाल ने सिर्फ 49 दिनों में ही इस्तीफा दे दिया था.

(इनपुट: IANS)

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें