scorecardresearch
 

खजाना लूट चंद्रशेखर आजाद ने दिया था अंग्रेजों को झटका!

क्रांतिकारी एवं स्वतंत्रता सेनानी चंद्रशेखर आजाद ने आज ही के दिन यानि 27 फरवरी 1931 को खुद को गोली मार ली थी. उन्होंने इलाहाबाद में ब्रिटिश पुलिस के साथ मुठभेड़ में गिरफ्तारी से बचने के लिए गोली मार ली थी.

चंद्रशेखर आजाद चंद्रशेखर आजाद

क्रांतिकारी एवं स्वतंत्रता सेनानी चंद्रशेखर आजाद ने आज ही के दिन यानि 27 फरवरी 1931 को खुद को गोली मार ली थी. उन्होंने इलाहाबाद में ब्रिटिश पुलिस के साथ मुठभेड़ में गिरफ्तारी से बचने के लिए गोली मार ली थी. हालांकि उनकी मौत को लेकर कई बातें सामने आती रही हैं और उनकी मौत से भी पर्दा उठाया नहीं गया है. जानिए उनके जीवन से जुड़ी कई बातें...

- बताया जाता है कि चंद्रशेखर आजाद की निशानेबाजी बहुत अच्छी थी. दरअसल इसकी ट्रेनिंग उन्होंने बचपन में ही ले थी. भील बच्चों के साथ खेलते हुए चंद्रशेखर आजाद ने धनुष बाण खूब चलाए थे. जलियांवाला बाग नरसंहार के वक्त चंद्रशेखर आजाद बनारस में पढ़ाई कर रहे थे. गांधीजी ने सन 1921 में असहयोग आंदोलन का फरमान जारी किया तो तमाम अन्य छात्रों की तरह आजाद भी सड़कों पर उतर आए.

- कई छात्रों के साथ चंद्रशेखर की भी गिरफ्तारी हुई. जब उन्हें जज के सामने प्रस्तुत किया गया तो चंद्रशेखर ने अपना नाम 'आजाद', पिता का नाम 'स्वतंत्रता' और 'जेल' को उनका घर बताया. इसके बाद उन्हें 15 कोड़ों की सजा सुनाई गई. हर कोड़े के वार के साथ चंद्रशेखर ने 'वंदे मातरम' का नारा लगाना शुरू कर दिया. इसके बाद ही चंद्रशेखर, आजाद के नाम से मशहूर हो गए.

ये 'खान' लिखता था देशभक्ति की कविताएं, काकोरी कांड को दिया था अंजाम

-पण्डित राम प्रसाद बिस्मिल, शचीन्द्रनाथ सान्याल योगेशचन्द्र चटर्जी ने 1924 में उत्तर भारत के क्रान्तिकारियों को लेकर एक दल हिन्दुस्तानी प्रजातान्त्रिक संघ का गठन किया. चंद्रशेखर आजाद भी इस दल में शामिल हो गए. रामप्रसाद बिस्मिल और चंद्रशेखर आजाद ने साथी क्रांतिकारियों के साथ मिलकर ब्रिटिश खजाना लूटने और हथियार खरीदने के लिए ऐतिहासिक काकोरी ट्रेन डकैती को अंजाम दिया. इस घटना ने ब्रिटिश सरकार को हिलाकर रख दिया था.

-17 दिसंबर, 1928 को आजाद, भगत सिंह और राजगुरु ने शाम के समय लाहौर में पुलिस अधीक्षक के दफ्तर को घेर लिया और ज्यों ही जे.पी. साण्डर्स अपने अंगरक्षक के साथ मोटर साइकिल पर बैठकर निकले, तो राजगुरु ने पहली गोली दाग दी, जो सांडर्स के माथे पर लग गई वह मोटरसाइकिल से नीचे गिर पड़ा. फिर भगत सिंह ने आगे बढ़कर 4-6 गोलियां दागी. जब साण्डर्स के अंगरक्षक ने उनका पीछा किया, तो चंद्रशेखर आजाद ने अपनी गोली से उसे भी समाप्त कर दिया.

अगर ये क्रांतिकारी कामयाब होता, तो नहीं होती भगत सिंह को फांसी

-साण्डर्स की हत्या के बाद लाहौर में जगह-जगह परचे चिपका दिए गए, जिन पर लिखा था- लाला लाजपतराय की मृत्यु का बदला ले लिया गया है. भगत सिंह, सुखदेव तथा राजगुरु की फांसी रुकवाने के लिए आजाद ने दुर्गा भाभी को गांधीजी के पास भेजा जहां से उन्हें कोरा जवाब दे दिया गया था. अल्फ्रेड पार्क में अपने एक मित्र सुखदेव राज से मन्त्रणा कर ही रहे थे, तभी पुलिस ने उन्हें घेर लिया. भारी गोलाबारी के बाद जब आाजाद के पास अंतिम कारतूस बचा तो उन्होंने खुद को गोली मार ली.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें