scorecardresearch
 

संसदीय दल के नेता के चुनाव के दौरान राजनाथ को क्यों टोका मोदी ने, जानें 15 खास बातें...

नरेंद्र मोदी को संसदीय दल का नेता चुने जाने के दौरान क्या हुआ खास...

X
जब संसद भवन पहुंचे नरेंद्र मोदी जब संसद भवन पहुंचे नरेंद्र मोदी

नरेंद्र मोदी को संसदीय दल का नेता चुने जाने के दौरान क्या हुआ खास...

1. नरेंद्र मोदी ने सदन में प्रवेश से पहले इसकी सीढ़ियों पर माथा टेका. इसके बाद पार्टी नेता गोपीनाथ मुंडे और अनंथ कुमार उन्हें एस्कॉर्ट कर अंदर ले गए.
2. नेता चुने जाने की प्रक्रिया के दौरान पार्टी अध्यक्ष राजनाथ सिंह, एनडीए चेयरमैन लालकृष्ण आडवाणी और देश के अगले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आगे बैठे थे.
3. राजनाथ सिंह ने बतौर निर्वाचक अधिकारी संसदीय दल का नेता चुने जाने की प्रक्रिया की शुरुआत की और कहा कि हमारे पीएम कैंडिडेट आज पहली बार इस सेंट्रल हॉल में आए हैं.
4. आडवाणी ने मोदी के नाम का प्रस्ताव पेश करने से पहले संविधान सभा के महत्व पर बात की और सांसदों से कहा कि यहां जिन महापुरुषों के चित्र लगे हैं, उन्हें न भूलें.
5. एक एक कर कई नेताओं ने मोदी के नाम का समर्थन किया. गडकरी बोले, मैं भी मोदी जी की तरह पहली बार यहां आया हूं. प्रस्ताव का अनुमोदन करने वालों में मुरली मनोहर जोशी, वैंकेया नायडू, नितिन गडकरी, सुषमा स्वराज, अरुण जेटली, करिया मुंडा, गोपीनाथ मुंडे, रविशंकर प्रसाद, मुख्तार अब्बास नकवी शामिल थे.
6. जब राजनाथ ने नरेंद्र मोदी के निर्वाचित होने का ऐलान शुरू किया, मोदी ने उन्हें टोक दिया. नरेंद्र मोदी बोले, बाकी सांसदों से भी तो पूछ लीजिए. इस विनोद पर ठिठके और फिर हंसे राजनाथ बोले, नहीं मैंने देख लिया है, सभी तालियां बजाकर अपनी राय दे रहे हैं.
7. इसके बाद शुरू हुआ बधाई का दौर. प्रस्तावक और राज्यों के मुख्यमंत्री बधाई देने आए. मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान पहले आए और हाथ मिलाकर चले गए. फिर ध्यान आया कि गुलदस्ता पीछे छूट गया. तो अगली बार बुके लेकर आए.
8. राजनाथ बोले, सभी सांसद यहां नहीं आ पाए तो अपनी ही जगह पर मेज थपाथपाकर बधाई दे सकते हैं. इस पर आडवाणी अपनी सीट से खड़े हो गए और उनकी देखादेखी बाकी सांसद भी नरेंद्र मोदी के सम्मान में खड़े हो गए.
9. राजनाथ ने अपने भाषण में कहा, नरेंद्र भाई ने हैदराबाद में भाषण के दौरान कहा था येस वी कैन. आज मैं कहना चाहता हूं यस ही विल.
10. आडवाणी अपने भाषण के दौरान भावुक हो रोने लगे. फिर उन्होंने बताया कि क्यों वह इस तरह के ऐतिहासिक क्षणों मसलन, आजादी, इरमजेसी का हटना या आज के दिन, रोने लग जाते हैं. आडवाणी ने कहा कि मोदी ने बड़ी कृपा की, जो आज हम सबने ये दिन देखा.
11. नरेंद्र मोदी ने अपने धन्यवाद भाषण में कहा, मुझे पार्टी ने 13 सितंबर को काम दिया, जिसे मैंने 10 मई तक निभाया. आखिरी रैली संबोधित करने के बाद अनुशासित सिपाही की तरह पार्टी अध्यक्ष राजनाथ सिंह को रिपोर्ट किया. इस दौरान कोई कमी रह गई हो तो क्षमा चाहता हूं.
12. मोदी ने साफ कर दिया कि ये देश के गरीबों की सरकार है. उन्होंने बार बार इस शब्द का, इस भाव का जिक्र किया. पार्टी के पितृ पुरुष पंडित दीनदयाल उपाध्याय का जिक्र करते हुए मोदी ने उनके ध्येय वाक्य ऋग्वेद के चरैवेति चरैवेति का जिक्र किया. कहा दरिद्र नारायण की सेवा करेगी हमारी सरकार.
13. मोदी ने रोते हुए आडवाणी से एक प्रार्थना की. आडवाणी ने कहा था कि मोदी जी ने कृपा की. मोदी बोले कि भारत मां के बाद बीजेपी मेरी मां है. और कोई बेटा अपनी मां पर कैसे कृपा कर सकता है. मोदी की इस बात पर आडवाणी, रविशंकर प्रसाद, उमा भारती समेत कई नेता रोने लगे.
14. मोदी ने कहा कि देश ने आशा को चुना है. मैं सभी से कहना चाहता हूं कि हालात कितने भी खराब क्यों न हों. अब उठ चलने को आगे बढ़ने को तैयार रहें. उन्होंने एसआरसीसी में पिछले साल दिए गए भाषण का जिक्र करते हुए कहा कि गिलास आधा पानी और आधा हवा से भरा है.
15. विनम्रता के साथ साथ मोदी ने यह भी साफ कर दिया कि 2019 के लिए तैयारी शुरू हो गई है. मोदी बोले कि 2019 में अपना रिपोर्ट कार्ड लेकर यहीं आपके बीच आऊंगा. और ऐसा नतीजा लाऊंगा कि जनता के सामने आप सभी को नीचा न देखना पड़े. चुनाव जीतने के बाद वड़ोदरा रैली में भी मोदी ने कहा था कि देश को दौड़ाने के लिए 10 साल चाहिए.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें