scorecardresearch
 

जेएनयू में रैगिंग: पूछा बिहारी हो, 'हां' कहने पर दी गाली, कराई उठक-बैठक

स्टूडेंट ने आरोप लगाया कि एक पीएचडी स्कॉलर ने पहले पूछा कि बिहारी हो, जब हां में जवाब दिया तो मारपीट की और कान पकड़वाकर उठक-बैठक भी लगवाई.

प्रतीकात्मक फोटो प्रतीकात्मक फोटो

जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (JNU) में BA फर्स्ट इयर के छात्र ने पुलिस से रैगिंग की शिकायत की है. स्टूडेंट ने ट्व‍िटर पर MHRD और जेएनयू के वीसी से भी इसकी शिकायत की है. स्टूडेंट ने आरोप लगाया कि एक पीएचडी स्कॉलर ने पहले पूछा कि बिहारी हो, जब हां में जवाब दिया तो मारपीट की और कान पकड़वाकर उठक-बैठक भी लगवाई.

घटना 18 जुलाई की बताई जा रही है. यह मामला तब सामने आया जब पीड़ित छात्र ने जेएनयू की एंटी रैगिंग कमेटी और वसंत कुंज उत्तर थाना पुलिस में शिकायत दी. जानकारी के अनुसार पुलिस ने आरोपी पीएचडी छात्र पर अब तक कोई कार्रवाई नहीं की है.

पीड़ित छात्र के मुताबिक कि उसने जेएनयू के सेंटर ऑफ जर्मन स्टडीज के बीए के कोर्स में 10 जुलाई को दाखिला कराया था. एडमिशन के 8 दिन बाद यानी 18 जुलाई को उसके पास सेंटर ऑफ इंग्लिश स्टडीज का एक पीएचडी का छात्र अपने दो साथियों के साथ आया.

आरोपी ने पीड़ित के पास पहुंचकर उससे उसके घर का पता पूछा. जब पता चला कि वो बिहारी है तो आरोपी उसे गाली देने लगा. उसने पीड़ित को धमकाया कि ठीक से रहा करो ये दिल्ली है. इसके बाद आरोपी ने पीड़ित को थप्पड़ भी मारे. और बाद में पीड़ित छात्र से उठक-बैठक भी कराई. पीड़ित ने कहा कि अगली बार मिलो तो नाक रगड़कर प्रणाम करना. बता दें कि 20 जुलाई को पीड़ित छात्र ने इस बारे में ट्वीट भी किया था, जिसमें उसने मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल और नित्यानंद राय समेत जेएनयू के वीसी को भी टैग किया है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें