scorecardresearch
 

साहित्य के नोबेल पुरस्कार का ऐलान, जानिए- किन शख्सियतों को मिला सम्मान

गुरुवार को साहित्य के नोबेल पुरस्कार जीतने वालों की घोषणा की गई. साहित्य का नोबेल पाने वालों में साल 2019 का पुरस्कार पीटर हैंडके को दिया गया है जो आस्ट्रियाई मूल के लेखक हैं. आइए जानें किसलिए इन लेखकों को दिया गया है नोबेल पुरस्कार.

ओल्गा टोकारजुक और पीटर हैंडके ओल्गा टोकारजुक और पीटर हैंडके

गुरुवार को साहित्य के नोबेल पुरस्कार जीतने वालों की घोषणा की गई. साहित्य का नोबेल पाने वालों में साल 2019 का पुरस्कार पीटर हैंडके को दिया जाएगा जो आस्ट्रियाई मूल के लेखक हैं. आइए जानें- किसलिए इन लेखकों को दिया गया है नोबेल पुरस्कार.

आस्ट्रिया मूल के लेखक पीटर को उनके इनोवेटिव लेखन और भाषा में नवीनतम प्रयोगों के लिए ये पुरस्कार दिया गया है.

लेखिका के साथ साथ सामाजिक कार्यकर्ता की भूमिका निभाने वाली ओल्गा टोकारजुक को 2018 का साहित्य का नोबेल दिया जा रहा है. वो मौजूदा पीढ़ी के व्यावसायिक रूप से सफल लेखकों में से एक हैं. साल 2018 में उन्हें उपन्यास फ्लाइट्स (जेनिफर क्रॉफ्ट द्वारा अनुवादित) के लिए बुकर प्राइज भी दिया गया था. वो पोलैंड की पहली लेखिका हैं जिन्हें अपने काम के लिए नोबेल और बुकर दोनों ही पुरस्कार मिल चुके हैं.

वारसॉ विश्वविद्यालय से मनोवैज्ञानिक के तौर पर प्रशिक्षण लेने वाली वोल्गा छोटी गद्य रचनाओं के साथ कविताओं, कई उपन्यासों, साथ ही अन्य पुस्तकों का संग्रह प्रकाशित किया. 'फ्लाइट्स' ने 2008 में, पोलैंड का शीर्ष साहित्यिक पुरस्कार नाइकी अवार्ड भी जीता.  

Me too अभियान के कारण पिछले साल साहित्य का नोबेल नहीं दिया गया था. बता दें कि पिछले साल नोबेल संस्थान की एक पूर्व सदस्या के पति फ्रांसीसी फोटोग्राफर ज्यां क्लाउड अर्नाल्ट पर यौन शोषण के आरोप लगे थे. इसके बाद स्वीडन की अकादमी को काफी आलोचनाओं का सामना करना पड़ा था. इसी वजह से उसने 2018 के साहित्य के नोबेल पुरस्कार नहीं देने की घोषणा की थी. ये पहला मौका नहीं था. इससे पहले 1936 में भी पुरस्कार नहीं दिए गए थे.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें