scorecardresearch
 

राजस्‍थान में कांग्रेस के टिकट बंटवारे में राहुल गांधी का फॉर्मूला फेल, दागी पास

राजस्‍थान कांग्रेस ने राहुल गांधी के फॉर्मूले के साथ जाने की बजाय जातिगत गोटियां बैठाना ज्‍यादा बेहतर समझा. हर खेमे को संतुष्ट करने के चक्कर में राहुल के फॉर्मूले को तिलांजली दे दी गई है.

कांग्रेस कांग्रेस

राजस्थान में कांग्रेस ने फिर से दागियों पर ही दांव लगाया है. बाबूलाल नागर के भाई, मदेरणा की पत्नी और मलखान सिंह बिश्नोई की मां को टिकट दिया गया है. नागर, मदेरणा और मलखान पर गंभीर आरोप लगने के बाद मंत्री पद से हटाया गया था.

राजस्‍थान कांग्रेस ने राहुल गांधी के फॉर्मूले के साथ जाने की बजाय जातिगत गोटियां बैठाना ज्‍यादा बेहतर समझा. हर खेमे को संतुष्ट करने के चक्कर में राहुल के फॉर्मूले को तिलांजली दे दी गई है.

बलात्कार के आरोप में जयपुर जेल में बंद पूर्व मंत्री बाबूलाल नागर के घर पर बहुत दिनों बाद पटाखों के शोर ने सन्नाटा तोड़ा है. इसकी वजह साफ है, नागर के भाई हजारीलाल नागर को बाबूलाल नागर की जगह कांग्रेस ने दूदू से टिकट थमाया है. ये वही नागर हैं, जिन पर एक रेप पीड़िता ने मुंह बंद करने के लिए करोड़ों रुपये का लालच देने का आरोप लगाते हुए सीडी पुलिस को सौंपी थी. दलित वोट बैंक और गहलोत खेमे के होने की वजह से टिकट बाबूलाल के घर में ही रहने दिया गया.

भंवरी देवी बलात्कार और हत्याकांड में जेल में बंद महिपाल मदरेणा की पत्‍नी लीला मदरेणा को भी टिकट मिल गया है. ये वही लीला मदरेणा हैं, जिन्होंने अपने पति की करतूतों को सही ठहराते हुए कहा था कि महिपाल ने जो कुछ किया, वो तो राजा-महराजाओं का शौक है. लेकिन मारवाड़ की जाट राजनीति की मजबूरी है कि टिकट मदरेणा परिवार को ही दिया गया.

मलखान बिश्नोई की मांग को टिकट
सबसे दिलचस्प रहा भंवरी देवी कांड में ही जेल में बंद विधायक मलखान सिंह बिश्नोई की सीट का फैसला. मलखान पहले से ही जेल में बंद हैं और दूसरे भाई परसाम बिश्नोई पर नकली दवाई बनाने का मामला सामने आ चुका है और आरोपी बहन इंदिरा बिश्नोई अब तक गायब है. लिहाजा दोनों की मां 75 साल की अमरी को टिकट थमा दिया गया, जो न तो ठीक से चल पाती हैं और न ही बोल-सुन पाती हैं. इनसे भी बेटी को भगाने के मामले में सीबीआई पूछताछ कर चुकी है. लेकिन सवाल बिश्नोई वोट का है तो सब सही है.

इसके अलावा निन्बाहेड़ा के विधायक उदय लाल अंजना को भी टिकट दिया गया है, जिन पर कोर्ट के आदेश पर महीने भर पहले ही बलात्कार का मुकदमा दर्ज हुआ है. पारसी देवी कांड में मंत्रीपद से हटाए गए रामलाल जाट को भी दोबारा मौका मिला है, क्योंकि दोनों सीपी जोशी खेमे के सिपहसलार हैं. भ्रष्टाचार के आरोपों में कोर्ट की फटकार के बाद हटाए गए पूर्व मंत्री भरोसी लाल जाटव पर भी कांग्रेस ने भरोसा जताया है.

इसके अलावा 6 ऐसे लोगों को भी कांग्रेस ने टिकट दिया है, जिन पर अलग-अलग तरह के मामले दर्ज हैं. साफ है टिकट बंटवारे को लेकर राहुल गांधी की बातों और हकीकत में भारी अंतर है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें