scorecardresearch
 

शाहीन बाग के प्रदर्शनकारियों को बीजेपी नेता ने बताया पाकिस्तानी और बांग्लादेशी

दिल्ली विधानसभा चुनाव में शाहीन बाग लगातार चर्चा में बना हुआ है. अब भारतीय जनता पार्टी के नेता राहुल सिन्हा कहना है कि सीएए के खिलाफ शाहीन बाग में प्रदर्शन कर रहे लोगों में से ज्यादातर लोग पाकिस्तान और बांग्लादेश से आए लोग हैं.

बीजेपी नेता बीजेपी नेता

  • केंद्र के कानून को चुनौती नहीं दे सकते राज्यः राहुल सिन्हा
  • रविशंकर बोले- सीएए से किसी की नागरिकता नहीं जाएगी

दिल्ली के शाहीन बाग में नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के खिलाफ लंबे समय से चल रहे प्रदर्शन पर भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) ने एक बार फिर निशाना साधा है. बीजेपी नेता राहुल सिन्हा ने आरोप लगाया कि शाहीन बाग में बैठे अधिकतर लोग बांग्लादेश और पाकिस्तान के हैं.

बीजेपी नेता राहुल सिन्हा का कहना है कि दिल्ली के शाहीन बाग में प्रदर्शन कर रहे ज्यादातर लोग पाकिस्तान और बांग्लादेश से आए लोग हैं. इससे पहले केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने भी कहा था कि शाहीन बाग में टुकड़े-टुकड़े वाले बैठे हैं.

इससे पहले कल सोमवार को नागरिकता संशोधन एक्ट के मसले पर केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा था कि शाहीन बाग में भारत को तोड़ने वाले लोग बैठे हैं. उन्होंने प्रदर्शन करने वालों की तुलना टुकड़े-टुकड़े गैंग से की. केंद्रीय मंत्री बोले कि हमने बार-बार बताया कि सीएए से किसी की नागरिकता नहीं छीनेगी. इस देश का हर मुस्लिम नागरिक इज्जत से जीना चाहता है.

टीएमसी एंटी संवैधानिक पार्टीः राहुल

राहुल सिन्हा ने कहा कि पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी जो भी कहती हैं या करती हैं, वह निरर्थक है, क्योंकि टीएमसी एक एंटी संवैधानिक पार्टी है. वे विधानसभा में सीएए के खिलाफ विरोध और कानून पारित कर रहे हैं. जबकि केंद्र सरकार ने दोनों सदनों में इस विधेयक को पारित किया है, इस पर देश के राष्ट्रपति ने हस्ताक्षर किए हैं.

इसे भी पढ़ें--- मुश्किल में शरजील, JNU ने मांगा जवाब, अरुणाचल में केस दर्ज

उन्होंने आगे कहा कि वे केंद्र सरकार द्वारा पारित किसी कानून को कैसे चुनौती दे सकते हैं. इसे विधानसभा में चुनौती नहीं दी जा सकती है? वह खुद को संवैधानिक गतिविधियों में उलझा रही हैं.

ममता हिंदू शरणार्थियों के खिलाफः राहुल 

राहुल सिन्हा ने यह भी कहा कि वे एनपीआर का विरोध क्यों कर रहे हैं, क्योंकि वे जानते हैं कि अगर यह सफल हो जाता है तो इससे लोगों की जीर्ण-शीर्ण स्थिति, बेरोजगारी आदि का पता चलेगा.

इसे भी पढ़ें--- शरजील के परिवार का निकला पॉलिटिकल कनेक्शन, JDU के टिकट पर पिता लड़ चुके हैं चुनाव

उन्होंने कहा कि ममता बनर्जी, डीपीआर का विरोध करके सामूहिक विपत्ति पर विराम लगाने की कोशिश कर रही हैं. हम ऐसे मुख्यमंत्री, उनकी पार्टी टीएमसी और साथी दलों, सीपीआई (एम) और कांग्रेस का विरोध करते हैं जो बिल का विरोध कर रहे हैं.

ममता बनर्जी पर हमला करते हुए राहुल सिन्हा ने कहा कि ममता बनर्जी हिंदू शरणार्थियों के खिलाफ हैं. हम लोगों के बीच जाएंगे और उन्हें सूचित करेंगे और यह सुनिश्चित करेंगे कि शरणार्थियों को ममता बनर्जी की इस कार्रवाई के बारे में पता चले.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें