scorecardresearch
 

पुलिस ने जल्द अंतिम संस्कार का दबाव बनायाः विजेंद्र गुप्ता

भारतीय जनता पार्टी के एक स्थानीय नेता ने आरोप लगाया है कि दिल्ली पुलिस ने सामूहिक दुष्कर्म की पीड़िता के शव का सूर्योदय से पहले अंतिम संस्कार करने के लिए उसके परिवार पर दबाव बनाया. पीड़िता का शव रविवार तड़के सिंगापुर से यहां पहुंचा था.

भारतीय जनता पार्टी भारतीय जनता पार्टी

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के एक स्थानीय नेता ने आरोप लगाया है कि दिल्ली पुलिस ने सामूहिक दुष्कर्म की पीड़िता के शव का सूर्योदय से पहले अंतिम संस्कार करने के लिए उसके परिवार पर दबाव बनाया. पीड़िता का शव रविवार तड़के सिंगापुर से यहां पहुंचा था.

भाजपा की दिल्ली इकाई के अध्यक्ष विजेंद्र गुप्ता ने बताया, 'परिवार के लोगों ने सूर्योदय से पहले शव का अंतिम संस्कार करने से इनकार कर दिया. लेकिन पुलिस ने उनपर अंतिम संस्कार करने के लिए दबाव बनाया. पीड़ित परिवार पर सूर्योदय से पहले अंतिम संस्कार करने का दबाव बनाया गया.'

पीड़िता का शव दक्षिणी दिल्ली में महावीर एन्क्लेव स्थित उसके आवास पर ले जाया गया, और वहां अंतिम संस्कार से पहले का कर्मकांड निपटाया गया. अंतिम संस्कार द्वारका सेक्टर-22 में स्थित एक शवदाह गृह में सम्पन्न हुआ. इस दौरान यहां पुलिस और त्वरित कार्रवाई बल (आरएएफ) के जवान बड़ी संख्या में तैनात थे.

गुप्ता ने कहा, 'भारी पुलिस बंदोबस्त के बीच रविवार सुबह लगभग 7.30 बजे पीड़िता का अंतिम संस्कार कर दिया गया, क्योंकि पीड़ित परिवार ने सुबह 6.30 बजे अंतिम संस्कार करने से इनकार कर दिया था. अंतिम संस्कार में देरी हुई और अंतत: सुबह 7.30 बजे अंतिम संस्कार कर दिया गया.'

एयर इंडिया का एक विशेष विमान पीड़िता के शव को लेकर रविवार तड़के 3.30 बजे सिंगापुर से दिल्ली हवाई अड्डे पर पहुंचा था. पीड़िता के परिजन शव के साथ थे.

ज्ञात हो कि गत 16 दिसम्बर को छह व्यक्तियों ने युवती के साथ चलती बस में दुष्कर्म किया और उसे तथा उसके पुरुष मित्र को बेरहमी से पीटने के बाद दोनों को सड़क किनारे फेंक दिया था। पीड़िता को दस दिनों तक सफदरजंग अस्पताल में रखा गया था। हालत बिगड़ने के बाद उसे सिंगापुर ले जाया गया था, जहां शनिवार तड़के उसने दम तोड़ दिया.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें