scorecardresearch
 

जानें क्यों मनाया जाता है सशस्त्र सेना झंडा दिवस

आज सेनाओं के प्रति सम्मान प्रदर्शित करने का है दिन... जानें- क्यों मनाया जाता है सशस्त्र सेना झंडा दिवस

प्रतीकात्मक फोटो प्रतीकात्मक फोटो

आज सशस्त्र सेना झंडा दिवस है. हर ये दिन 7 दिसंबर को मनाया जाता है. 'सशस्त्र सेना झंडा दिवस' देश की सेना के प्रति सम्मान प्रकट करने के दिन के रूप में मनाया जाता है.  ये उन जांबाज सैनिकों के प्रति एकजुटता दिखाने का दिन है जो देश की तरफ आंख उठाकर देखने वालों से लोहा लेते हुए शहीद हो गए. सशस्त्र सेना झंडा दिवस 7 दिसंबर, 1949 से भारतीय सेना द्वारा हर साल मनाया जाता है.

क्यों मनाया जाता है ये दिन

सशस्त्र झंडा दिवस देश की सुरक्षा में शहीद हुए सैनिकों के परिवार के लोगों के कल्याण के लिए मनाया जाता है. इस दिन झंडे की खरीद से इकठ्ठा हुए धन को शहीद सैनिकों के आश्रितों के कल्याण में खर्च किया जाता है.

आर्म्ड फोर्सेस वीकः रक्षामंत्री ने की अपील, शहीदों के सम्मान में लगाएं झंडा

ऐसे मिला 'सशस्त्र' नाम

आजादी के बाद सरकार को लगा कि सैनिकों के परिवार वालों की जरूरतों का ख्याल रखने की आवश्यकता है, इसलिए 7 दिसंबर, 1949 को झंडा दिवस के रूप में मनाने का फैसला लिया गया. शुरुआत में इस दिन को झंडा दिवस के रूप में मनाया गया, लेकिन साल 1993 में इस दिन को 'सशस्त्र सेना झंडा दिवस' का नाम दे दिया गया. इसके बाद से ये दिन सशस्त्र सेना द्वारा मनाया जाने लगा. सशस्त्र झंडा दिवस के द्वारा जमा हुई राशि युद्ध वीरांगनाओं, सैनिकों की विधवाओं, दिव्यांग सैनिगक और उनके परिवार वालों के कल्याण पर खर्च की जाती है.

तीन प्रमुख भाग

भारतीय शस्‍त्र सेना में तीन प्रमुख भाग है. जिसमें भारतीय थलसेना, भारतीय जलसेना और भारतीय वायुसेना हैं. भारत के राष्ट्रपति भारतीय सशस्त्र बलों के सर्वोच्च कमांडर हैं. भारतीय सशस्त्र बल भारत सरकार के रक्षा मंत्रालय (रक्षा मंत्रालय) के तहत आता है. आइए, विस्तार से इनके बारे में जानते हैं.

ऐसे तैयार होते हैं मार्कोस कमांडो, चौंका देगी ट्रेनिंग की कहानी

भारतीय थलसेना (Indian army): भारतीय थलसेना, सेना की भूमि-आधारित दल की शाखा है और यह भारतीय सशस्त्र बल का सबसे बड़ा अंग है. भारत का राष्ट्रपति, थलसेना का प्रधान सेनापति होता है और इसकी कमान भारतीय थलसेनाध्यक्ष के हाथों में होती है जो कि चार स्टार जनरल स्तर के अधिकारी होते हैं.

भारतीय नौसेना (Indian Navy): भारतीय नौसेना अपने गौरवशाली इतिहास के साथ भारतीय सभ्यता और संस्कृति की रक्षक है. 55,000 नौसेनिकों से लैस यह विश्व की पांचवी सबसे बड़ी नौसेना है. ये भारतीय सीमा की सुरक्षा को प्रमुखता से निभाते हुए विश्व के अन्य प्रमुख मित्र राष्ट्रों के साथ सैन्य अभ्यास (मिलिट्री प्रैक्टिस) में भी सम्मिलित होती है.

भारतीय वायुसेना (Indian Air Force) : भारतीय सशस्त्र सेना का ये अंग है वायु युद्ध, वायु सुरक्षा, और वायु चौकसी का महत्वपूर्ण काम देश के लिए करती है. इसकी स्थापना 8 अक्टूबर, 1932 को की गई थी. साल 1950 से पहले इसे रॉयल इंडियन एयरफोर्स के नाम से जाना जाता था.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें