scorecardresearch
 

जानें- मुगलकाल में कैसे मनाई जाती थी होली?

होली को हिंदूओं का त्यौहार माना जाता है, लेकिन इस त्यौहार को हिंदू ही नहीं बल्कि हर धर्म के लोग धूमधाम से मनाते आ रहे हैं. मुगलकाल में भी मुगल शासक बड़ी उमंग के साथ होली मनाते थे.

प्रतीकात्मक फोटो प्रतीकात्मक फोटो

होली को हिंदूओं का त्यौहार माना जाता है, लेकिन इस त्यौहार को हिंदू ही नहीं बल्कि हर धर्म के लोग धूमधाम से मनाते आ रहे हैं. मुगलकाल में भी मुगल शासक बड़ी उमंग के साथ होली मनाते थे. इतिहासकारों का कहना है कि होली का प्रचलन काफी पहले से है और इसका जिक्र भी कई जगह मिलता है. आइए जानते हैं पहले होली किस तरह मनाई जाती थी...

क्या है होली का इतिहास

होलिका दहन की कहानी के बारे में तो आपने सुना ही होगा और कई धार्मिक पुस्तकों में इसका वर्णन मिलता है. भारत में पूर्वी भारत में यह त्यौहार ज्यादा सेलिब्रेट करते हैं. जैमिनी के पूर्व मीमांसा-सूत्र, कथा गार्ह्य-सूत्र, नारद पुराण, भविष्य पुराण जैसे पुराणों की प्राचीन हस्तलिपियों और ग्रंथों में भी इस पर्व का उल्लेख मिलता है.

लग गया है फाल्गुन का महीना, जानें धार्मिक और वैज्ञानिक महत्व

मुगलकाल में होली

भारत के अनेक मुस्लिम कवियों ने अपनी रचनाओं में इस बात का उल्लेख किया है कि होलिकोत्सव केवल हिंदू ही नहीं मुसलमान भी मनाते हैं. बताया जाता है कि मुगलकाल में होली, ईद की तरह ही खुशी से मनाई जाती थी. मुगलकाल में होली खेले जाने के कई प्रमाण मिलते हैं. अकबर का जोधाबाई के साथ और जहांगीर का नूरजहां के साथ होली खेलने का वर्णन मिलता है. कई चित्रों में इन्हें होली खेलते हुए दिखाया गया है.

वहीं शाहजहां के समय तक होली खेलने का मुगलिया अंदाज बदल गया था. बताया जाता है कि शाहजहां के समय में होली को ईद-ए-गुलाबी या आब-ए-पाशी (रंगों की बौछार) कहा जाता था. जबकि अंतिम मुगल बादशाह बहादुर शाह जफर के बारे में प्रसिद्ध है कि होली पर उनके मंत्री उन्हें रंग लगाने जाया करते थे. रिपोर्ट्स के अनुसार मुगलकाल में फूलों से रंग तैयार किए जाते थे और गुलाबजल, केवड़ा जैसे इत्रों की सुगंध वाले फव्वारे निरंतर चलते रहते थे.

बता दें कि अमीर खुसरो (1253–1325), इब्राहिम रसखान (1548-1603), नजीर अकबरबादी (1735–1830), महजूर लखनवी (1798-1818), शाह नियाज (1742-1834) की रचनाओं में होली का जिक्र है.

इन 5 चीजों का इंतजाम कर लेंगे तो मनेगी हैप्पी होली

अंग्रेजों के समय होली

ब्रिटिश राज के समय में भी लोग होली मनाते थे और उन पर होली खेलने को लेकर सरकार की ओर से कोई सख्त नियम-कानून नहीं था. अंग्रेजों के खिलाफ लड़ाई को मजबूत करने में भी होली का महत्व है. उत्तर प्रदेश में 1857 की क्रांति के दौरान होली के दिन मेले का आयोजन किया गया और सभी धर्मों को एक करने की कोशिश की गई. 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें