scorecardresearch
 

बिहार ने इन 5 वजहों से मोदी को नकारा

आखिरकार बीजेपी के 'चाणक्य' गलत साबित हुए. न पार्टी अध्यक्ष अमित शाह की रणनीति काम आई और न ही पीएम मोदी की रैलियों में जुटी भीड़ वोट में कन्वर्ट हो पाई. एनडीए को महाझटका लगा और महागठबंधन की जीत हुई.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपने भाषणों की वजह से हमेशा सुर्खियां बटोरते रहे हैं. उनकी भाषण शैली लोकसभा में काफी आकर्षक रही, पर विधानसभा चुनाव में उनका जादू नहीं चल पाया. बिहार के नतीजों ने दिल्ली की याद दिला दी. बीजेपी को भी और देश को भी. ये वो 5 कारण हैं जिनसे मोदी लहर की हवा निकली.

1. DNA का जुमलाः मोदी ने नीतीश के डीएनए (मोदी के अनुसार राजनीतिक) पर सवाल उठाए. लेकिन नीतीश कुमार इसे बिहार की जनता की अस्मिता से जोड़ने में कामयाब रहे. दिल्ली में भी यही हुआ था. केजरीवाल को उन्होंने उपद्रवी गोत्र का बता दिया था.

2. बिहार को बीमारू बतानाः गया रैली में मोदी ने बिहार को बीमारू राज्य का दर्जा दे दिया था. हालांकि आंकड़े उसके ठीक उलट हैं. बिहार अब बीमारू के दायरे से बाहर निकल चुका है. नीतीश इसे भी बिहार की जनता का अपमान साबित करने में कामयाब रहे.

3. जंगलराज का भयः मोदी ने नीतीश कुमार के लालू प्रसाद से गठबंधन को जंगलराज पार्ट-2 के रूप में प्रचारित किया. लेकिन लालू ने कमंडल की याद दिला दी. धीरे-धीरे बीजेपी की रैलियां विकास के मुद्दे से ज्यादा नकारात्मक प्रचार पर फोकस होने लगीं.

4. बीफ पर ध्रुवीकरणः बीजेपी नेताओं की ओर से पूरे चुनाव के दौरान बीफ को लेकर लगातार बयानबाजी चलती रही. बीजेपी को इससे ध्रुवीकरण की उम्मीद थी, लेकिन नहीं हुआ. अमित शाह का पाकिस्तान के प्रति नफरत भरे बोल भी काम नहीं आए.

5. आरक्षण का मुद्दाः बीजेपी को संघ प्रमुख मोहन भागवत के आरक्षण के खिलाफ दिए बयान का भी नुकसान झेलना पड़ा. भागवत ने आरक्षण नीति पर पुनर्विचार करने को कहा था. लालू ने इसे चुनौती दी थी कि किसी माई के लाल में दम हो तो खत्म करके दिखाए.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें