scorecardresearch
 

कोरोना का असर: CBSE 10वीं की परीक्षा रद्द, 12वीं के पेपर्स टाले गए, 4 मई से शुरू होने थे एग्जाम

कोरोना वायरस के प्रकोप के बीच CBSE की परीक्षाओं को लेकर बड़ा फैसला हुआ है. CBSE बोर्ड की 12वीं की परीक्षाएं टाल दी गई हैं, जबकि 10वीं की परीक्षाओं को रद्द कर दिया गया है.

CBSE की परीक्षाओं पर सरकार का बड़ा फैसला (फोटो: PTI) CBSE की परीक्षाओं पर सरकार का बड़ा फैसला (फोटो: PTI)
1:57
स्टोरी हाइलाइट्स
  • कोरोना संकट के बीच सरकार का बड़ा फैसला
  • CBSE 10वीं की परीक्षा रद्द करने का फैसला
  • CBSE 12वीं की परीक्षाओं को टाला गया

कोरोना वायरस के बढ़ते संकट के बीच CBSE की परीक्षाओं को लेकर भारत सरकार ने बड़ा फैसला लिया है. CBSE 12वीं की परीक्षाओं को टाल दिया गया है, जबकि 10वीं की परीक्षाओं को रद्द कर दिया गया है. बुधवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शिक्षा मंत्री और मंत्रालयों के अधिकारियों के साथ बैठक की थी, जिसमें ये फैसला लिया गया है. 

12वीं क्लास के लिए ये है फैसला..
आदेश के मुताबिक, 4 मई से 14 जून तक होने वाली 12वीं की परीक्षाओं को रद्द कर दिया गया है. 1 जून को एक और बैठक होगी, जिसमें तब के हालात को देखते हुए फैसला लिया जाएगा. अगर परीक्षाएं होंगी तो 15 दिन पहले ही छात्रों को सूचित कर दिया जाएगा. 

10वीं के पेपर्स पर ये हुआ निर्णय..
CBSE 10वीं के पेपर्स जो कि 4 मई से 14 जून तक होने थे, उन्हें पूरी तरह से रद्द कर दिया गया है. बोर्ड की ओर से छात्रों के परफॉर्मेंस के आधार पर नंबर्स दे दिए जाएंगे. अगर कोई छात्र या छात्रा अपने नंबर्स से खुश नहीं होगा, तो उसे बाद में एग्जाम देने का मौका मिलेगा. 

पीएम ने लिया बड़ा फैसला, नेताओं का आया रिएक्शन
सूत्रों की मानें, तो अधिकारियों की ओर से दसवीं और बारहवीं दोनों की परीक्षाओं को टालने का प्रस्ताव दिया गया था. हालांकि, पीएम मोदी ने कहा कि बच्चों को पहले ही कोविड से काफी नुकसान हुआ है, ऐसे में दसवीं को परीक्षा को पूरी तरह से रद्द कर दिया जाए. जबकि 12वीं की परीक्षाओं को टाला जाए.

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल, कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने ट्वीट कर परीक्षाओं को टालने के फैसले का स्वागत किया है. इस फैसले पर दिल्ली के शिक्षा मंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा कि सरकार को दोनों ही परीक्षाओं को रद्द कर देना चाहिए था, लेकिन अभी जो फैसला लिया गया है वो मौजूदा हालात के हिसाब से बिल्कुल ठीक है. 

मध्य प्रदेश में एक महीने के लिए टली परीक्षाएं
कोरोना के प्रकोप के बीच बुधवार को ही मध्य प्रदेश में दसवीं और बारहवीं की बोर्ड परीक्षाओं को टालने का फैसला लिया गया है. एमपी स्कूल एजुकेशन विभाग ने आदेश जारी करते हुए कहा कि बोर्ड परीक्षाओं को 1 महीने के लिए टाल दिया गया है. 

परीक्षाएं रद्द करने की हो रही थी मांग
आपको बता दें कि देश में लगातार तेजी से बढ़ रहे कोरोना संकट के बीच कई राज्य के मुख्यमंत्रियों, नेताओं ने परीक्षाओं को रद्द करने की अपील की थी. देश में करीब 30 लाख बच्चों को सीबीएसई की परीक्षाएं देनी हैं.

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने भी बीते दिन अपनी प्रेस कॉन्फ्रेंस में इसकी मांग की थी. वहीं, राहुल गांधी, प्रियंका गांधी भी परीक्षाएं रद्द करने की मांग कर चुके हैं.

बता दें कि कोरोना काल के बीच बच्चों की अधिकतर पढ़ाई ऑनलाइन तरीके से ही हुई थी, बीच में कोरोना के मामले घटने के बाद स्कूल खोले गए थे. लेकिन अब जब परीक्षा की बारी आई है, तब केस फिर से बढ़ने लगे हैं. कई राज्यों ने अपने यहां की बोर्ड परीक्षाओं को टाल दिया है. ऐसे में केंद्र पर CBSE की परीक्षाएं टालने का दबाव बन रहा था. 

 

  • क्या CBSE के बाद राज्यों के बोर्ड को भी 10वीं की परीक्षाएं रद्द कर देनी चाहिए?

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें