scorecardresearch
 

अल्पेश, जिग्नेश, हार्दिक पर बढ़ा जनता का विश्वास, चिंतित है मोदी सरकार: कांग्रेस

अशोक गहलोत के मुताबिक जनता के बीच अल्पेश, जिग्नेश और हार्दिक के प्रति विश्वास बढ़ता जा रहा है, जिससे बीजेपी सरकार परेशान है. इसीलिए इन तीनों नेताओं के साथ अपराधियों जैसा व्यवहार किया जा रहा है. मोदी सरकार बताए कि खुफिया विभाग को इनके पीछे क्यों लगा रखा है.

X
हार्दिक पटेल, अल्पेश ठाकोर और जिग्नेश मेवाणी हार्दिक पटेल, अल्पेश ठाकोर और जिग्नेश मेवाणी

कांग्रेस नेता अशोक गहलोत ने उम्मेद होटल के रूम में खुफिया विभाग और पुलिस की चेकिंग पर आपत्ति जताई है. दरअसल गहलोत ने इसी होटल के रूम में हार्दिक पटेल और जिग्नेश मेवाणी से मुलाकात की थी, जिसके बाद वहां चेकिंग की गई. इस बात से नाराज गहलोत ने पीएम नरेंद्र मोदी से पूछा है कि गांधी के गुजरात में क्या हो रहा है. कांग्रेस नेता ने पूछा है कि होटल से सीसीटीवी फुटेज आईबी और पुलिस ने क्यों ली. गहलोत ने ट्वीट किया, 'क्या निजता का अधिकार सिर्फ जय अमित शाह के लिए है?'

'क्या हार्दिक और जिग्नेश कोई अपराधी हैं?'

अशोक गहलोत ने बताया कि जो कमरे उनके नाम से बुक थे, उनकी चेकिंग कराई गई. हम खुले तौर पर कह रहे हैं कि हमने गुजरात के युवा नेताओं से मुलाकात की है और आगे भी करते रहेंगे. कांग्रेस नेता ने सवाल किया कि जब ये लोग बीजेपी नेताओं से मिले थे, तब चेकिंग क्यों नहीं कराई गई. क्या हार्दिक और जिग्नेश कोई अपराधी हैं, बीजेपी अपना रुख स्पष्ट करे. अशोक गहलोत ने आरोप लगाया है कि होटल की पड़ताल बीजेपी के कहने पर हुई, जिसकी वे निंदा करते हैं.

बीजेपी को बताया बीमार सरकार

ऑल इंडिया कांग्रेस कमेटी के महासचिव और राजस्थान के पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत सोमवार को हार्दिक पटेल, अल्पेश ठाकोर और जिग्नेश मेवाणी से मिले. गहलोत ने ट्वीट कर गुजरात के युवा नेताओं और उनके साथियों से मुलाकात पर खुशी जताते हुए कहा कि वे किसानों और गरीबों के प्रति उनकी प्रतिबद्धता से काफी प्रभावित हैं. गहलोत ने उम्मीद जताई है कि इन नेताओं के समर्थक गुजरात की जनता को बीजेपी की बीमार सरकार से निजात दिलाएंगे.

'जनता का बढ़ रहा है विश्वास'

अशोक गहलोत के मुताबिक जनता के बीच अल्पेश, जिग्नेश और हार्दिक के प्रति विश्वास बढ़ता जा रहा है, जिससे बीजेपी सरकार परेशान है. इसीलिए इन तीनों नेताओं के साथ अपराधियों जैसा व्यवहार किया जा रहा है. मोदी सरकार बताए कि खुफिया विभाग को इनके पीछे क्यों लगा रखा है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें