scorecardresearch
 

इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी- कानपुर (IIT-Kanpur)

भारत के टॉप इंजीनियरिंग इंस्टीट्यूट में से एक इंडियन इस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, कानपुर की स्थापना सन् 1959 में हुई थी. यह कॉलेज 1055 एकड़ भूमि पर कानपुर शहर से करीब 16 किलोमीटर दूर जी.टी. रोड़ कल्याणपुर के ननकारी में बसा है.

कॉलेज का नाम: इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, कानपुर (IIT- Kanpur)

कॉलेज का विवरण: भारत के टॉप इंजीनियरिंग इंस्टीट्यूट में से एक इंडियन इस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, कानपुर (IIT- Kanpur) की स्थापना सन् 1959 में हुई थी. यह कॉलेज कानपुर शहर से करीब 16 किलोमीटर दूर जी.टी. रोड़ कल्याणपुर के ननकारी में बसा है. इंडिया टुडे-नीलसन बेस्‍ट कॉलेज सर्वे 2016 में इसे भारत के बेस्‍ट इंजीनियरिंग कॉलेज में पहले स्‍थान पर रखा गया है.

IIT- Kanpur की शुरुआत कानपुर में एग्रीकल्‍चरल गार्डंस की कैंटीन में सिंगल रूम में हुई थी. आज इसके पास 1,000 एकड़ का कैंपस है, 5,400 स्‍टूडेंट्स हैं और अपने आउटरीच प्रोग्राम के लिए नोएडा में इसकी ब्रांच खोलने की योजना है.

कॉलेज की वेबसाइट: www.iitk.ac.in

फैसिलिटी: इंडियन इस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, कानपुर में निम्नलिखित सुविधाएं मौजूद है:-
लाइब्रेरी
कम्प्यूटर रूम
लैबोरेटरी
ऑडिरोरियम
हॉस्टल
ट्रांसपोर्ट

आईआईटी कानपुर में निम्नलिखित विभाग मौजूद है:

डिपार्टमेंट ऑफ इंजीनियरिंग
डिपार्टमेंट ऑफ ह्यूमैनिटीज
डिपार्टमेंट ऑफ मैनेजमैंट
डिपार्टमेंट ऑफ साइंस
डिपार्टमेंट ऑफ इंटर डिस्पलेनरी

एडमिशन प्रक्रिया: बैचलर ऑफ टेक्नोलॉजी, इंटरीग्रेटेड मास्टर ऑफ साइंस और ड्यूअल डिग्री (बी.टेक-एम.टेक) प्रोग्राम में प्रवेश के लिए इंडियन इस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी आईआईटी जीईई की परीक्षा कराता है.

फिजिक्स, कैमिस्ट्री, मैथमैटिक्स और स्टैटिक्स में 2 साल का मास्टर ऑफ साइंस होता है. इसके लिए बैचलर ऑफ साइंस (ऑनर्स) का होना जरुरी है. इसके बाद ऑल इंडिया स्तर पर एक एक्जाम आयोजित होता है जिसे आईआईटी-जैम (JAM) कहते हैं.

मास्टर ऑफ टेक्नोलॉजी के अलग-अलग कोर्सों में एडमिशन पाने के लिए गेट (GATE) का एक्जाम पास करना होता है, जबकि मास्टर ऑफ बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन और मास्टर ऑफ डिजायन प्रोग्राम में एडमिशन पाने के लिए जीमेट (JMET) प्रवेश परीक्षा और सीईईडी (CEED) प्रवेश परीक्षा देनी होती है.

आईआईटी कानपुर में निम्नलिखित कोर्स कराए जाते है:

कोर्स का नाम: बैचलर ऑफ टेक्नोलॉजी इन एयरोनॉटिकल इंजीनियरिंग
कोर्स विवरण: इस कोर्स के दौरान अकादमिक राइटिंग रिसर्च, इंट्रो इंजीनियरिंग, एयरोडायनामिक, एयरोस्पेस स्ट्रक्चर, कंप्यूटर एनवायरमेंट, फिजिक्स इंजीनियरिंग, एयरोस्पेस व्हीकल डिजाइनिंग जैसे विषयों को पढ़ाया जाता है.
श्रेणी: एयरोस्पेस इंजीनियरिंग
डिग्री: बी.टेक
कोर्स: फुल टाइम
अवधि: 4 साल
एडमिशन प्रक्रिया: एडमिशन के लिए आईआईटी-जीईई एंट्रेंस क्वालिफाई करना जरूरी है.

कोर्स का नाम: बैचलर ऑफ टेक्नोलॉजी इन बायोलॉजिकल साइंस एंड बायो-इंजीनियरिंग
डिग्री: बी.टेक
कोर्स: फुल टाइम
अवधि: 4 साल
एडमिशन प्रक्रिया: एडमिशन के लिए आईआईटी-जीईई एंट्रेंस क्वालिफाई करना जरूरी है.

कोर्स का नाम: बैचलर ऑफ टेक्नोलॉजी इन केमिकल इंजीनियरिंग
कोर्स विवरण: इस कोर्स के दौरान केमिकल इंजीनियरिंग के साथ साथ केमिकल प्लांट का मेंटेनेंस प्रमुख होता है.
डिग्री: बी.टेक
कोर्स: फुल टाइम
अवधि: 4 साल
एडमिशन प्रक्रिया: एडमिशन के लिए आईआईटी-जीईई एंट्रेंस क्वालिफाई करना जरूरी है.
जरूरी मापदंड: फिजिक्स, मैथ्स, केमिस्ट्री के साथ 12वीं पास.

कोर्स का नाम: बैचलर ऑफ टेक्नोलॉजी इन सिविल इंजीनियरिंग
कोर्स विवरण: इस कोर्स के दौरान सिविल इंजीनियरिंग की प्लानिंग, डिजाइनिंग, कंस्ट्रक्शन के दौरान सुपरविजन प्रमुख है.
श्रेणी: सिविल इंजीनियरिंग
डिग्री: बी. टेक
कोर्स: फुल टाइम
अवधि: 4 साल
एडमिशन प्रक्रिया: एडमिशन के लिए आईआईटी-जीईई एंट्रेंस क्वालिफाई करना जरूरी है.
जरूरी मापदंड: फिजिक्स, मैथ्स, केमिस्ट्री के साथ 12वीं पास.

कोर्स का नाम: बैचलर ऑफ टेक्नोलॉजी इन कंप्यूटर साइंस एंड इंजीनियरिंग
कोर्स विवरण: अल्गोरिथम्स, ऑपरेटिंग सिस्टम, प्रोग्रामिंग लेंग्वेज, डाटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम, कंप्यूटर ग्राफिक्स, कंप्यूटर नेटवर्क.
श्रेणी: कंप्यूटर साइंस एंड इंजीनियरिंग
डिग्री: बी. टेक
कोर्स: फुल टाइम
अवधि: 4 साल
एडमिशन प्रक्रिया: एडमिशन के लिए आईआईटी-जीईई एंट्रेंस क्वालिफाई करना जरूरी है.
जरूरी मापदंड: फिजिक्स, मैथ्स, केमिस्ट्री के साथ 12वीं पास.

कोर्स का नाम: बैचलर ऑफ टेक्नोलॉजी इन इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग
कोर्स विवरण: मेथमेटिक्स, इंजीनियरिंग फिजिक्स, एनालोज और डिजिटल सिग्नल प्रोसेसिंग जैसे सब्‍जेक्‍ट पढ़ाए जाते हैं.
श्रेणी: इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग
डिग्री: बी. टेक
कोर्स: फुल टाइम
अवधि: 4 साल
एडमिशन प्रक्रिया: एडमिशन के लिए आईआईटी-जीईई एंट्रेंस क्वालिफाई करना जरूरी है.
जरूरी मापदंड: फिजिक्स, मैथ्स, केमिस्ट्री के साथ 12वीं पास.

कोर्स का नाम: बैचलर ऑफ टेक्नोलॉजी इन मकेनिकल इंजीनियरिंग
कोर्स विवरण: इस कोर्स के दौरान मशीन डिजाइनिंग के साथ-साथ मेन्युफेक्चरिंग जैसे सब्‍जेक्‍ट पढ़ाए जाते हैें.
श्रेणी: मकेनिकल इंजीनियरिंग
डिग्री: बी. टेक
कोर्स: फुल टाइम
अवधि: 4 साल
एडमिशन प्रक्रिया: एडमिशन के लिए आईआईटी-जीईई एंट्रेंस क्वालिफाई करना जरूरी है.
जरूरी मापदंड: फिजिक्स, मैथ्स, केमिस्ट्री के साथ 12वीं पास.

कोर्स का नाम: बैचलर ऑफ टेक्नोलॉजी इन मटेरियल्स एंड मेटलर्जिकल इंजीनियरिंग
श्रेणी: मटेरियल्स एंड मेटलर्जिकल इंजीनियरिंग
डिग्री: बी. टेक
कोर्स: फुल टाइम
अवधि: 4 साल
एडमिशन प्रक्रिया: एडमिशन के लिए आईआईटी-जीईई एंट्रेंस क्वालिफाई करना जरूरी है.

कोर्स का नाम: बैचलर ऑफ टेक्नोलॉजी इन मटेरियल्स एंड मेटलर्जिकल इंजीनियरिंग
श्रेणी: मटेरियल्स एंड मेटलर्जिकल इंजीनियरिंग
डिग्री: बी. टेक
कोर्स: फुल टाइम
अवधि: 4 साल
एडमिशन प्रक्रिया: एडमिशन के लिए आईआईटी-जीईई एंट्रेंस क्वालिफाई करना जरूरी है.

कोर्स का नाम: बैचलर ऑफ टेक्नोलॉजी- मास्टर ऑफ टेक्नोलॉजी (ड्यूअल डिग्री) इन एयरोस्पेस इंजीनियरिंग
कोर्स विवरण: एयरोस्पेस इंजीनियरिंग में कमर्शियल और मिलिट्री एयरक्राफ्ट, स्पेसक्राफ्ट के साथ-साथ सेटेलाइट और मिसाइल की डिजाइनिंग, डेवलेपमेंट, टेस्टिंग, ऑपरेटिंग के बारे में पढ़ाया जाता है.
श्रेणी: एयरोस्पेस इंजीनियरिंग
डिग्री: बी. टेक
कोर्स: फुल टाइम
अवधि: 5 साल
एडमिशन प्रक्रिया: एडमिशन के लिए आईआईटी-जीईई एंट्रेंस क्वालिफाई करना जरूरी है.
जरूरी मापदंड: एयरोस्पेस इंजीनियरिंग में बी.ई या बी.टेक.

कोर्स का नाम: बैचलर ऑफ टेक्नोलॉजी- मास्टर ऑफ टेक्नोलॉजी (ड्यूअल डिग्री) इन केमिकल इंजीनियरिंग
श्रेणी: केमिकल इंजीनियरिंग
डिग्री: बी. टेक
कोर्स: फुल टाइम
अवधि: 5 साल

आईआईटी कानपुर बी.टेक और एम. टेक में केमिकल इंजीनियरिंग की ड्यूअल डिग्री देता है.

जरूरी मापदंड: 60 प्रतिशत अकों के साथ 12वीं. उम्र- 25 साल से अधिक नहीं. इसके अलावा यहां आवेदन करने वाला छात्र किसी आईआईटी, आईटी-बीएचयू, बनारस और आईएसएम धनबाद से संबद्ध नहीं होना चाहिए. इसके बाद भी छात्र का एडमिशन आईआईटी-जेईई के द्वारा ही होगा.

कोर्स का नाम: बैचलर ऑफ टेक्नोलॉजी- मास्टर ऑफ टेक्नोलॉजी (ड्यूअल डिग्री) इन सिविल इंजीनियरिंग
श्रेणी: सिविल इंजीनियरिंग
डिग्री: बी. टेक
कोर्स: फुल टाइम
अवधि: 5 साल
जरूरी मापदंड:  साइंस स्‍ट्रीम में 60 प्रतिशत अकों के साथ 12वीं पास. उम्र- 25 साल से अधिक नहीं. इसके अलावा यहां आवेदन करने वाला छात्र किसी आईआईटी, आईटी-बीएचयू, बनारस और आईएसएम धनबाद से संबद्ध नहीं होना चाहिए. इसके बाद भी छात्र का एडमिशन आईआईटी-जेईई के द्वारा ही होगा.

कोर्स का नाम: बैचलर ऑफ टेक्नोलॉजी- मास्टर ऑफ टेक्नोलॉजी (ड्यूअल डिग्री) इन कंप्यूटर साइंस एंड इंजीनियरिंग
पाठ्यक्रम: कंप्यूटर साइंस में इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग और कंप्यूटर साइंस को पढ़ाया जाता है.
श्रेणी: कंप्यूटर साइंस इंजीनियरिंग
डिग्री: बी. टेक
कोर्स: फुल टाइम
अवधि: 5 साल
जरूरी मापदंड: साइंस स्‍ट्रीम में 60 फीसदी अकों के साथ 12वीं पास. उम्र- 25 साल से अधिक नहीं. इसके अलावा यहां आवेदन करने वाला छात्र किसी आईआईटी, आईटी-बीएचयू, बनारस और आईएसएम धनबाद से संबंद्ध नहीं होना चाहिए. इसके बाद भी छात्र का एडमिशन आईआईटी-जेईई के द्वारा ही होगा.

कोर्स का नाम:
बैचलर ऑफ टेक्नोलॉजी- मास्टर ऑफ टेक्नोलॉजी (ड्यूअल डिग्री) इन इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग
श्रेणी: इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग
डिग्री: बी. टेक
कोर्स: फुल टाइम
अवधि: 5 साल
जरूरी मापदंड: बी.टेक (इलेक्ट्रिकल इजीनियरिंग) 4 साल का कोर्स है, जिसके लिए साइंस स्‍ट्रीम में 60 प्रतिशत अकों के साथ 12वीं पास होना जरूरी है. उम्र 25 साल से अधिक नहीं होनी चाहिए. इसके अलावा यहां आवेदन करने वाला छात्र किसी आईआईटी, आईटी-बीएचयू, बनारस और आईएसएम धनबाद से संबंद्ध नहीं होना चाहिए. इसके बाद भी छात्र का एडमिशन आईआईटी-जेईई के द्वारा ही होगा.

कोर्स का नाम:
बैचलर ऑफ टेक्नोलॉजी- मास्टर ऑफ टेक्नोलॉजी (ड्यूअल डिग्री) इन मकेनिकल इंजीनियरिंग
श्रेणी: मकेनिकल इंजीनियरिंग
डिग्री: बी. टेक
कोर्स: फुल टाइम
अवधि: 5 साल
जरूरी मापदंड: साइंस स्‍ट्रीम में 60 प्रतिशत अकों के साथ 12वीं पास होना जरूरी है. उम्र- 25 साल से अधिक नहीं होनी चाहिए. इसके अलावा यहां आवेदन करने वाला छात्र ना तो किसी आईआईटी, आईटी-बीएचयू, बनारस और आईएसएम धनबाद से संबद्ध हो. इसके बाद भी छात्र का एडमिशन आईआईटी-जेईई के द्वारा ही होगा.

कोर्स का नाम: मास्टर ऑफ टेक्नोलॉजी इन एयरोस्पेस इंजीनियरिंग
श्रेणी: एयरोनॉटिकल इंजीनियरिंग
डिग्री: एम. टेक.
कोर्स: फुल टाइम
अवधि: 2 साल
एडमिशन प्रक्रिया: एडमिशन के लिए गेट क्वालिफाई करना जरूरी है.
जरूरी मापदंड: बी.ई और बी.टेक इन एयरोस्पेस इंजीनियरिंग.
पाठ्यक्रम: एयरोस्पेस इंजीनियरिंग में कमर्शियल और मिलिट्री एयरक्राफ्ट, स्पेसक्राफ्ट के साथ-साथ सेटेलाइट और मिसाइल की डिजाइनिंग, डेवलेपमेंट, टेस्टिंग, ऑपरेटिंग के बारे में अध्ययन कराया जाता है.

कोर्स का नाम: मास्टर ऑफ टेक्नोलॉजी इन बायोलॉजिकल साइंसेज एंड बायो इंजीनियरिंग
श्रेणी: बायो-मेडिकल इंजीनियरिंग
डिग्री: एम. टेक.
कोर्स: फुल टाइम
अवधि: 2 साल
एडमिशन प्रक्रिया: एडमिशन के लिए गेट क्वालिफाई करना जरूरी है.
पाठ्यक्रम: इसमें आप इलेक्ट्रानिक्स इंजीनियरिंग के लिए एप्लाइड मेथमेटिक्स, बायोमेडिकल सेंसर एंड इंस्ट्रूमेंटेशन एनाटोमी एंड फिजिक्स, बायो-मकेनिक्स एंड रिहैबलिटेशन इंजीनियरिंग.

कोर्स का नाम: मास्टर ऑफ टेक्नोलॉजी इन केमिकल इंजीनियरिंग
कोर्स विवरण: इस कोर्स के दौरान केमिकल इंजीनियरिंग के साथ-साथ केमिकल प्लांट मेंटनेंस जैसे सब्‍जेक्‍ट पढ़ाए जाते हैं.
श्रेणी: केमिकल इंजीनियरिंग
डिग्री: एम. टेक.
कोर्स: फुल टाइम
अवधि:
2 साल
एडमिशन प्रक्रिया: एडमिशन के लिए गेट क्वालिफाई करना जरूरी है.
जरूरी मापदंड: बी.टेक (केमिकल इंजीनियरिंग) या इसके समकक्ष के इंजीनियरिंग कोर्स.

कोर्स का नाम: मास्टर ऑफ टेक्नोलॉजी इन सिविल इंजीनियरिंग
श्रेणी: सिविल इंजीनियरिंग
डिग्री: एम. टेक.
कोर्स: फुल टाइम
अवधि: 2 साल
एडमिशन प्रक्रिया: एडमिशन के लिए गेट क्वालिफाई करना जरूरी है.

कोर्स का नाम: मास्टर ऑफ टेक्नोलॉजी इन कंप्यूटर साइंस एंड इंजीनियरिंग
श्रेणी: कंप्यूटर साइंस एंड इंजीनियरिंग
डिग्री: एम. टेक.
कोर्स: फुल टाइम
अवधि: 2 साल
एडमिशन प्रक्रिया: एडमिशन के लिए गेट क्वालिफाई करना जरूरी है.

कोर्स का नाम: मास्टर ऑफ टेक्नोलॉजी इन इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग
कोर्स विवरण: इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग में इलेक्ट्रिसिटी के ट्रांसमिशन, डिस्ट्रीब्यूशन, जनरेशन,  टेलीकम्यूनिकेशंस,  कंप्यूटर और माइक्रो प्रोसेसर जैसे सब्‍जेक्‍ट पढ़ाए जाते हैं.
श्रेणी: इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग
डिग्री: एम. टेक.
कोर्स: फुल टाइम
अवधि: 2 साल
एडमिशन प्रक्रिया: एडमिशन के लिए गेट क्वालिफाई करना जरूरी है.

कोर्स का नाम: मास्टर ऑफ टेक्नोलॉजी इन एनवायरमेंटल इंजीनियरिंग एंड मैनेजमेंट
कोर्स विवरण: इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग में इलेक्‍ट्रिसिटी के ट्रांसमिशन, डिस्ट्रीब्यूशन, जनरेशन, टेलीकम्यूनिकेशंस,  कंप्यूटर और माइक्रो प्रोसेसर जैसे सब्‍जेक्‍ट पढ़ाए जाते हैं.
श्रेणी: एनवायर्नमेंटल इंजीनियरिंग
डिग्री: एम. टेक.
कोर्स: फुल टाइम
अवधि: 2 साल.
एडमिशन प्रक्रिया: एडमिशन के लिए गेट क्वालिफाई करना जरूरी है.

फीस: आईआईटी कानपुर से इंजीनियरिंग करने पर आपको करीब 5 लाख रुपये खर्च करने होंगे.

प्रवेश प्रक्रिया: बी.टेक. में प्रवेश के लिए आईआईटी-जेईई परीक्षा पास करनी होती है. इसके लिए आॅनलाइन रजिस्ट्रेशन करना होता है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें