scorecardresearch
 

जिन्हें दुनिया कथक की मल्लिका कहती है...

भारत में कथक नृत्य शैली को एक अलग मुकाम तक ले जाने वाली सितारा देवी साल 2014 में 24 नवंबर के रोज ही दुनिया से रुखसत हुई थीं.

Sitara Devi Sitara Devi

भारत में वैसे तो नृत्य की कितनी ही विधाएं प्रचलित हैं लेकिन कथक की बात ही जुदा है. इसे क्लासिकल नृत्य की विधा में सबसे ऊपर माना जाता है. इसी विधा की मल्लिका के रूप में मशहूर थीं. वह साल 2014 में 25 नवंबर के रोज दुनिया से रुखसत हुई थीं.

1. 16 साल की उम्र में उनकी प्रस्तुति से प्रभावित होकर रविंद्र नाथ टैगोर ने उन्हें नृत्य समरागिनी कहा.

2. वह 10 साल की उम्र से ही मंच पर एकल नृत्य प्रस्तुति देती रही हैं.

3. उन्होंने नृत्य को बॉलीवुड के भीतर जगह दिलाने में अहम भूमिका निभायी.

4. 1967 में लंदन के प्रतिष्ठित रॉयल एल्बर्ट हॉल और न्यूयॉर्क के कैनेंगी हॉल के अलावा कई देशों में अपनी कला का मंचन किया.

5. साल 1969 में उन्हें संगीत नाटक अकादमी और 1973 में पद्म श्री पुरस्कार से नवाजा गया.

6. उन्होंने पद्म विभूषण पुरस्कार लेने से इंकार करते हुए कहा कि ये सम्मान नहीं अपमान है. वह प्रशिक्षण से खुद को सिर्फ कृष्ण लीला की कहानियों की कथाकार मानती थीं.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें