scorecardresearch
 

RJD के रघुवंश बोले- लालू सुनते तो हैं, पर देर से

पंचायत आज तक में RJD उपाध्यक्ष रघुवंश प्रसाद के अपनी पार्टी के सुप्रीम लालू यादव से शिकवे सामने आए. रघुवंश से जब पूछा गया कि पार्टी में उनकी बात कितनी सुनी जाती है, तो बोले- सुनी तो जाती है, पर कुछ महीने बाद.

पंचायत आज तक में RJD उपाध्यक्ष रघुवंश प्रसाद के अपनी पार्टी के सुप्रीमो लालू यादव से शिकवे सामने आए. रघुवंश से जब पूछा गया कि पार्टी में उनकी बात कितनी सुनी जाती है, तो बोले- सुनी तो जाती है, पर कुछ महीने बाद.

रघुवंश ने कहा कि लालू समझते तो हमसे भी ज्यादा हैं, लेकिन करने में कुछ देरी कर देते हैं. पहले गहन चिंतन करते हैं. यह पूछे जाने पर कि लालू ने RJD में मेरे बाद कौन पर आपका नाम नहीं लिया, रघुवंश ने कहा कि हमें जनता ने चुनकर दिल्ली भेज दिया. विधानसभा में जो जाएगा वह मुख्यमंत्री बनेगा. हम जनता में लगे हुए हैं.

रघुवंश ने कई मुद्दों पर बात की. जानिए उन्होंने किस पर क्या कहाः

सुर बदलने के आरोप पर
लोगों ने सुधार किया. जिलों में बैठकें हुईं. सुधार होने के बाद भी क्या मैं पुराना राग ही अलापता रहूं? अगर बदलाव हुआ है तो हम भी बदलेंगे.

RJD के शत्रुघ्न सिन्हा हैं रघुवंश बाबू?
यहां बोलने की स्वतंत्रता है. मैं जो बोलूंगा वो लागू होगा तो मैं वो भी बोलूंगा.

RJD और JDU के विरोधाभास पर
RJD और JDU वर्षों से एक दूसरे के खिलाफ लड़ते रहे हैं. पंचायत से लेकर राज्य स्तर तक एक साथ लोगों को बैठाइये तो बात बनेगी. जिला स्तर पर बैठकें हुई हैं. अभी भी कई स्तरों पर होनी बाकी हैं. अभी वोट का समय है. किसी की सीट तो किसी के कैंडिडेट की समस्या है.

पप्पू यादव, तस्लीमुद्दीन की नाराजगी पर
243 में से एक सीट भी कोई नहीं छोड़ना चाहता. नेता अपने बाल-बच्चों के लिए टिकट चाहते हैं. जिन्हें कमी लगती है वे इधर-उधर हो जाते हैं. कुछ बयानबाजी भी करते हैं. NDA में देखिए. मांझी नाराज हैं. पासवान मिठाई खा रहे हैं. उनके सुपुत्र अब नाराज बताए जा रहे हैं. कहीं किसी को सीट नहीं मिलेगी. बयानबाजी होगी. दिल्ली की तरह बिहार में भी बीजेपी की हार होगी.

BJP के प्रचार पर
419 सभाओं में मोदीजी ने घूम-घूम कर भाषण दिए. स्वच्छ भारत, गांधीजी के दो चश्मे लगाए. स्कूल में भी शौचालय नहीं बना. झाड़ू दिखा कर काम खत्म, कई स्कूलों में काम शुरू भी नहीं हुआ.

ओपिनियन पोल में BJP की बढ़त पर
हम लोग आम जन से सीधे संपर्क में हैं. लोगों का रुझान किधर है, पता है. गठबंधन का राज बनेगा. उनका तिलिस्म कम होगा. बीजेपी ने सबका साथ, सबका विकास कहा था. लोकसभा में विपक्ष का नेता नहीं बनने दिया. कहा था कि किसानों को अतिरिक्त समर्थन देंगे, उचित भी नहीं दिया. कहा था कि कालाधन वापस लाएंगे और 15 लाख सब लोगों के खाते में पहुंचाएंगे. लोग खोज रहे हैं 15 लाख रुपये कहां हैं. 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें