scorecardresearch
 

Opinion: क्यों इतना ज़हर घोल रहे हैं ये नेता?

यह चुनाव इस बात के लिए वर्षों तक याद रखा जाएगा कि इसमें इतना ज़हर फैलाया गया कि पूरा माहौल बिगड़ गया. नेता वो सब कुछ कह गए जो कभी कहे-सुने नहीं जाते थे. और अब तो हद ही हो गई है. कट्टरवादी नेता गिरिराज सिह और प्रवीण तोगड़िया ने ऐसे बयान दिए कि सुनकर अचंभा होता है.

गिरिराज सिंह गिरिराज सिंह

यह चुनाव इस बात के लिए वर्षों तक याद रखा जाएगा कि इसमें इतना ज़हर फैलाया गया कि पूरा माहौल बिगड़ गया. नेता वो सब कुछ कह गए जो कभी कहे-सुने नहीं जाते थे. और अब तो हद ही हो गई है. कट्टरवादी नेता गिरिराज सिह और प्रवीण तोगड़िया ने ऐसे बयान दिए कि सुनकर अचंभा होता है.

ये बयान देश को टुकड़ों में बाट देने जैसे हैं. इनकी जितनी निंदा की जाए, कम है. आखिर कोई नेता किसी समुदाय के लोगों को देश से निकल जाने की बात कैसे कह सकता है? यह देश सबका है और किसी खास धर्म या मज़हब के लोगों का नहीं. इससे बाहर निकल जाने की बात कोई कैसे उठा सकता है? यह तो संविधान की मूल भावना का सरासर उल्लंघन है.

जिस भारतीय संविधान को दुनिया का सबसे उदार और विस्तृत संविधान माना जाता है उसका यह कैसा अपमान है? चुनाव जीतने के तो बहुत से तरीके हो सकते हैं लेकिन यह तो गैरकानूनी ही नहीं बल्कि देश के साथ धोखा करने जैसी बात है. जिस हिन्दू धर्म के शास्त्रों में वसुधैव कुटुबंकम की बात कही जाती है वहां ऐसी बातें करने वाले तो उसके शत्रु जैसे ही हैं.

भारत और भारतीयों की सहनशीलता के किस्से तो सारी दुनिया में सुने-सुनाए जाते हैं. वहां की ज़मीन से ऐसी आवाज़ें उठेंगी तो यह देश तो अपनी पहचान ही खो देगा. ज़हर तो ज़हर है और यह पूरे शरीर में फैलता है.

इसे फैलाने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई होनी चाहिए. चुनाव आयोग को पीछे नहीं हटना चाहिए और कड़े कदम उठाने चाहिए वरना देश की एक अरब से भी ज्यादा धर्म निरपेक्ष जनता का यह बड़ा अपमान होगा. यह देश सबका है और सबका रहेगा. सच तो यह है कि ऐसे ज़हरीले बयान देने वाले लोगों के लिए ही इस देश में कोई जगह नहीं है. ऐसे लोगों को आने वाली पीढ़ि‍यां कभी माफ नहीं करेंगी.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें