scorecardresearch
 

केरल: RSS कार्यकर्ता की हत्या के आरोप में तीन गिरफ्तार

केरल के त्रिशूर के गुरुवयुर के पास नेनमेनी में हुई राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के एक कार्यकर्ता की हत्या के मामले में आज सुबह तीन व्यक्तियों को गिरफ्तार किया गया. पुलिस की गिरफ्त में आए तीन लोगों में फाजिल का भाई भी शामिल है. करीब चार साल फाजिल की हत्या हुई थी. आनंदन इस मामले में आरोपी था.

केरल के त्रिशूर के गुरुवयुर में हुई थी वारदात केरल के त्रिशूर के गुरुवयुर में हुई थी वारदात

केरल के त्रिशूर के गुरुवयुर के पास नेनमेनी में हुई राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के एक कार्यकर्ता की हत्या के मामले में आज सुबह तीन व्यक्तियों को गिरफ्तार किया गया. पुलिस की गिरफ्त में आए तीन लोगों में फाजिल का भाई भी शामिल है. करीब चार साल फाजिल की हत्या हुई थी. आनंदन इस मामले में आरोपी था.

एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि गिरफ्तार किए गए व्यक्तियों की पहचान फैज, कार्तिक और जितेश के रूप में की गई है. पकड़े तीनों आरोपी माकपा कार्यकर्ता है कि नहीं, पुलिस इसकी पुष्टि नहीं कर सकी है. पुलिस ने मामले में शामिल तीन संदिग्धों के खिलाफ सोमवार को लुकआउट नोटिस जारी कर तफ्तीश शुरू की थी.

12 नवंबर को 23 वर्षीय आनंदन अपनी मोटरसाइकिल से जा रहा था. तभी कार में सवार हमलावरों ने उसे टक्कर मारकर नीचे गिरा दिया. इसके बाद उसकी हत्या कर दी थी. बीजेपी इस हत्याकांड में माकपा को दोषी ठहरा रही है, वहीं मार्क्सवादी पार्टी ने बयान जारी कर इस मामले में अपनी भूमिका से इंकार कर दिया था.

इस वारदात के विरोध में बीजेपी ने गुरुवयुर और मनालूर में हड़ताल की थी. बीजेपी नेताओं ने यह भी आरोप लगाया कि पिछले साल मई में पी. विजयन की सरकार बनने के बाद से जिले में बीजेपी-आरएसएस के कार्यकर्ताओं की हत्या का यह तीसरा मामला है. सूबे में उनके खिलाफ जारी हिंसा फिलहाल थमने का नाम नहीं ले रही.

बीजेपी-आरएसएस पर लगातार हमले

इससे पहले केरल के कन्नूर में एक कार्यकर्ता पर जानलेवा हमला हुआ था. कार्यकर्ता का नाम निधीश है. कन्नूर जिले के इडाक्कड़ इलाके में उस पर जानलेवा हमला किया गया था. त्रिवेंद्रम में कुछ बदमाशों ने राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के कार्यकर्ता की हत्या कर दी थी. 34 वर्षीय राजेश का धारदार हथियार से एक हाथ काट दिया गया था.

केंद्रीय गृहमंत्री ने जताई थी चिंता

बीते जुलाई महीने में भी कन्नूर में बीजेपी-आरएसएस को निशाना बनाया गया था. उनमें आगजनी की घटना सामने आई थी. बीजेपी-संघ से जुड़े कुछ लोगों की दुकानों पर ब्लास्ट कर उन्हें आग के हवाले करने की घटना भी सामने आई थी. इन घटनाओं की केंद्र सरकार ने निंदा की थी. केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने चिंता जताई थी.

केरल में BJP की जन रक्षा यात्रा

सूबे में कार्यकर्ताओं की हत्या और हिंसा की घटनाओं के विरोध में बीजेपी ने 15 दिनों की 'जन रक्षा यात्रा' निकाला था. इस यात्रा में शामिल हुई केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने राज्य की लेफ्ट सरकार पर हमला बोला था. उन्होंने कहा था कि केरल की सीपीएम सरकार ने केरल जैसे खूबसूरत राज्य को राजनीतिक कब्रिस्तान बना दिया.

स्मृति ईरानी ने बोला हल्ला बोला

स्मृति ईरानी ने कहा था कि सीपीएम सोचती है कि वो हिंसा कर हमें डरा सकती है, लेकिन बीजेपी सिर कटवा सकती है, सिर झुका नहीं सकती. हमने देश बचाने के लिए लड़ाई करने की कसम खाई है. जन रक्षा यात्रा कर बीजेपी ने लेफ्ट पर जमकर हमला बोला था. बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह भी अक्टूबर में केरल पहुंचे थे.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें