scorecardresearch
 

येस बैंक: मुश्किल में राणा कपूर, कोर्ट ने 11 मार्च तक ED की हिरासत में भेजा

मुंबई की सेशंस कोर्ट ने मनी लॉन्ड्रिंग के मामले में येस बैंक के संस्थापक राणा कपूर को 11 मार्च तक प्रवर्तन निदेशालय (ED) की हिरासत में भेजा है. ईडी के अधिकारियों के मुताबिक, राणा कपूर जांच में सहयोग में नहीं कर रहे थे.

11 मार्च तक ईडी की कस्टडी में रहेंगे राणा कपूर (फाइल फोटो) 11 मार्च तक ईडी की कस्टडी में रहेंगे राणा कपूर (फाइल फोटो)

  • राणा कपूर को लंबी पूछताछ के बाद किया गया गिरफ्तार
  • राणा कपूर की बेटियों से भी हो चुकी है पूछताछ

येस बैंक के संस्थापक राणा कपूर की मुश्किलें बढ़ती जा रही हैं. मुंबई की सेशंस कोर्ट ने मनी लॉन्ड्रिंग के मामले में उन्हें 11 मार्च तक प्रवर्तन निदेशालय (ED) की हिरासत में भेज दिया है. ईडी अधिकारियों के अनुसार, राणा कपूर को प्रिवेंशन ऑफ मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट (पीएमएलए) के तहत रविवार को सुबह करीब 3 बजे गिरफ्तार किया. अधिकारियों के मुताबिक, वह जांच में सहयोग में नहीं कर रहे थे.

इससे पहले ईडी के अधिकारियों ने करीब 15 घंटे से ज्यादा राणा कपूर से पूछताछ की. मैराथन पूछताछ के बाद ईडी ने उनकी गिरफ्तारी का फैसला किया. रविवार सुबह मेडिकल जांच के बाद राणा कपूर को कोर्ट में पेश किया गया. कुछ देर पहले ईडी ने राणा कपूर की पत्नी को भी तलब किया था. इससे पहले राणा कपूर की बेटियों से भी पूछताछ हो चुकी है.

ये भी पढ़ें- राणा कपूर की बढ़ेंगी मुश्किलें, ED के बाद जांच की तैयारी में सीबीआई

ईडी के बाद सीबीआई कसेगी शिकंजा

प्रवर्तन निदेशालय के बाद सीबीआई भी येस बैंक मामले की जांच करने जा रही है. इस बाबत सीबीआई के अधिकारी वित्त मंत्रालय, रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया और प्रवर्तन निदेशालय के अधिकारियों से बात कर रहे हैं. रिपोर्ट के मुताबिक, सीबीआई इस मामले में प्राथमिक जांच शुरू कर सकती है या फिर अलग से एक एफआईआर दर्ज कर जांच कर सकती है.

ये भी पढ़ें- राणा कपूर के परिवार को लोन के बदले मिला किकबैक!

सीबीआई ने बैंक फ्रॉड की जांच कर रही टीम के अधिकारियों से बात की है. शनिवार को सीबीआई की टीम प्रवर्तन निदेशालय के अधिकारियों से मिली थी. सीबीआई के एसपी सुवेज हक ने प्रवर्तन निदेशालय के संयुक्त निदेशक सत्यव्रत कुमार से मुलाकात की थी. इस दौरान दोनों के बीच केस के डिटेल को लेकर बातचीत हुई थी. इस मामले में प्रवर्तन निदेशालय ने कुछ दस्तावेज सीबीआई के साथ साझा किए हैं. अब तक ईडी इस केस की जांच कर ही है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें