scorecardresearch
 

एबीवीपी का आरोप, सिलेबस से यूथ का ब्रेन वाश करना चाहते हैं वाम संगठन

अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद ने वामपंथी विचारधारा से प्रेरित शिक्षक और छात्र संगठनों के रवैये की कड़ी निंदा की है. एबीवीपी ने आरोप लगाया है कि वाम संगठन छात्रों का सिलेबस द्वारा ब्रेन वॉश करने पर आमादा हैं. साथ ही इसे लोकतांत्रिक आवाजों को दबाने की साजिश, संवाद के प्रति अनास्था और छात्रविरोधी रवैया कहा है.

सिलेबस बदलने के मामले में 16 जुलाई को हुआ था प्रोटेस्ट सिलेबस बदलने के मामले में 16 जुलाई को हुआ था प्रोटेस्ट

अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद ने बुधवार को मीडिया को दिये बयान में कहा है कि संगठन वामपंथी विचारधारा से प्रेरित शिक्षक और छात्र संगठनों के रवैये की कड़ी निंदा करता है. एबीवीपी ने आरोप लगाया है कि वाम संगठन छात्रों का सिलेबस द्वारा ब्रेन वॉश करने पर आमादा हैं. साथ ही इसे लोकतांत्रिक आवाजों को दबाने की साजिश, संवाद के प्रति अनास्था और छात्रविरोधी रवैया कहा है.

एबीवीपी ने कहा है कि वामपंथी संगठनों द्वारा दिल्ली विश्वविद्यालय में फैलाया जा रहा दुष्प्रचार केवल और केवल वास्तविकता को छुपाने की साजिश है.   वामपंथी संगठनों की अकादमिक क्षेत्र में मनमानी करने का प्रयास उनकी लेफ्ट आइडियोलॉजी की संवाद और लोकतांत्रिक प्रदर्शनों के खिलाफ अनास्था को स्पष्ट करता है.

अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद का स्पष्ट मत है कि विश्वविद्यालय में छात्रों की अकादमिक मामलों में उचित सहभागिता होनी चाहिए.  अकादमिक परिषद में जिस तरह से बिना उचित चर्चा के प्रस्तावों को मंजूरी देने का प्रयास हुआ, वो निंदनीय है.

फी थिंकर्स बनाएं सिलेबस

एबीवीपी के दिल्ली प्रदेश मीडिया प्रभारी आशुतोष सिंह ने कहा कि शिक्षकों या छात्र संगठनों की विचारधारा भले ही कुछ भी हो, लेकिन इसका असर सिलेबस पर नहीं दिखना चाहिए. इसके पीछे मुख्य वजह ये है कि सिलेबस के जरिये मिलने वाला ज्ञान अंतर्राष्ट्रीय पटल पर देश की छवि बनाता है. इसलिए सिलेबस तथ्यात्मक और फ्री थिंकर्स द्वारा बनाए गए ही होने चाहिए.

सफल नहीं होने देंगे इरादे

एबीवीपी ने डेमोक्रेटिक टीचर्स फ्रंट द्वारा अभाविप से जुड़े दिल्ली विश्वविद्यालय के छात्रों को असामाजिक तत्व कहे जाने की भी कड़ी निंदा की है. साथ ही डीटीएफ से आग्रह किया है कि उनके विचार से सहमति न रखने वाले छात्रों के प्रति भी उचित तथा सम्मानजनक व्यवहार रखें. एबीवीपी के प्रदेश मंत्री सिद्धार्थ यादव ने कहा कि युवाओं का वामपंथियों द्वारा ब्रेनवाश करने के प्रयास को हम सफल नहीं होने देंगे. उन्होंने दिल्ली विश्वविद्यालय में वामपंथी संगठनों के इतिहास पर गंभीर आरोप लगाए. सिद्धार्थ का कहना है कि पिछले ही सेमेस्टर में हिंदू कॉलेज और डिपार्टमेंट ऑफ मैथमेटिकल साइंस में घटी घटनाएं उनके रवैये का स्पष्ट उदाहरण हैं. उन्होंने कहा कि वामपंथियों की हिंदू विरोधी मानसिकता हमें अपने सिलेबस में स्वीकार नहीं है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें