scorecardresearch
 

कारगिल दिवस: 12 साल पहले ही पाक ने रच ली थी युद्ध की साजिश!

26 जुलाई यानी आज कारगिल विजय दिवस है. करीब 19 साल पहले इस दिन ही भारतीय सेना ने पाकिस्तान को खदेड़ कर कारगिल की चोटियों पर जीत का तिरंगा फहराया था.

भारतीय सेना के जवान भारतीय सेना के जवान

26 जुलाई यानी आज कारगिल विजय दिवस है. करीब 19 साल पहले इस दिन ही भारतीय सेना ने पाकिस्तान को खदेड़ कर कारगिल की चोटियों पर जीत का तिरंगा फहराया था. लेकिन कई रिपोर्ट्स ऐसी भी हैं, जो बताती हैं कि इस 1999 में हुए इस युद्ध की भूमिका पहले ही रच ली गई थी और 1984 की घटना ने बड़ी भूमिका निभाई थी.

उस वक्त पाकिस्तान के राष्ट्रपति जनरल जिया उल हक थे और उनके कार्यकाल के दौरान ही भारतीय सेना ने ऑपरेशन मेघदूत के जरिए सियाचिन पर कब्जा जमा लिया था. सियाचिन ऑपरेशन के बाद 1987 में पाक सेना के एक सीनियर ऑफिसर ने जिया के सामने एक प्लान रखा था. प्लान के मुताबिक कारगिल की पहाड़ियों से नेशनल हाईवे दिखता है और यह लेह-लद्दाख को जोड़ता है. इससे होकर सियाचिन की सप्लाई लाइन जाती है.

कारगिल युद्ध से जुड़े ये राज हैरान कर देंगे आपको...

हालांकि उस दौरान अफगानिस्तान में पाकिस्तान ने एक मोर्चा खोल रखा था और इसलिए जिया उल हक भारत के साथ युद्ध करने के पक्ष में नहीं थे. जिया उल हक के बाद कारगिल युद्ध का प्रस्ताव बेनेजीर भुट्टो के पास भी रखा गया था. पत्रकार वीर सांघवी को दिए एक इंटरव्यू में पूर्व पाकिस्तान पीएम बेनजीर भुट्टो ने बताया था कि मुशर्रफ ने मेरे सामने युद्ध में जीतने और श्रीनगर पर कब्जे की बात कही थी. बेनजीर ने इसे खारिज कर दिया था. क्योंकि उन्हें डर था कि पाकिस्तान को श्रीनगर से ही नहीं, बल्कि आजाद कश्मीर से भी हाथ धोना पड़ सकता है. उस वक्त मुशर्रफ डायरेक्टर जनरल ऑफ मिलिट्री ऑपरेशन्स थे.

कारगिल सेक्टर में 1999 में भारतीय और पाकिस्तानी सैनिकों के बीच लड़ाई शुरू होने से कुछ हफ्ते पहले जनरल परवेज मुशर्रफ ने एक हेलिकॉप्टर से नियंत्रण रेखा पार की थी और भारतीय भूभाग में करीब 11 किमी अंदर एक स्थान पर रात भी बिताई थी. मुशर्रफ के साथ 80 ब्रिगेड के तत्कालीन कमांडर ब्रिगेडियर मसूद असलम भी थे. दोनों ने जिकरिया मुस्तकार नामक स्थान पर रात बिताई थी. साल 2010 में पाकिस्तान ने माना कि इस युद्ध में उसके 453 जवान शहीद हुए थे.

कारगिल युद्ध: भारत ने PAK पर दागे थे 2.5 लाख गोले, नवाज शरीफ की हो सकती थी मौत

इंडियन एक्सप्रेस की खबर के मुताबिक, 24 जून 1999 को करीब सुबह 8.45 बजे जब लड़ाई अपने चरम पर थी. उस समय भारतीय वायु सेना के एक जगुआर ने नियंत्रण रेखा (एलओसी) के ऊपर उड़ान भरी. जगुआर का इरादा “लेजर गाइडेड सिस्टम ” से बमबारी करने लिए टारगेट को चिह्नित करना था. उसके पीछे आ रहे दूसरे जगुआर को बमबारी करनी थी. लेकिन दूसरा जगुआर निशाना चूक गया और उसने “लेजर बॉस्केट” से बाहर बम गिराया जिससे पाकिस्तानी ठिकाना बच गया.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें